Saturday, May 21, 2022
Homeव्हाट दी फ*शराब और सिगरेट की ऐसी लत! 14 साल से एयरपोर्ट पर ही रह रहा...

शराब और सिगरेट की ऐसी लत! 14 साल से एयरपोर्ट पर ही रह रहा है ये शख्स, कहा – ‘घर में नहीं चलती मेरी मर्जी’

2008 में उनका घर पर परिवार वालों के साथ किसी बात को लेकर मनमुटाव हो गया। इसके बाद उन्होंने एयरपोर्ट को आशियाना बना लिया।

लोग किस हद तक अपनी लतों के आदी होते हैं, इसका उदाहरण चीनी व्यक्ति वेई जियानगुओ (Wei Jianguo) के रूप में देख सकते हैं। इन्हें शराब और स्मोकिंग की ऐसी लत लगी है कि यह 14 सालों से एयरपोर्ट पर जिंदगी गुजार रहे हैं। ऐसा इसलिए, क्योंकि यहाँ पर अपनी मर्जी के हिसाब से स्मोकिंग और ड्रिंकिंग कर सकते हैं। यहाँ उन्हें रोक-टोक करने वाला कोई नहीं है।

चाइना डेली के मुताबिक, वह अपने घर लौटना भी नहीं चाहते हैं, क्योंकि वहाँ पर रहने के लिए उन्हें यह सबकुछ छोड़ना पड़ेगा। शख्स ने 2018 में ‘चाइना डेली’ से कहा था, “मैं घर वापस नहीं जाऊँगा, क्योंकि मुझे वहाँ कोई आजादी नहीं है। मेरे परिवार ने कहा कि अगर मुझे घर में रहना है, तो सिगरेट और शराब छोड़नी होगी। अगर मैं ऐसा नहीं करता तो मुझे हर महीने मिलने वाला 1000 युआन का सरकारी भत्ता उन्हें देना होगा। लेकिन फिर मैं अपने लिए सिगरेट और शराब कैसे खरीद सकूँगा?” बता दें, शख्स का घर एयरपोर्ट से लगभग 12 किलोमीटर दूर वांगजिंग में है है।

डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक, 2008 में उनका घर पर परिवार वालों के साथ किसी बात को लेकर मनमुटाव हो गया। इसके बाद उन्होंने एयरपोर्ट को आशियाना बना लिया। उन्होंने कई रातें रेलवे स्टेशनों पर भी सोकर बिताई है। फिलहाल उनका बसेरा टर्मिनल 2 पर है, पर वह कभी-कभी टर्मिनल 3 पर भी जाते हैं। टर्मिनल के वेटिंग एरिया में वेई के पास उनके भोजन, पेय पदार्थ, सामान और स्लीपिंग बैग का एक सेट है।

वेई जब 40 साल के थे, तभी उन्हें नौकरी से निकाल दिया गया और अब उन्होंने नई नौकरी ढूँढनी भी छोड़ दी है, क्योंकि उन्हें लगता है कि अब उनकी उम्र काफी ज्यादा हो गई है। बता दें कि वह 60 साल के हैं। वेई ने कहा कि उन्हें अक्सर पुलिस और सुरक्षाकर्मी वांगजिंग स्थित उनके घर ले जाते हैं। लेकिन किसी तरह वह हमेशा किसी न किसी तरह से हवाई अड्डे पर वापस आने में कामयाब हो जाते हैं। चाइना डेली ने बताया कि वेई एयरपोर्ट पर रहने वाले अकेले इंसान नहीं है। दुनिया के सबसे प्रसिद्ध हवाई अड्डे के निवासी ईरानी मेहरान करीमी नासेरी हैं, जो 1988 से 2006 तक पेरिस चार्ल्स डी गॉल के टर्मिनल वन पर 18 साल तक रहे थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिखों के जख्म पर नमक छिड़क राजीव गॉंधी को अधीर रंजन चौधरी ने दी श्रद्धांजलि, कॉन्ग्रेस नेता ने लिखा- जब कोई बड़ा पेड़ गिरता...

लोकसभा में कॉन्ग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने राजीव गाँधी की की बरसी पर श्रद्धांजलि देते हुए विवादित ट्वीट कर के फिर उसे डिलीट कर दिया।

एक चिंगारी और पूरे भारत में लग जाएगी आग… कैम्ब्रिज में बैठ राहुल गाँधी ने उगला देश विरोधी जहर, कहा- हालात अच्छे नहीं

कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी ने यूके के कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में 'आइडियाज फॉर इंडिया' के नाम पर जम कर नकारात्मकता फैलाई। पढ़िए क्या-क्या कहा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
187,690FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe