Monday, August 2, 2021
Homeफ़ैक्ट चेकमीडिया फ़ैक्ट चेकNDTV ने 'सूत्रों' के नाम पर भारतीय सेना को लेकर छापी फर्जी खबर, आर्मी...

NDTV ने ‘सूत्रों’ के नाम पर भारतीय सेना को लेकर छापी फर्जी खबर, आर्मी ने किया खारिज, बताया- फेक न्यूज़

भारतीय सेना ने NDTV की रिपोर्टों का स्पष्ट रूप से खंडन किया है। सेना की ओर से प्रवक्ता कर्नल अमन आनंद ने कहा, “हम इस तरह की खबरों का खंडन करते हैं। मीडिया इस तरह की गलत खबरें चलाता है तो इससे सिर्फ राष्ट्रीय हित को नुकसान पहुँचता है।”

भारत और चीन के बीच लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) पर तनाव बढ़ता ही जा रहा है। इसी बीच एनडीटीवी ने इसे लेकर फेक न्यूज़ फैलाने में देर नहीं लगाई। हालाँकि, वो इससे पहले भी राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े संवेदनशील मुद्दों को लेकर इस तरह की हरकतें कर चुका है।

शनिवार (23मई, 2020) को, एनडीटीवी द्वारा सच्चाई का दावा करते हुए एक लेख प्रकाशित किया गया, जिसमें एक स्रोत के आधार पर कहा गया कि सेना और भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) के एक भारतीय गश्ती दल को चीनी सैनिकों द्वारा हिरासत में लिया गया था और बाद में रिहा कर दिया गया था।

एनडीटीवी के अनुसार, भारतीय सैनिकों को हिरासत में उस वक़्त लिया गया जब अभी जल्द ही भारत और चीनी सैनिकों के बीच तनाव का माहौल पैदा हो गया था।

NDTV के ‘सूत्र’ के अनुसार, रिपोर्ट में कहा गया है कि इस सप्ताह के शुरू में लद्दाख में दोनों पक्षों के बीच हाथापाई के दौरान, चीनी सैनिकों ने ITBP के हथियार छीन लिए थे, जिसे बाद में वापस सौंप दिया गया था और भारतीय जवान वापस लौट आए थे।

एनडीटीवी ने अपने ‘सूत्रों’ के हवाले से बताया, “पिछले बुधवार को स्थिति बहुत अस्थिर हो गई जब भारतीय जवानों और चीनियों के बीच हाथापाई हुई और हमारे कुछ जवानों को हिरासत में ले लिया गया।”

एनडीटीवी के रिपोर्ट के अनुसार दोनों पक्षों के कमांडरों की एक सीमा बैठक के बाद स्थिति को शांत कर दिया गया।

इंडिया टुडे ने भी इसी खबर को चलाने के लिए उसी तरह ‘स्रोतों’ का हवाला दिया।

भारतीय सेना ने NDTV की रिपोर्ट को बताया फेक

भारतीय सेना ने NDTV की रिपोर्टों का स्पष्ट रूप से खंडन किया है। एएनआई के रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय सेना की ओर से प्रवक्ता कर्नल अमन आनंद ने कहा, “हम इस तरह की खबरों का खंडन करते हैं। मीडिया इस तरह की गलत खबरें चलाता है तो इससे सिर्फ राष्ट्रीय हित को नुकसान पहुँचता है।”

बता दें भारतीय सेना द्वारा स्पष्टीकरण के बावजूद एनडीटीवी ने न तो अपनी उस रिपोर्ट हटाया और न ही उस गलत सूचना को सही किया।

चीन ने लद्दाख में गलवान नदी पर स्थापित किए अस्थाई टेंट

भारत और चीन के बीच तनाव पिछले हफ़्ते के बाद से बढ़ गया है जब रिपोर्ट सामने आई थी 5-6 मई को सिक्किम के नाकु ला सेक्टर में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुए हाथापाई के बाद चीन ने पैंगोंग त्सो के पास अत्यधिक सैनिकबल को तैनात किया था और लद्दाख में गलवान नदी में अस्थायी टेंट भी स्थापित किया था।

ईस्टर्न सेक्टर में सैनिकों के बीच तनाव

5-6 मई को सिक्किम के नाकु ला सेक्टर में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हाथापाई हुई थी। जिसमें दोनों तरफ के सैनिकों को मामूली चोटें भी आई थी। इसके बाद दोनों ही देशों ने सीमा पर अतिरिक्त जवानों को तैनात किया है, जिसमें लद्दाख में गलवान घाटी प्रमुख है। इस तनाव को कम करने के लिए इस हफ्ते में पाँच दौर की वार्ता हुई, लेकिन कोई हल नहीं निकल सका।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘रिस्क है, भारत काम नहीं देगा’: Pak के कश्मीर लीग में नहीं खेलेंगे मोंटी पनेसर, BCCI के बाद ECB ने भी चेताया

इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर मोंटी पनेसर ने पाकिस्तान द्वारा आयोजित किए जा रहे 'कश्मीर प्रीमियर लीग (KPL)' में हिस्सा नहीं लेने का फैसला लिया है।

हासन का होयसलेश्वर मंदिर: अद्भुत नक्काशी, क्या निर्माण में होयसल राजाओं ने करवाया था मशीनों का उपयोग

कर्नाटक के हासन जिले के हलेबिड में है होयसलेश्वर मंदिर। मंदिर परिसर में जुड़वा मंदिर हैं जिनके गर्भगृह में शिवलिंग स्थापित हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,549FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe