Thursday, August 5, 2021

विषय

Government Encroachment on Hindu Temples

मंदिर की जमीन, मंदिर का पैसा, मंदिर के लिए ही: हाई कोर्ट ने तो कह दिया, सरकारी शिकंजे से मुक्ति कब?

मंदिरों पर सरकारी नियंत्रण तो मस्जिद और चर्च पूर्ण रूप से स्वशासी क्यों? अदालत ने भी कह दिया है मंदिर का धन सबसे पहले उनके रख-रखाव पर हो खर्च।

चारधाम देवस्थानम बोर्ड: उत्तराखंड के मंदिरों के प्रबंधन में आवश्यक है सरकार की भूमिका, जानिए कारण

आर्थिक स्तर पर दक्षिण भारत के मंदिरों और उत्तर भारत के मंदिरों की तुलना करेंगे तो सब स्पष्ट हो जाएगा। आपदा प्रभावित उत्तराखंड के मंदिर...

यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ, बद्रीनाथ समेत 51 हिन्दू मंदिर होंगे सरकारी नियंत्रण से मुक्त: CM तीरथ सिंह रावत

राज्य में अधिनियम के कारण फिलहाल बद्रीनाथ और केदारनाथ समेत 51 हिन्दू मंदिर सरकारी नियंत्रण में थे, विरोध के चलते रद्द हुआ निर्णय।

राम मंदिर: हक हिन्दुओं का होना चाहिए, ‘सेक्युलरासुर’ सरकार का नहीं

सत्ता के परिवर्तन और समय के चक्र से कभी-न-कभी कॉन्ग्रेस, माकपा, हिन्दू कारसेवकों पर गोली चलवाने वाले 'मुल्ला मुलायम' की सपा जैसे लोग वापिस आ ही जाएँगे। उस समय अगर राम मंदिर सरकारी नियंत्रण में रहे तो क्या होगा, ये कभी सोचा है?

देवी की साड़ियों पर अर्चक का अधिकार, फिर भी पुलिस ने किया झूठे आरोप में गिरफ्तार

रंगराजन ने अर्चक पर झूठे आरोप को दुर्भाग्यपूर्ण और पुलिस के अधिकार-क्षेत्र के बाहर बताते हुए पुलिस पर उन्हें प्रताड़ित करने का आरोप भी लगाया। उन्होंने राज्य के Endowments विभाग से दो सवाल भी पूछे......

8 घटनाएँ मंदिरों की अमानत में खयानत की: क्या किसी सरकार ने इसकी सुध ली?

हिन्दू खुद ही न इस मुद्दे पर जागरुक है न उद्वेलित, इसलिए सरकारें भी मस्त नींद से ग्रस्त हैं। जानना ज़रूरी है कि मंदिरों की हुंडी में, दान-पेटिका में जो पैसा श्रद्धालु अपने देवता के प्रति कृतज्ञता में, मंदिर के काम के लिए, पुजारी जी की आजीविका के लिए डालते हैं, उस पैसे पर सरकारें कैसे डाका डालती हैं।

20000 एकड़ मंदिरों की ज़मीन पर अवैध कब्जा, तेलंगाना सरकार ने सब खाली कराने का दिया आदेश

हिन्दू मंदिरों की ज़मीनों पर काफ़ी समय से यह फर्जीवाड़ा जारी है। 20124.08 एकड़ की मंदिरों की ज़मीन पर अवैध कब्ज़ा हुआ है। यह कब्ज़ा ऐसे होता है कि मंदिर की ज़मीन जिसे रियायती दरों पर किराए पर दी जाती है, वह उसका प्रयोग खुद न कर आगे दूसरों को ज़्यादा महंगे दामों पर किराए पर दे देते हैं।

ताज़ा ख़बरें

प्रचलित ख़बरें

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,029FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe