Wednesday, June 19, 2024
Homeवीडियोसफूरा जरगर, छात्रा या रतन लाल की हत्या में शामिल दंगाई? | Ajeet Bharti...

सफूरा जरगर, छात्रा या रतन लाल की हत्या में शामिल दंगाई? | Ajeet Bharti on Safoora Zargar’s role in Ratan Lal murder

रतन लाल की हत्या में सफूरा का नाम मुख्य साजिशकर्ता में शामिल है। इस दंगे की पूरी प्लानिंग की गई थी। सफूरा जरगर और अन्य दंगाइयों को पहले से ही पता था कि इसका अंजाम कितना खतरनाक होने वाला है। रतन लाल की मौत से 2 दिन पहले 50 लोगों ने मीटिंग की और 24 फरवरी को ये अपने मंसूबे में कामयाब हो गए।

दिल्ली के हिंदू विरोधी दंगा मामले में आरोपित सफूरा जरगर के लिए मजहब, गर्भवती, स्टूडेंट जैसे विशेषणों का प्रयोग कर उसके ‘पापों’ और ‘अपराधों’ को छुपाने का प्रयास किया जा रहा है। चार्जशीट के मुताबिक सफूरा भी पुलिस हेड कॉन्सटेबल रतन लाल की हत्या की उतनी ही जिम्मेदार है, जितनी कि दंगाइयों की भीड़।

रतन लाल की हत्या में सफूरा का नाम मुख्य साजिशकर्ता में शामिल है। इस दंगे की पूरी प्लानिंग की गई थी। सफूरा जरगर और अन्य दंगाइयों को पहले से ही पता था कि इसका अंजाम कितना खतरनाक होने वाला है। रतन लाल की मौत से 2 दिन पहले 50 लोगों ने मीटिंग की और 24 फरवरी को ये अपने मंसूबे में कामयाब हो गए। इसमें बुर्के वाली महिलाएँ भी शामिल थी। इनकी साजिश काफी गहन, गहरी और काफी अच्छे तरीके से प्लान किया गया था। भीम आर्मी पार्टी के मार्च का नेतृत्व भी सफूरा जरगर कर रही थी।

पूरा वीडियो यहाँ क्लिक कर के देखें।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारती
अजीत भारती
पूर्व सम्पादक (फ़रवरी 2021 तक), ऑपइंडिया हिन्दी

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -