Wednesday, July 28, 2021
Homeवीडियोकैसा दिखता है वैज्ञानिक कृषि वाला खेत: अजीत भारती का वीडियो | Raj Narayan's...

कैसा दिखता है वैज्ञानिक कृषि वाला खेत: अजीत भारती का वीडियो | Raj Narayan’s farm and training centre, Keshabe

यहाँ पर हमने कृषक एवं प्रशिक्षक राज नारायण से मुलाकात की और इसके बारे में जानने की कोशिश की। राज नारायण माइक्रो ट्रेनिंग सेंटर चलाते हैं। इस दौरान हमने जानने की कोशिश की कि ये किस तरह से कृषि, गौपालन आदि करते हैं और इसे समाज में भी ले जाने की कोशिश करते हैं।

वैज्ञानिक कृषि के बारे में जानने के लिए हम बेगूसराय के केशाबी गाँव पहुँचे। यहाँ पर हमने कृषक एवं प्रशिक्षक राज नारायण से मुलाकात की और इसके बारे में जानने की कोशिश की। राज नारायण माइक्रो ट्रेनिंग सेंटर चलाते हैं। इस दौरान हमने जानने की कोशिश की कि ये किस तरह से कृषि, गौपालन आदि करते हैं और इसे समाज में भी ले जाने की कोशिश करते हैं।

इनका एक ट्रेनिंग सेंटर चलता है। राज नारायण यहाँ पर आए लोगों को न सिर्फ कृषि से संबंधित किताबी ज्ञान देते हैं, बल्कि उन्हें खेतों में भी ले जाते हैं। राज नारायण ने बताया कि अभी उनके पास ज्यादातर क्रॉस ब्रीड की गायें हैं, लेकिन वो देशी नस्ल की गायों का अनुपात बढ़ा रहे हैं, क्योंकि इनका रख-रखाव वातावरण के हिसाब से आसान है। यह गाय दूध कम देती है, लेकिन उसकी गुणवत्ता काफी अच्छी होती है।

वैज्ञानिक कृषि फार्म के बारे में जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारती
पूर्व सम्पादक (फ़रवरी 2021 तक), ऑपइंडिया हिन्दी

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘विधानसभा में संपत्ति नष्ट करना बोलने की स्वतंत्रता नहीं’: केरल की वामपंथी सरकार को सुप्रीम कोर्ट की फटकार, ‘हुड़दंगी’ MLA पर चलेगा केस

केरल विधानसभा में 2015 में हुए हंगामे के मामले में एलडीएफ ​विधायकों पर केस चलेगा। सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट का फैसला बरकरार रखा है।

जाति है कि जाती नहीं… यूपी में अब विकास दुबे और फूलन देवी भी नायक? चुनावी मेंढक कर रहे अपराधियों का गुणगान

किसी को ब्राह्मण के नाम पर विकास दुबे और श्रीप्रकाश शुक्ला तो किसी को निषाद के नाम पर फूलन देवी याद आ रही है। वोट के लिए जातिवाद में अपराधियों को ही नायक क्यों बनाया जाता है?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,617FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe