Tuesday, April 13, 2021
Home विविध विषय भारत की बात हिन्दू धर्म त्यागने वालों को पुनः हिन्दू बनाना: वो पंडित मदन मोहन मालवीय, जो...

हिन्दू धर्म त्यागने वालों को पुनः हिन्दू बनाना: वो पंडित मदन मोहन मालवीय, जो अपने परिचय को लेकर थे स्पष्ट

सनातन धर्मी छात्रों को शाकाहारी भोजन और समुचित जीवन शैली की व्यवस्था उपलब्ध कराने के लिए उन्होंने प्रयागराज में हिन्दू छात्रावास की स्थापना की थी। इलाहाबाद विश्वविद्यालय का हिन्दू छात्रावास आज भी...

इतिहास के पन्ने पलटने पर ऐसे नाम कम ही नज़र आते हैं, जिन्होंने अनेक किरदार निभाए और लगभग हर सामाजिक कसौटी पर खरे उतरे। एक शिक्षाविद, राजनीतिज्ञ, समाज सुधारक और स्वतंत्रता सेनानी भी थे पंडित मदन मोहन मालवीय।

‘सत्यमेव जयते’ को आम जन मानस का ध्येय बनाने से लेकर ‘काशी हिन्दू विश्वविद्यालय’ की स्थापना तक पंडित मदन मोहन ने कई प्रतिमान स्थापित किए। उन्होंने एक ऐसे राष्ट्रवादी व्यक्ति की भूमिका निभाई, जिन्होंने सनातन धर्म और हिन्दी भाषा की उन्नति के लिए अनवरत संघर्ष किया। 

ऐसे अनेक उत्कृष्ट कार्यों के परिणामस्वरूप 24 दिसंबर 2014 को उन्हें मरणोपरांत ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था। पंडित मदन मोहन मालवीय को उनके कार्यों की वजह से ही ‘महामना’ की उपाधि दी गई थी।

25 दिसंबर 1861 को प्रयागराज (तत्कालीन इलाहाबाद) में जन्मे पंडित मदन मोहन मूल रूप से मालवा के निवासी थे, इसलिए उन्हें ‘मालवीय’ कहा जाता था। उनकी प्राथमिक शिक्षा प्रयागराज के श्री धर्मज्ञानोपदेश पाठशाला में हुई थी, इस पाठशाला में सनातन धर्म की शिक्षा प्रदान की जाती थी। 

पंडित मदन मोहन अपने परिचय को लेकर स्पष्ट थे। अस्पृश्यता निवारण और शुद्धि (हिन्दू धर्म त्यागने वालों को पुनः हिन्दू बनाना) के वो घोर समर्थक थे। वह 3 बार हिन्दू महासभा के अध्यक्ष चुने गए थे।

महामना का ऐसा मानना था कि शिक्षा का एक ऐसा केंद्र होना चाहिए, जहाँ धर्म और शिक्षा एक विषय के दो पहलुओं की तरह नज़र आने चाहिए। इसलिए उन्होंने 1915 में काशी हिन्दू विश्वविद्यालय की स्थापना की। इसके लिए पंडित मदन मोहन ने पूरे देश का दौरा किया और अनेक राजाओं से आर्थिक सहयोग एकत्रित किया। 

सनातन पद्धति का प्रचारक होने के साथ-साथ पंडित मदन मोहन प्राचीन भारतीय संस्कृति के घोर समर्थक भी थे। इस तर्क का विवरण उनसे संबंधित एक घटना में विशेष रूप से मिलता है। अंग्रेज़ों के शासनकाल में अंग्रेज़ी भारतीय समाज से परिचित हुई थी। अंग्रेज़ी और उसके साथ-साथ उर्दू का दायरा बढ़ना शुरू हुआ था। उस बढ़ते दायरे से हिन्दी भाषा को क्षति न हो, इसलिए उन्होंने जनमत संग्रह कराया।

पंडित मदन मोहन आर्य समाज से भी अनेक सन्दर्भों पर असहमति रखते थे। वह आर्य समाज द्वारा की गई भाषा की सेवा संबंधी कार्यों का सम्मान करते थे लेकिन समस्त कर्मकाण्ड, परम्पराओं और रीति-रिवाज़ों को सनातन पद्धति का मौलिक हिस्सा मानते थे। 

यह पंडित मदन मोहन मालवीय के अटूट प्रयासों का परिणाम था कि हिन्दी भाषा को उत्तर प्रदेश के न्यायालयों और दफ्तरों की व्यावहारिक भाषा के रूप में स्वीकार किया गया। भाषा को लेकर उनका मत शुरू से स्पष्ट था। इस संदर्भ में उनका एक भाषण बेहद प्रचलित है। वह कहते हैं:

“भारतीय विद्यार्थियों के मार्ग में आने वाली समसामयिक कठिनाइयों का कोई अंत नहीं है। सबसे बड़ी कठिनता यह है कि शिक्षा का माध्यम हमारी मातृभाषा न होकर एक अत्यंत दुरूह विदेशी भाषा है। सभ्य संसार के किसी भी अन्य भाग में जन-समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।”

पंडित मदन मोहन ही थे, जिन्होंने ‘हिन्दी, हिन्दू और हिन्दुस्तान’ के ध्येय का पुरजोर प्रचार किया। स्वतंत्रता संग्राम में भी उनकी भूमिका उल्लेखनीय थी। उन्होंने देश के अन्य स्वतंत्रता सेनानियों के साथ मिल कर साइमन कमीशन का व्यापक स्तर पर विरोध किया था

उन्होंने तुष्टिकरण को लेकर भी अपना दृष्टिकोण स्पष्ट रखा, वह सदा सर्वदा इसके विरोध में रहे। पंडित मदन मोहन ने देश के विभाजन का प्रतिकार किया, उन्होंने महात्मा गाँधी के समक्ष इस मुद्दे पर खरी दलीलें रखी थीं। उनका कहना था कि विभाजन की कीमत पर स्वतंत्रता स्वीकार नहीं की जानी चाहिए।

सनातन धर्मी छात्रों को शाकाहारी भोजन और समुचित जीवन शैली की व्यवस्था उपलब्ध कराने के लिए उन्होंने प्रयागराज में ‘हिन्दू छात्रावास’ (हिन्दू हॉस्टल) की स्थापना की थी। इलाहाबाद विश्वविद्यालय का हिन्दू छात्रावास आज भी परिसर का सबसे बड़ा छात्रावास माना जाता है।        

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली में नवरात्र से पहले माँ दुर्गा और हनुमान जी की प्रतिमाओं को किया क्षतिग्रस्त, सड़क पर उतरे लोग: VHP ने पुलिस को चेताया

असामाजिक तत्वों ने न सिर्फ मंदिर में तोड़फोड़ मचाई, बल्कि हनुमान जी की प्रतिमा को भी क्षतिग्रस्त कर दिया। बजरंग दल ने किया विरोध प्रदर्शन।

कालीन के अंदर कब तक छिपाते रहेंगे मुहम्मदवाद के खतरे… आज एक वसीम रिजवी है, एक यति नरसिंहानंद हैं; कल लाखों होंगे

2021 में भी समाज को 600 ईस्वी की रिवायतों से चलाने की क्या जिद है, धरती को चपटा मानने की और बुराक घोड़े को जस का तस स्वीकारने की क्या जिद है।

‘कॉन्ग्रेस में शरीफ होना पाप, प्रशांत किशोर की फौज को खुश कर मिलता है टिकट’: पंजाब के पार्टी नेता ने खोले राज

बंगाल में ममता बनर्जी की संभावित हार से पीछे छुड़ाने की कोशिश में लगे प्रशांत किशोर के लिए पंजाब की राह भी आसान नहीं दिखती।

जलियाँवाला नरसंहार वाले जनरल डायर का स्वर्ण मंदिर में सिरोपा दे हुआ था सम्मान, अमरिंदर के पुरखे भी थे अंग्रेजों के वफादार

जलियाँवाला बाग़ नरसंहार के बारे में कौन नहीं जानता। यह नरसंहार अंग्रेज अधिकारी जनरल रेजिनाल्ड एडवर्ड डायर के आदेश पर हुआ था। लेकिन, क्या आप जानते हैं कि अकाल तख़्त ने उसे सिरोपा देकर सम्मानित किया था।

लालू यादव की सलामती के लिए उनकी बेटी रखेंगी रोज़ा, अल्लाह-पाक से न्याय की भी दुआ करेंगी

लालू को कानून ने साबित कर दिया है कि वो अपराधी है, सजा दी जा चुकी है। लेकिन बेटी रोहिणी को यह मंजूर नहीं। वो पूरे महीने रोज़े रख कर...

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

प्रचलित ख़बरें

‘हमें बार-बार जाना पड़ता है, वो वॉशरूम कब जाती हैं’: साक्षी जोशी का PK से सवाल- क्या है ममता बनर्जी का टॉयलेट शेड्यूल

क्लबहाउस पर बातचीत में ‘स्वतंत्र पत्रकार’ साक्षी जोशी ने ममता बनर्जी की शौचालय की दिनचर्या के बारे में उनके चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से पूछताछ की।

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...

भाई ने कर ली आत्महत्या, परिवार ने 10 दिनों तक छिपाई बात: IPL के ग्राउंड में चमका टेम्पो ड्राइवर का बेटा, सहवाग भी हुए...

IPL की नीलामी में चेतन सकारिया को अच्छी खबर तो मिली, लेकिन इससे तीन सप्ताह पहले ही उनके छोटे भाई ने आत्महत्या कर ली थी।

रूस का S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम और US नेवी का भारत में घुसना: ड्रैगन पर लगाम के लिए भारत को साधनी होगी दोधारी नीति

9 अप्रैल को भारत के EEZ में अमेरिका का सातवाँ बेड़ा घुस आया। देखने में जितना आसान है, इसका कूटनीतिक लक्ष्य उतनी ही कॉम्प्लेक्स!

बालाघाट में यति नरसिंहानंद के पोस्टर लगाए, अपशब्दों का इस्तेमाल: 4 की गिरफ्तारी पर भड़की ओवैसी की AIMIM

बालाघाट पुलिस ने यति नरसिंहानंद सरस्वती के खिलाफ पोस्टर लगाने के आरोप में मतीन अजहरी, कासिम खान, सोहेब खान और रजा खान को गिरफ्तार किया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,171FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe