Saturday, July 13, 2024
Homeसोशल ट्रेंड'जब चाँद पर उतरे राकेश रोशन': ममता बनर्जी के बयान के बाद चर्चा में...

‘जब चाँद पर उतरे राकेश रोशन’: ममता बनर्जी के बयान के बाद चर्चा में ‘कोई मिल गया’, चंद्रयान-3 की सफलता के बाद ट्रोल हुए प्रभास

दरअसल, ममता बनर्जी ने राकेश शर्मा की जगह बॉलीवुड के डॉयरेक्टर राकेश रोशन को भारत का पहला अंतरिक्ष यात्री बता दिया है। साथ ही सोयुज टी-11 को एक चंद्रयान बताया, जबकि ये एक अंतरिक्ष कार्यक्रम था।

चंद्रयान-3 की सफलता के बाद बॉलीवुड की दो फिल्में भी सोशल मीडिया में चर्चा में हैं। इनमें से एक ऋतिक रोशन की ‘कोई मिल गया’ और दूसरी प्रभास स्टारर ‘आदिपुरुष’ है। कोई मिल गया की चर्चा पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के एक बयान के कारण हो रही है।

दरअसल, ममता बनर्जी ने राकेश शर्मा की जगह बॉलीवुड के डॉयरेक्टर राकेश रोशन को भारत का पहला अंतरिक्ष यात्री बता दिया है। साथ ही सोयुज टी-11 को एक चंद्रयान बताया, जबकि ये एक अंतरिक्ष कार्यक्रम था।

इस बयान के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री से नेटिजन्स पूछ रहे हैं कि कहीं उन्होंने चंद्रयान-3 की लैंडिंग का लाइव प्रसारण देखने की जगह राकेश रोशन की फिल्म ‘कोई मिल गया’ तो नहीं देख ली। दूसरी तरफ एक्टर प्रभास यूजर्स के निशाने पर इसलिए हैं, क्योंकि चंद्रयान-3 का बजट उनकी फिल्म ‘आदिपुरुष’ से भी कम है।

‘जब राकेश रोशन चाँद पर उतरे थे’

चंद्रयान-3 मून की कामयाबी के बधाई संदेशों के बीच ममता बनर्जी की एक वीडियो क्लिप वायरल हो रही। वीडियो में वो कहती नजर आ रही हैं, “मुझे याद है, जब राकेश रोशन चाँद पर उतरे थे तो इंदिरा गाँधी ने उनसे पूछा था कि वहाँ से भारत कैसा दिखता है।”

दरअसल चाँद पर सबसे पहले कदम रखने वाले भारतीय अंतरिक्ष यात्री का नाम राकेश शर्मा है। भारतीय वायु सेना के पायलट विंग कमांडर शर्मा ने अप्रैल 1984 में सोवियत अंतरिक्ष यान सोयुज टी-11 में उड़ान भरी थी। तब उस वक्त प्रधानमंत्री रही इंदिरा गाँधी ने शर्मा से पूछा कि अंतरिक्ष से भारत कैसा दिखता है, तो शर्मा ने जवाब दिया, “सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तान हमारा।”

सीएम की इस वीडियो क्लिप के वायरल होते ही उनसे सवाल होने लगे कि क्या वो ‘कोई मिल गया’ फिल्म देख के आई हैं। इस पर फैक्ट एक्स हैंडल यूजर ने ट्वीट किया, “दीदी चंद्रयान-3 की लैंडिग की जगह ‘कोई मिल गया’ देख के आई है, राकेश रोशन वाली।”

फिल्म ‘कोई मिल गया’ में राकेश रोशन ने अंतरिक्ष में एलियन के जीवन में विश्वास रखने वाले वैज्ञानिक का किरदार निभाया था। ये किरदार अंतरिक्ष में कुछ ध्वनि संकेत भेजता है। वर्षों बाद ‘जादू’ नाम का एक एलियन धरती पर आता है और उसका दोस्त बन जाता है।

एक्स हैंडल पर यूजर चार्ली के अकाउंट से लिखा गया है, “ममता दीदी और उनका राकेश रोशन कनेक्शन, दीदी कोई मिल गया नहीं चल रही है।” इसके साथ ही एक्टर राकेश रोशन के स्पेससूट पहने हुए मीम्स भी वायरल होने लगे हैं।

अरुण अधिकारी अपने एक्स हैंडल से लिखते हैं, “इंदिरा गाँधी के कार्यकाल में राकेश रोशन अंतरिक्ष में जाने वाले पहले भारतीय अंतरिक्ष यात्री। मुझे लगता है कि माननीय ममता बनर्जी मंच पर अपने भाषण से पहले ‘कोई मिल गया’ देख रही थीं।”

आदिपुरुष और एक्टर प्रभास भी हुए ट्रोल

इसरो के चंद्रयान-3 मिशन की कामयाबी के बीच प्रभास और कृति सेनन स्टारर फिल्म ‘आदिपुरुष’ एक बार फिर अपने भारी-भरकम बजट के लिए यूजर्स के निशाने पर हैं। रेडिट पर वायरल पोस्ट के मुताबिक, ओम राउत डॉयरेक्शन में ये फिल्म कथित तौर पर 600 करोड़ रुपए के बजट पर बनाई गई थी।

चंद्रयान-3 का बजट महज 615 करोड़ रुपए है। चंद्रयान-3 के लैंडर विक्रम और रोवर प्रज्ञान के चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर लैंड करते ही नेटिज़न्स ने एक फिल्म पर इतना पैसा खर्च करने के लिए इसके निर्माताओं और एक्टर प्रभास की आड़े हाथों लेना शुरू कर दिया। एक्टर प्रभास फिल्म में भगवान राम के किरदार में दिखे थे।

एक यूजर ने लिखा, ”आदिपुरुष के लिए 600 करोड़ रुपए , इसरो वैज्ञानिकों को देना चाहिए था।” एक अन्य ने कहा, ”एक और वजह है कि मशहूर हस्तियों को इतनी अहमियत नहीं दी जानी चाहिए। इन वैज्ञानिकों को सुरक्षा दीजिए। इन ‘सुपरस्टारों’ को नहीं।” एक यूजर ने कमेंट किया, ”यह काफी दुखद है। खासतौर पर इसलिए क्योंकि आदिपुरुष एक अच्छा प्रोडक्ट नहीं था।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -