Wednesday, April 14, 2021
37 कुल लेख

विभव देव शुक्ला

जमीन का पता नहीं, सोशल मीडिया में हवाबाजी की तैयारी: सिकुड़ती कॉन्ग्रेस का 5 लाख ‘वॉरियर्स’ से कितना भला?

जमीन पर सिकुड़ती और पहचान की संकट से जूझ रही कॉन्ग्रेस ने 5 लाख ‘सोशल मीडिया वॉरियर्स’ का दस्ता तैयार करने का ऐलान किया है।

2 दिन तक पति के शव के पास बिलखती रहीं सुनीता, कल्याण का हाथ छोड़ सैलाब में बह गई पत्नी: केदारनाथ का वह प्रलय

केदारनाथ में आई उस प्रलय में हज़ारों लोग काल-कवलित हो गए थे। कुछ खुशकिस्मत थे। उनकी आपबीती दिल दहला देने वाली हैं।

नदी का छोर, 150 से 200 लाशें, नग्न, अर्धनग्न और सड़ी-गली: उत्तराखंड का वह प्रलय जिसमें तबाह हो गया था केदारनाथ

उत्तराखंड में ग्लेशियर फटने से तबाही मची है। ग्लेशियर फटने की इस घटना ने 2013 के दौरान केदारनाथ में आई प्रलय की भयावह स्मृतियाँ ताज़ा कर दी है।

मुनव्वर फारूकी ने कोई ‘जोक क्रैक’ नहीं किया तो जैनब सच-सच बतलाना कमलेश तिवारी क्यों रेता गया

कितनी विचित्र विडंबना है, धार्मिक भावनाएँ आहत होती हैं और उनका विरोध होता है तो साम्प्रदायिकता! लेकिन मज़हबी जज़्बात आहत होते हैं तो...।

3 महीने पहले इस्लाम छोड़ मोहम्मद अनवर बने थे देव प्रकाश, कट्टरपंथियों ने जला डाला घर: एक्शन में UP पुलिस

देव प्रकाश पटेल धर्मांतरण से पहले फ़कीर बिरादरी से ताल्लुक रखते थे। उनके 2 बेटे और एक बेटी थी। आस-पास रहने वाले हिन्दू परिवारों ने...

हिन्दू धर्म त्यागने वालों को पुनः हिन्दू बनाना: वो पंडित मदन मोहन मालवीय, जो अपने परिचय को लेकर थे स्पष्ट

पंडित मदन मोहन अपने परिचय को लेकर स्पष्ट थे। अस्पृश्यता निवारण और शुद्धि (हिन्दू धर्म त्यागने वालों को पुनः हिन्दू बनाना) के घोर समर्थक थे।

6 दिसंबर 1992 इस बात का प्रमाण है कि ‘अयोध्या’ वही है, जिसे युद्ध में पराजित नहीं किया जा सकता

“श्रीराम को अयोध्या से अलग करने का कोई प्रश्न ही नहीं। अयोध्या की पहचान ही राम से है, हिन्दुओं की आस्था के गलत होने का कोई प्रमाण नहीं।”

‘स्टैचू ऑफ यूनिटी या ताजमहल?’ – स्टैचू ऑफ लिबर्टी से भी ज्यादा पर्यटकों के आँकड़े चिढ़ा रहे ध्रुव राठी को

यूट्यूब की जनता को एंगेज रखना है, खुद को वामपंथी ब्रिगेड की यूथ विंग का मुखिया साबित करना है तो यह सब करना ही पड़ेगा। सरकार को गाली...

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,173FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe