Thursday, January 20, 2022
Homeफ़ैक्ट चेकFact Check: कश्मीरी मुस्लिमों के नाम पर रॉयटर्स फैला रही फ़ेक ख़बर

Fact Check: कश्मीरी मुस्लिमों के नाम पर रॉयटर्स फैला रही फ़ेक ख़बर

पुलवामा में हुए आत्मघाती हमले से जहाँ एक तरफ देश में आक्रोश का माहौल है, वहीं कुछ ऐसी ख़बरें भी सामने आ रही हैं जिसका सच्चाई से कोई वास्ता नहीं है। अफ़वाह फैलाने जैसी ख़बरों को कई बार सच मान लिया जाता है, जिसके परिणाम भयंकर भी हो जाते हैं।

पुलवामा में हुए आत्मघाती हमले से जहाँ एक तरफ देश में आक्रोश का माहौल है, वहीं कुछ ऐसी ख़बरें भी सामने आ रही हैं जिसका सच्चाई से कोई वास्ता नहीं है। अफ़वाह फैलाने जैसी ख़बरों को कई बार सच मान लिया जाता है, जिसके परिणाम भयंकर भी हो जाते हैं। ऐसी ही एक ख़बर रॉयटर्स न्यूज़ एजेंसी ने अपनी वेबसाइट पर ‘Kashmiri Muslim evicted, threatened after deadly attack on indian forces’ शीर्षक से लिखी है।

रॉयटर्स जैसी बड़ी और अंतरराष्ट्रीय न्यूज़ एजेंसी कैसे ख़बरों के साथ फ़र्ज़ीवाड़ा करती है, इसे नीचे के दो स्क्रीनशॉट के माध्यम से समझा जा सकता है। भारत की एक न्यूज़ एजेंसी में काम कर रहे हमारे एक साथी (नाम न छापने की शर्त पर) ने रॉयटर्स की इसी गंदगी का पर्दाफाश किया है।

भारतीय न्यूज़ एजेंसी में काम कर रहे हमारे एक साथी द्वारा शेयर किया गया चैट

भारतीय न्यूज़ एजेंसी में काम कर रहे हमारे एक साथी द्वारा शेयर किया गया चैट

रॉयटर्स ने अपनी इस ख़बर में पुलवामा में हुए हमले के बारे में तो बताया ही साथ में हरियाणा और उत्तराखंड के कश्मीरी मुस्लिमों के प्रति अपने इस फ़र्ज़ी दर्द को भी उजागर किया कि वो किस तरह की साम्प्रदायिक स्थिति का सामना कर रहे हैं।

रॉयटर्स ने इस ख़बर में जिन-जिन जगहों और व्यक्ति-विशेष का उदाहरण दिया है वो या तो झूठ है या फिर उन लोगों ने सही में भारतीय कानून को ताक पर रख कर जुर्म किया था। पुलवामा जैसे आतंकी हमले के बाद सोशल मीडिया पर देशद्रोही पोस्ट लिखना अमानवीय और गैर-कानूनी भी है।

रॉयटर्स की यह ख़बर पूरी तरह से झूठी है। इस तरह की ख़बरे लोगों को भड़काने और बेवजह परेशान करने के लिए लिखी जाती हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नसीरुद्दीन के भाई जमीर उद्दीन शाह ने की हिंदू-मुस्लिम के बीच शांति की वकालत, भड़के इस्लामी कट्टरपंथियों ने उन्हें ट्विटर पर घेरा

जमीर उद्दीन शाह वही व्यक्ति हैं जिन्होंने गोधरा दंगे पर गुजरात की तत्कालीन मोदी सरकार के खिलाफ झूठ फैलाया था।

‘उस समय माहौल बहुत खौफनाक था…’: वे घाव जो आज भी कैराना के हिंदुओं को देते हैं दर्द, जानिए कैसे योगी सरकार बनी सुरक्षा...

योगी सरकार की क्राइम को लेकर जीरो टॉलरेस की नीति ही वह सुरक्षा कवच है जो कैराना के हिंदुओं को भरोसा दिलाती है कि 2017 से पहले का वह दौर नहीं लौटेगा, जिसकी बात करते हुए वे आज भी सहम जाते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
152,380FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe