Thursday, May 6, 2021
Home राजनीति जमीन का पता नहीं, सोशल मीडिया में हवाबाजी की तैयारी: सिकुड़ती कॉन्ग्रेस का 5...

जमीन का पता नहीं, सोशल मीडिया में हवाबाजी की तैयारी: सिकुड़ती कॉन्ग्रेस का 5 लाख ‘वॉरियर्स’ से कितना भला?

जमीन के साथ पहचान की संकट से जूझ रही कॉन्ग्रेस जब तक इन समस्याओं का समाधान नहीं तलाशती, सोशल मीडिया वॉरियर्स जैसे फैसलों से शायद ही उसका भला हो!

भारतीय राष्ट्रीय कॉन्ग्रेस एक नया राजनीतिक पैंतरा लेकर आई है। कॉन्ग्रेस लगभग 5 लाख ‘सोशल मीडिया वॉरियर्स’ तैनात करेगी। लेकिन इस ख़बर के सामने आते ही मज़बूत सवाल खड़ा होता है, क्या राजनीतिक ज़मीन पर लड़खड़ाती कॉन्ग्रेस को ऐसे फैसलों की ज़रूरत है? हाल-फ़िलहाल की राजनीति का सबसे सरल सवाल है कि देश के कितने राज्यों में कॉन्ग्रेस की सरकार बची है। इसका जवाब कोई भी आम इंसान अपनी ऊँगलियों पर गिन सकता है। आखिर अस्तित्व के लिहाज़ से सबसे पुराना राजनीतिक दल नाकामी के इस पड़ाव पर पहुँचा कैसे? 

इस समझने के लिए 2019 के आम चुनावों में कॉन्ग्रेस के ‘वोट शेयर’ पर गौर करिए। 2014 के आम चुनाव में कॉन्ग्रेस को 44 सीटें हासिल हुई थीं और 2019 के आम चुनाव में 52। 2014 की तुलना में 2019 के दौरान सीटों की संख्या में भले नाममात्र का इज़ाफा हुआ हो, लेकिन दोनों चुनावों के दौरान कॉन्ग्रेस का वोट शेयर लगभग 19 से 20 फ़ीसदी के बीच ही रहा। 2009 के आम चुनावों में कॉन्ग्रेस को 28 फ़ीसदी वोट मिले थे और इस आँकड़ें के आधार पर एक बात स्पष्ट हो जाती है। अगर आज की तारीख में भी चुनाव होते हैं और वोट शेयर 8-10 फ़ीसदी बढ़ता है (जिसकी कोई उम्मीद नहीं दिखती) फिर भी कॉन्ग्रेस के लिए स्थिति संतोषजनक नहीं होगी। 

यह तो आम चुनावों की बात हो गई, कुछ विधानसभा चुनावों की ओर भी गौर कर लेते हैं, शुरुआत बिहार विधानसभा चुनाव 2020 से! यह चुनाव एक लिहाज़ से हर राजनीतिक दल के लिए नया था, महामारी के बाद होने वाला पहला चुनाव! रैलियों में सीमित भीड़, चुनाव आयोग के हिस्से की चुनौतियाँ, ऑनलाइन जनसभा और जनसंपर्क। यानी क्षेत्रीय दल से लेकर राष्ट्रीय दल तक, सभी के सामने कई चुनौतियों का स्वरूप एक जैसा था। जिस बिहार विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी 74 सीटें जीत कर दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभरी। ठीक उसी चुनाव में कॉन्ग्रेस महज़ 19 सीटों पर सिमट कर रह गई।  

2019 में हुआ महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव का नज़ारा भी कॉन्ग्रेस के लिए कुछ अलग नहीं था। आज भले महाराष्ट्र में शिवसेना, एनसीपी और कॉन्ग्रेस की गठबंधन सरकार है, लेकिन इस चुनाव में भी कॉन्ग्रेस का प्रदर्शन औसत से भी बदतर था। जहाँ 100 से अधिक सीटें हासिल करके भाजपा राज्य की इकलौती सबसे बड़ी पार्टी साबित हुई थी, वहीं कॉन्ग्रेस सिर्फ 44 सीटों पर सिमट कर रह गई थी। ठीक यही स्थिति बनी झारखंड के विधानसभा चुनावों में जिसमें कॉन्ग्रेस को सिर्फ 16 सीटें हासिल हुई थीं। 

इसके अलावा एक और ऐसा चुनाव है, जो फ़िलहाल लोगों के ज़ेहन में शायद उतना ताज़ा नहीं होगा लेकिन असल मायनों में इस विधानसभा चुनाव ने कॉन्ग्रेस की ज़मीन को कहीं ज़्यादा खोखला किया था। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017 जब समाजवादी पार्टी और कॉन्ग्रेस के ‘युवा नरेश’ ने साथ चुनाव लड़ा और नतीजा ये रहा कि अखिलेश यादव से एक साल बड़े और राहुल गाँधी से एक साल छोटे आदित्यनाथ मुख्यमंत्री चुने गए। इस चुनाव में भाजपा को तीन चौथाई बहुमात हासिल हुआ था और सपा-कॉन्ग्रेस गठबंधन को सिर्फ 50 से अधिक सीटें हासिल हुई थीं। 

यह तो फिर भी आँकड़ों के आधार पर पेश की गई दलीलें हैं। इसके बाद आती हैं वो दलीलें जो तार्किक हैं और प्रासंगिक भी हैं! जितना आसान कॉन्ग्रेस शासित राज्यों को ऊँगलियों पर गिनना है, ठीक उतना ही आसान इस दल की गलतियाँ पहचानना भी है। इसकी सबसे बड़ी दो मिसाल हैं, संगठन के भीतर ‘युवा बनाम बुजुर्ग’ और ‘अध्यक्ष एक खोज’। 2018 के मध्य प्रदेश विधानसभा चुनावों के नतीजों के बाद कमलनाथ मुख्यमंत्री चुने गए। एक साल तक सरकार किसी तरह चली, लेकिन फिर शुरू हुआ कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच बयानबाज़ी का दौर। सिंधिया बगावती हुए और कॉन्ग्रेस की सरकार गिर गई। भले सब कुछ सही होने के अनेक दावे किए गए हों, लेकिन इस राजनीतिक उलटफेर ने कॉन्ग्रेस की बड़े पैमाने पर किरकिरी कराई। 

कुछ ही समय बाद ठीक ऐसी ही सूरत की राजनीतिक अदावत नज़र आई राजस्थान कॉन्ग्रेस में। अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच भी इतनी तीखी बयानबाज़ी हुई कि कोई सरकार के सत्ता में बने रहने को लेकर आशावादी नहीं था। कई दिनों तक चले इस सियासी खींचतान में भी कॉन्ग्रेस की बल भर किरकिरी हुई। कॉन्ग्रेस की चुनौतियाँ यहीं ख़त्म नहीं होती। वरिष्ठ और तजुर्बेकार नेताओं की सूची के बावजूद उसे पूर्णकालिक अध्यक्ष नहीं मिला है।

जमीन के साथ पहचान की संकट से जूझ रही कॉन्ग्रेस जब तक इन समस्याओं का समाधान नहीं तलाशती, सोशल मीडिया वॉरियर्स जैसे फैसलों से शायद ही उसका भला हो!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

असम में भाजपा के 8 मुस्लिम उम्मीदवारों में सभी की हार: पार्टी ने अल्पसंख्यक मोर्चे की तीनों इकाइयों को किया भंग

भाजपा से सेक्युलर दलों की वर्षों पुरानी शिकायत रही है कि पार्टी मुस्लिम सदस्यों को टिकट नहीं देती पर जब उसके पंजीकृत अल्पसंख्यक सदस्य ही उसे वोट न करें तो पार्टी क्या करेगी?

शोभा मंडल के परिजनों से मिले नड्डा, कहा- ‘ममता को नहीं करने देंगे बंगाल को रक्तरंजित, गुंडागर्दी को करेंगे खत्म’

नड्डा ने कहा, ''शोभा मंडल के बेटों, बहू, बेटी और बच्चों को (टीएमसी के गुंडों ने) मारा और इस तरह की घटनाएँ निंदनीय है। उन्होंने कहा कि बीजेपी और उसके करोड़ों कार्यकर्ता शोभा जी के परिवार के साथ खड़े हैं।

‘द वायर’ हो या ‘स्क्रॉल’, बंगाल में TMC की हिंसा पर ममता की निंदा की जगह इसे जायज ठहराने में व्यस्त है लिबरल मीडिया

'द वायर' ने बंगाल में हो रही हिंसा की न तो निंदा की है और न ही उसे गलत बताया है। इसका सारा जोर भाजपा द्वारा इसे सांप्रदायिक बताए जाने के आरोपों पर है।

TMC के हिंसा से पीड़ित असम पहुँचे सैकड़ों BJP कार्यकर्ताओं को हेमंत बिस्वा सरमा ने दो शिविरों में रखा, दी सभी आवश्यक सुविधाएँ

हेमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट करके जानकारी दी कि पश्चिम बंगाल में हिंसा के भय के कारण जारी पलायन के बीच असम पहुँचे सभी लोगों को धुबरी में दो राहत शिविरों में रखा गया है और उन्हें आवश्यक सुविधाएँ मुहैया कराई जा रही हैं।

5 राज्य, 111 मुस्लिम MLA: बंगाल में TMC के 42 मुस्लिम उम्मीदवारों में से 41 जीते, केरल-असम में भी बोलबाला

तृणमूल कॉन्ग्रेस ने 42 मुस्लिम उम्मीदवारों को टिकट दिया था, जिसमें से मात्र एक की ही हार हुई है। साथ ही ISF को भी 1 सीट मिली।

हिंसा की गर्मी में चुप्पी की चादर ही पत्रकारों के लिए है एयर कूलर

ऐसी चुप्पी के परिणाम स्वरूप आइडिया ऑफ इंडिया की रक्षा तय है। यह इकोसिस्टम कल्याण की भी बात है। चुप्पी के एवज में किसी कमिटी या...

प्रचलित ख़बरें

बंगाल में हिंसा के जिम्मेदारों पर कंगना रनौत ने माँगा एक्शन तो ट्विटर ने अकाउंट किया सस्पेंड

“मैं गलत थी, वह रावण नहीं है... वह तो खून की प्यासी राक्षसी ताड़का है। जिन लोगों ने उसके लिए वोट किया खून से उनके हाथ भी सने हैं।”

BJP की 2 पोल एजेंट से गैंगरेप की खबरों को बंगाल पुलिस ने नकारा

बंगाल में भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्याओं के बाद अब पार्टी की दो पोल एजेंट से गैंगरेप की खबर आ रही है। कई अन्य जगहों पर भी हिंसा की खबर है।

NDTV पत्रकार ने ABVP पर टीएमसी गुंडों के हमले को किया जस्टिफाई, गुल पनाग के पिता को ‘जश्न’ पर लगी लताड़

खबर थी एबीवीपी के ऑफिस पर टीएमसी के गुंडों ने हमला किया। भगवान हनुमान और माँ काली की मूर्ति क्षतिग्रस्त कर दी। NDTV पत्रकार ने लिखा- जैसी करनी, वैसी भरनी।

‘कपड़े उतारो, देखूँगा बॉडी रोल के लिए सही है या नहीं’ – कास्टिंग काउच पर ईशा अग्रवाल का खुलासा

ईशा अग्रवाल ने कास्टिंग काउच का खुलासा किया। ईशा अग्रवाल ने बताया, “मेरा सफर आसान नहीं रहा। मुझे इसमें कई मुश्किलों का सामना करना पड़ा।"

वैज्ञानिक गोबर्धन दास परिवार सहित ‘नजरबंद’, घर को घेर TMC के गुंडों ने फेंके बम: गृह मंत्रालय भेज रहा CRPF

JNU में मॉलिक्यूलर मेडिसिन के प्रोफेसर गोबर्धन दास बंगाल विधानसभा चुनावों में बीजेपी के उम्मीदवार थे। उनके गाँव में कई भाजपा कार्यकर्ताओं के घरों को निशाना बनाया गया है।

जय भीम-जय मीम: न जोगेंद्रनाथ मंडल से सीखा, न मरीचझापी में नामशूद्रों के नरसंहार से

जोगेंद्रनाथ मंडल के साथ जो कुछ हुआ वह बताता है कि 'जय भीम-जय मीम' दलितों के छले जाने का ही नारा है। मजहबी उन्मादी उनकी आड़ लेते हैं। कॉन्ग्रेसी और वामपंथी उनकी लाशों पर चढ़ 'मीम' का तुष्टिकरण करते हैं। #CAA के नाम पर जो हो रहा है वह इससे अलग नहीं।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,362FansLike
89,327FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe