Sunday, July 25, 2021

विषय

जंगलराज की कहानी

शहाबुद्दीन… सब इंस्पेक्टर रामसागर सिंह याद आए, पत्रकार राजदेव रंजन याद आए

शहाबुद्दीन की मौत कोरोना संक्रमण से हुई केवल एक और मौत नहीं है। यह उस डर की मौत है, जो उसके होने से पैदा होता था।

लालू का करीबी जो जेल में रहते MLC बना, रंगदारी की.. जिस BJP नेता की हत्या की, उसी की पत्नी के खिलाफ लड़ रहा...

रीतलाल यादव RJD के टिकट पर जिसके खिलाफ चुनाव लड़ रहा है, उस भाजपा प्रत्याशी के पति की हत्या का आरोप भी रीतलाल पर है।

दलित IAS ऑफिसर को भीड़ ने मौत होने तक मारा… गुंडे नहीं बिहार के माननीय विधायक-सांसद थे मारने के आरोपी

जज ने आरोपित किए गए 36 में से 29 लोगों को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया। आनंद मोहन की पत्नी लवली आनंद, मुन्ना शुक्ला, शशि शेखर और...

लालू के 3 साल के बेटे को गिफ्ट में 13 एकड़ जमीन: जिसने दी थी, उनके मंत्री पति को दिनदहाड़े AK-47 से भून दिया

बिहार के मंत्री रहे राजद नेता बृजबिहारी प्रसाद की हत्या के लिए उत्तर प्रदेश के कुख्यात अपराधी और शूटर श्रीप्रकाश शुक्ल की मदद ली गई।

छपरा के ‘नाथ’ जिसे अपने ही चेले से मिली हार तो बदले में उसे बम से उड़ाया, RJD से बेटा लड़ रहा चुनाव

सियासत में कूदने से पहले ही प्रभुनाथ का आस्तीन दाग़दार हो चुका था। 1980 में मशरक के विधायक रामदेव सिंह की हत्या हुई थी और आरोप लगा था प्रभुनाथ सिंह पर।

समुदाय विशेष को BJP का डर भी दिखाया, ‘जात’ देख कर आरोपित को भी बचाया: लालू यादव का MY समीकरण

उन्हें जम कर भाजपा का डर दिखाया। इससे वो मुस्लिमों के मसीहा भी बने रहे और यादवों का वोट भी उन्हें मिलता रहा। इस तरह उन्होंने MY समीकरण बना कर राज किया।

32 लाख से ₹353 लाख… सिर्फ 10 साल में: वो MLA जिसकी सदस्यता खुद नीतीश ने करवाई थी रद्द, अभी भी हैं विधायक

नीरज कुमार बबलू JDU के टिकट पर 3 बार विधायक रह चुके हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने विधानसभा से इनकी सदस्यता खत्म करवा दी थी, लेकिन...

खून पर खून और खून के बदले खून: बिहार में जातीय नरसंहार के बूते लालू ने कुछ यूँ खड़ी की थी ‘सामाजिक न्याय’ की...

अगस्त 12-13, 1992 का दिन। गया जिला का बारा गाँव। माओवादियों ने इलाके को घेरा और 'भूमिहार' जाति के 35 लोग घर से निकाले गए। पास में एक नहर के पास ले जाकर उनके हाथ बाँधे गए और सबका गला रेत कर मार डाला गया। लालू राज में जाति के नाम पर ऐसी न जाने कितनी घटनाएँ हुईं।

‘लालू के रेल’ की तरह ही था बिहार का ‘चरवाहा विद्यालय’: जिस काम में लगे 6 विभाग, वो बना शराब, जुआ और ताश का...

चरवाहा स्कूल को चलाने की जिम्मेदारी कृषि, सिंचाई, उद्योग, पशु पालन, ग्रामीण विकास और शिक्षा विभाग को दी गई थी। लालू ने एक तरह से बच्चों पर ज़िंदगी भर के लिए 'चरवाहा' का टैग लगा दिया।

सूरजभान सिंह: वो बाहुबली, जिसके जुर्म की तपिश से सिहर उठा था बिहार, परिवार हो गया खाक, शर्म से पिता और भाई ने की...

कामदेव सिंह का परिवार को जब पता चला कि सूरजभान ने उनके किसी रिश्तेदार को जान से मारने की धमकी दी है तो सूरजभान को उसी के अंदाज में संदेश भिजवाया गया- “हमने हथियार चलाना बंद किया है, हथियार रखना नहीं। हमारी बंदूकों से अब भी लोहा ही निकलेगा।”

ताज़ा ख़बरें

प्रचलित ख़बरें

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,067FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe