Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजजिस मुन्नन खाँ को लोग बताते हैं कारसेवकों का हत्यारा, उसके नाम पर चौक-चौराहा...

जिस मुन्नन खाँ को लोग बताते हैं कारसेवकों का हत्यारा, उसके नाम पर चौक-चौराहा और गाँव: सरकारी रिकॉर्ड में भी उसी का नाम, उसके नाम पर आयोजित होती है प्रतियोगिता

सन 1990 में बलरामपुर से सांसद और मुलायम सिंह यादव के करीबी रहे मुन्नन खाँ पर लोगों ने पुलिस की वर्दी पहनकर अयोध्या में कारसेवकों का नरसंहार करने का आरोप लगाया है। मुन्नन खाँ की मौत के बाद उसका बेटा कासिम खाँ अपने अब्बा की आपराधिक विरासत को संभाल रहा है। हमारी पड़ताल में यह भी निकल कर आया है कि मुन्नन के नाम पर न सिर्फ जगहों, बल्कि खेल प्रतियोगिताओं तक का नामकरण हुआ है।

अयोध्या में 22 जनवरी 2024 को भगवान रामलला की विधि-विधान से प्राण प्रतिष्ठा हो चुकी है। पिछले एक माह से अधिक समय से ऑपइंडिया की टीम ने ग्राउंड से लोगों को ऐसे कई गुमनाम रामभक्तों के बारे में बताया, जिन्होंने राम मंदिर के लिए 500 वर्ष तक चले संघर्ष एवं आंदोलन में अपने प्राणों की आहुति तक दे दी। इस बीच कुछ गुमनाम विलेन भी सामने आए, जिनमें से एक मुन्नन खाँ भी है।

सन 1990 में बलरामपुर से सांसद और मुलायम सिंह यादव के करीबी रहे मुन्नन खाँ पर लोगों ने पुलिस की वर्दी पहनकर अयोध्या में कारसेवकों का नरसंहार करने का आरोप लगाया है। मुन्नन खाँ की मौत के बाद उसका बेटा कासिम खाँ अपने अब्बा की आपराधिक विरासत को संभाल रहा है। हमारी पड़ताल में यह भी निकल कर आया है कि मुन्नन के नाम पर न सिर्फ जगहों, बल्कि खेल प्रतियोगिताओं तक का नामकरण हुआ है।

PWD के बोर्ड पर मुन्नन खाँ चौराहा

गोंडा में शहर के बाहरी हिस्से पर मुन्नन खाँ नाम से एक चौराहा है। गौर करने वाली बात ये है कि यह चौराहा उस अयोध्या मार्ग पर है, जहाँ मुन्नन खाँ द्वारा कारसेवकों के नरसंहार का आरोप है। यहाँ PWD के 2 बोर्ड लगे हैं। एक बड़ा बोर्ड सड़क के बीचों बीच लगा है, जबकि दूसरा दिशा सूचक के तौर पर प्रयोग होता है।

PWD द्वारा लगवाए गए इन दोनों बोर्ड पर अयोधा से गोंडा-तिराहे को मुन्नन खाँ चौराहा लिखा गया है। इस तिराहे पर अधिकतर दुकानें मुस्लिम समुदाय के लोगों की हैं। उन सभी दुकानों के बोर्ड पर मुन्नन खाँ चौराहा लिखा हुआ है। गूगल मैप की लोकेशन सर्च करने में भी इस जगह का नाम मुन्नन खाँ चौराहा ही आता है।

मुन्नन खाँ चौराहे पर PWD का बोर्ड गोंडा अयोध्या-रोड

चौराहे पर मुन्नन खाँ का घर और बेटे का ऑफिस

जब ऑपइंडिया की टीम मुन्नन खाँ चौराहे पर पहुँची तो पाया कि वहाँ मुन्नन खाँ का एक घर बना हुआ है। यहाँ पर मुन्नन अपने राजनैतिक चरम के दौरान रहा करता था। घर काफी बड़े हिस्से में बना हुआ है। बाउंड्री से सटकर ही बहराइच जिले को जाने वाला बाईपास बना है। बाहर मुन्नन खाँ और उसके अब्बा का शिलापट लगा हुआ है। घर के चारों तरफ बड़ी सी बाउंड्री है, जिसके बाहर कई गाड़ियाँ खड़ी थीं।

मुन्नन खाँ का घर

वहीं रोडवेज की तरफ जाने वाली सड़क पर मुन्नन खाँ के बेटे मोहम्मद आसिम खाँ ने अपना ऑफिस खोल रखा है। इसके आसपास टायर-पंचर आदि की दुकानें हैं।

मुन्नन के बेटे का ऑफिस

चौराहे के पास सड़क से सटी मज़ार

मुन्नन खाँ चौराहे से बहराइच जाने वाली सड़क के किनारे महज 100 मीटर के आसपास चलने पर एक हरे रंग की मजार दिखाई देती है। मजार पक्की है और इसे देखकर लगता है कि इसका हाल ही में रंगाई-पुताई की गई है। इस पर बाकायदा अगरबत्ती और चादरपोशी भी की हुई है। मजार की वजह से सड़क को दबाना पड़ा है, जिसकी वजह से यहाँ अक्सर जाम आदि की भी समस्या आती रहती है।

मुन्नन खाँ चौराहे के पास सड़क से सटी मजार

मुन्नन खाँ के नाम पर M.K. पेट्रोल पम्प, ग्राहकों से अभद्रता

मुन्नन खाँ चौराहे पर एक MK पेट्रोल पम्प है। यहाँ MK का फुल फॉर्म (मुन्नन खाँ) है। इसका पूरा नाम MK फिलिंग पॉइंट है। इस पेट्रोल पम्प की देखरेख और मालिकाना हक मुन्नन खाँ के एक अन्य बेटे सलाहुद्दीन खाँ के पास है। सलाहुद्दीन को पेट्रोल पम्प की डीलरशिप भारत पेट्रोलियम ने साल 2019 में दी है।

दरअसल, 18 मार्च 2022 को MSSM नाम के एक ग्राहक ने इस पेट्रोल पम्प पर कम मात्रा में तेल देने और ग्राहकों से खराब व्यवहार की शिकायत की थी। यह शिकायत Indiapl.com नाम की वेबसाइट पर रिव्यू सेक्शन में दर्ज करवाई गई है।

ग्राहक होने का दावा करने वाले व्यक्ति का आरोप है कि तेल भरवाने के बाद जब पर्ची माँगी जाती है तो पेट्रोल पम्प के कर्मचारी ग्राहकों से अभद्रता करते हैं। शिकायतकर्ता ने लोगों को किसी और टंकी पर तेल भरवाने की सलाह दी है। इस पेट्रोल पंप के रिव्यू में 5 में से महज एक स्टार दिया गया है।

MK फिलिंग के लिए एक ग्राहक का रिव्यू

पुलिस रिकॉर्ड में भी चौराहा मुन्नन खाँ के नाम पर

PWD (लोक निर्माण विभाग) के अलावा UP पुलिस भी अपने रिकॉर्ड में चौराहे को मुन्नन खाँ के नाम से ही दर्ज करती है। पुलिस के DCRB (डिस्ट्रिक्ट क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो) द्वारा इस इस चौराहे को मुन्नन खाँ के नाम से दर्ज किया गया है।

UP पुलिस के रिकॉर्ड में भी चौराहे का नाम मुन्नन खाँ

मुन्नन खाँ के नाम पर एक गाँव का पुरवा भी

गोंडा के कटरा बाजर थाना क्षेत्र में एक गाँव को भी लोग मुन्नन खाँ पुरवा बोलते हैं। इस नाम को बाकायदा onefivenine.com वेबसाइट पर गूगल मैप लोकेशन के साथ दर्ज भी करवाया गया है। इस जगह के मूल गाँव का नाम मोहन टेपरा है। यहाँ का पिनकोड 271126 है।

गोंडा शहर से इस पुरवा की दूरी लगभग 25 किलोमीटर है। यहाँ यह ध्यान देना जरूरी है कि मुन्नन खाँ ने अपने राजनैतिक करियर की शुरुआत इसी कटरा विधानसभा से विधायक के रूप में की थी। आज भी उसके परिवार के तमाम सदस्य कटरा के हरधर मऊ इलाके में रहते हैं।

गोंडा में मौजूद है मुन्नन खाँ का पुरवा भी

मुन्नन खाँ की याद में हर वर्ष क्रिकेट टूर्नामेंट

गोंडा जिले के कटरा बाजार में मुन्नन खाँ के नाम पर खेल प्रतियोगिताओं का आयोजन होता है। इन आयोजनों में मुन्नन खाँ क्रिकेट टूर्नामेंट भी शामिल है। यह आयोजन मुन्नन खाँ की मेमोरियल के तत्वाधान में होता है। टूर्नामेंट में गोंडा ही नहीं, बल्कि आसपास के जिलों की टीमें हिस्सा लेती हैं। बाकायदा माइक आदि बाँधे जाते हैं और आसपास के ग्रामीण दर्शक के तौर पर जमा होते हैं।

इस दौरान मैदान के चारों तरफ समाजवादी पार्टी के बड़े-बड़े होर्डिंग्स लगाए जाते हैं। इनमें से कई होर्डिंग्स में तो अखिलेश यादव के उर्दू भाषा में लिखे पोस्टर होते हैं। उर्दू में लिखे इन शब्दों को हिंदी में ‘खैर मक़दम इस्तक़बाल’ कहते हैं। इसका मतलब होता है कि ‘आपका स्वागत है’। बैनरों में सपा के अलावा मुन्नन खाँ के मौजूदा परिवारिक सदस्यों का जिक्र रहता है।

टूर्नामेंट के मैदान पर लगते हैं अखिलेश यादव के उर्दू में लिखे बैनर

इसके अलावा, मुन्नन खाँ का बेटा कासिम खाँ कटरा के हलधर मऊ में एक स्कूल चलाता है। इसका नाम यूनिटी पब्लिक स्कूल है। गोंडा शहर में मुन्नन खाँ और उनके परिजनों के अलावा रिश्तेदारों की भी कई जमीनें हैं। साल 2017 में कासिम खाँ पर गैंगस्टर ऐक्ट लगने के बाद जिला प्रशासन उन तमाम जमीनों की खोजबीन में भी जुटा था। नजूल की जमीन पर पुलिस ने अवैध निर्माण बताकर कार्रवाई भी की थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

राहुल पाण्डेय
राहुल पाण्डेयhttp://www.opindia.com
धर्म और राष्ट्र की रक्षा को जीवन की प्राथमिकता मानते हुए पत्रकारिता के पथ पर अग्रसर एक प्रशिक्षु। सैनिक व किसान परिवार से संबंधित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -