Tuesday, June 25, 2024

विषय

अयोध्या ग्राउंड रिपोर्ट

राम-राम कहने पर मुँह में डाल दी लाठी, छाती में गोली मार सड़क पर घसीटी लाश: कारसेवक कमलाकांत पांडेय, मुलायम सरकार में छीना गया...

जानिए 1990 में बलिदान हुए कारसेवक कमलाकांत के बारे में जिनकी पत्नी का 'मंगलसूत्र' अयोध्या में सिर्फ राम-राम कहने पर नोच लिया गया था

‘बदलो मुन्नन खाँ चौराहे का नाम, किसी महापुरुष या क्रांतिकारी के नाम पर रखो’: ऑपइंडिया की खबर का असर, कॉन्ग्रेस नेता की भी माँग

कॉन्ग्रेस नेता सहित स्थानीय लोगों ने उठाई मुन्नन खाँ चौराहे का नाम बदलने की माँग। जबकि कुछ मुस्लिमों का कहना है - "मुन्नन चौराहा था, रहेगा।"

जिस मुन्नन खाँ को लोग बताते हैं कारसेवकों का हत्यारा, उसके नाम पर चौक-चौराहा और गाँव: सरकारी रिकॉर्ड में भी उसी का नाम, उसके...

PWD और पुलिस रिकॉर्ड में गोंडा से अयोध्या जाने वाले सड़क के चौराहे का नाम मुन्नन खाँ चौराहा है। उसके नाम पर खेल प्रतियोगिता भी होता है।

जाकिर नाइक का फैन है मुन्नन खाँ का बेटा मोहम्मद कासिम, खौफ बाप जैसा ही: CAA विरोधी हिंसा में था शामिल, SDM की किडनैपिंग...

मुन्नन खाँ के गैंगस्टर बेटे मोहम्मद कासिम पर सरकारी जमीन कब्ज़ाने सहित कई मामले दर्ज हैं। उस पर गैंगस्टर ऐक्ट भी लगा है।

SDM का अपहरण कर भट्ठे में झोंकने की कोशिश, दंगों के दौरान हिंदुओं पर अत्याचार: कारसेवकों का कातिल था मुन्नन खाँ, जिसे TheWire ने...

मुन्नन खाँ ना सिर्फ अपने गुर्गों से अयोध्या के कारसेवकों पर गोलियाँ चलवाकर उनका नरसंहार करवाया था, बल्कि उसने एक SDM का भी अपहरण करवा लिया था।

‘पुलिस नहीं, मुझ पर मुन्नन खाँ के वर्दी वाले गुर्गों ने चलाई थी गोली’: कारसेवक नरसंहार में जीवित बचे महंत ने बताया- मरा समझ...

1990 में घायल हुए रामस्वरूप का दावा है कि अयोध्या में उन्हें व उनके साथियों को गोली पुलिस ने नहीं बल्कि मुन्नन खाँ के गुर्गों ने मारी थी।

3000 नारी सेना संग रानी जयराज कुमारी ने मुगलों को चटाई धूल, शुरू करवाई थी रामजन्मभूमि पर पूजा: जहाँ पति और भाई ने पाई...

रानी जयराज कुमारी ने 3 हजार महिला सैनिकों को लेकर जीत ली थी रामजन्मभूमि। हुमायूँ द्वारा अयोध्या भेजी फ़ौज से लड़कर गर्भगृह में हुई थीं बलिदान।

राम जन्मभूमि से मुगलों को खदेड़ा, शुरू करवाई पूजा, करा रहे थे बाड़ेबंदी… जिस गर्भगृह के ‘अंगरक्षक’ थे राजा रणविजय सिंह, वहीं हुए बलिदान

भगवान राम से अत्यधिक प्रेम करने की वजह से राजा रणविजय सिंह ने गर्भगृह की रखवाली के लिए खुद को तैनात किया था। यहीं पर उन्होंने अंतिम साँस ली थी।

सिर फटने के बाद गमछा बाँधकर युद्ध लड़ने वाले देवीदीन पांडेय, 700 मुग़ल फौजियों को कर दिया था ढेर: राम मंदिर तोड़ने वालों पर...

राम मंदिर गिराए जाने से नाराज देवीदीन पांडेय ने शास्त्र रख कर उठा लिया था शस्त्र और 700 मुगलों को मार कर जन्मभूमि पर ही हो गए थे बलिदान

रानियों के काट डाले शीश, शिवलिंग पर निशान, कुएँ से निकले नरमुंड… जब राम जन्मभूमि को बचाने के लिए बाबर के बाद औरंगज़ेब से...

रानियाँ मुगल फ़ौज से बचने के लिए सोनारपुरवा में छिपी हुई थीं। यहाँ पहुँच कर औरंगज़ेब के हमराहों ने पहले इलाके को लूटा और फिर रानियों का उनके सेवकों सहित सिर काट डाला।

ताज़ा ख़बरें

प्रचलित ख़बरें