Friday, May 20, 2022
Homeवीडियोव्यंग्य: कन्हैया कुमार का इंटरव्यू, बिहार चुनाव में टिकट नहीं मिला | Ajeet Bharti...

व्यंग्य: कन्हैया कुमार का इंटरव्यू, बिहार चुनाव में टिकट नहीं मिला | Ajeet Bharti roasts Kanhaiya

साक्षात्कार में अजीत भारती ने उन्हें निर्दलीय चुनाव ल़ड़ने की सलाह भी दी, मगर लिंगलहरी बनकर मूत्र विसर्जन करने वाले कन्हैबा ने साफ कहा कि वो अब जिला परिसद का चुनाव देखेंगे और पंचायत चुनावों को ही अपना टारगेट लेकर चलेंगे।

बिहार चुनाव में टिकट न मिल पाने के कारण लाल सलाम वाले कन्हैया कुमार का कहना है कि वह किसी विचारधारा का चेहरा नहीं हैं जबकि ये बात जगजाहिर है कि जेएनयू में ‘आजादीईईई’ के नारे लगाने से लेकर वामपंथी पार्टी से चुनाव लड़ने तक उन्होंने किस आइडियोलॉजी का समर्थन किया।

आज उनकी ऐसे ही ‘दोगलेपन’ के कारण उन्हें केवल कामभक्त माओवंशी लमप्ट समुदाय और गिरोह विशेष के पत्रकार और R&Dtv जैसे संस्थान ही इज्जत देते हैं।

यही कारण है जब ऑपइंडिया संपादक ने उनसे बातचीत की तो उन्हें कई दफा शर्मिंदा होना पड़ा। कभी उन्होंने ‘संघी-संघी’ कहकर जवाब देने में टाल-मटोल किया, तो कभी स्थान विशेष का ही मतलब पूछ लिया।

साक्षात्कार में अजीत भारती ने उन्हें निर्दलीय चुनाव ल़ड़ने की सलाह भी दी, मगर लिंगलहरी बनकर मूत्र विसर्जन करने वाले कन्हैबा ने साफ कहा कि वो अब जिला परिसद का चुनाव देखेंगे और पंचायत चुनावों को ही अपना टारगेट लेकर चलेंगे।

पूरा वीडिया यहाँ लिंक करके देखें

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारती
अजीत भारती
पूर्व सम्पादक (फ़रवरी 2021 तक), ऑपइंडिया हिन्दी

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कॉन्ग्रेस पर प्रशांत किशोर का डायरेक्ट वार: चिंतन शिविर पर उठाए सवाल, कहा- गुजरात-हिमाचल में भी होगी हार

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने कॉन्ग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि इस चिंतन शिविर से पार्टी में कुछ बदलाव नहीं आने वाला है।

औरंगजेब मंदिर विध्वंस का चैंपियन, जमीन आज भी देवता के नाम: सुप्रीम कोर्ट को बताया क्यों ज्ञानवापी हिंदुओं का, कैसे लागू नहीं होता वर्शिप...

सुप्रीम कोर्ट में जवाबी याचिका में हिंदू पक्ष ने ज्ञानवापी मामले में कहा कि औरंगजेब ने मंदिर ध्वस्त कर भूमि को किसी को सौंपा नहीं था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
187,460FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe