Saturday, April 13, 2024
Homeफ़ैक्ट चेकमीडिया फ़ैक्ट चेकTV9 भारतवर्ष के डॉक्यूमेंट्री शो में ISIS की 'जिहादी दुल्हन' कॉन्ग्रेस के लोगो के...

TV9 भारतवर्ष के डॉक्यूमेंट्री शो में ISIS की ‘जिहादी दुल्हन’ कॉन्ग्रेस के लोगो के साथ दिखीं: जानिए क्या है मामला

चैनल के इस वीडियो को मूल रूप से फरवरी 2019 में गार्जियन न्यूज द्वारा अपलोड की गई 2 साल पुरानी एक डॉक्यूमेंट्री से लिया गया था। दस्तावेज, जिसे शमीमा बेगम ने अपने हाथ में पकड़ा हुआ था। इसे यूके गृह मंत्रालय द्वारा जारी किया गया था, जिसमें उसकी ब्रिटिश नागरिकता छीन लेने की घोषणा की गई थी।

न्यूज चैनल TV9 भारतवर्ष ने हाल ही में उस विवाद को फिर खड़ा कर दिया है, जिसमें ISIS की ‘जेहादी दुल्हन’ शमीमा बेगम को भारतीय राष्ट्रीय कॉन्ग्रेस पार्टी के लोगो वाला दस्तावेज पकड़े हुए दिखाया गया था। TV9 भारतवर्ष के आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर 11 जून 2021 को एक विवादित वीडियो अपलोड किया गया था। वीडियो के लगभग 2 मिनट 30 सेकंड में शमीमा बेगम कागज का एक टुकड़ा पकड़े हुए दिखाई दी। हैरानी की बात यह है कि इसके पीछे कॉन्ग्रेस पार्टी का लोगो चिपका हुआ देखा जा सकता है। इस खुलासे ने सोशल मीडिया पर हड़कंप मचा दिया था।

चैनल के इस वीडियो को मूल रूप से फरवरी 2019 में गार्जियन न्यूज द्वारा अपलोड की गई 2 साल पुरानी एक डॉक्यूमेंट्री से लिया गया था। दस्तावेज, जिसे शमीमा बेगम ने अपने हाथ में पकड़ा हुआ था। इसे यूके गृह मंत्रालय द्वारा जारी किया गया था, जिसमें उसकी ब्रिटिश नागरिकता छीन लेने की घोषणा की गई थी। गार्जियन न्यूज वीडियो में लगभग 3 सेकंड में और बाद में भी यह देखा जा सकता था कि दस्तावेज के पीछे कॉन्ग्रेस का लोगो नहीं था और कागज का वह हिस्सा पूरी तरह से खाली था।

ऐसे में यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि शमीमा को जारी यूके होम ऑफिस के आदेश पर कॉन्ग्रेस का लोगो नहीं था, लेकिन जब TV9 भारतवर्ष ने अपने वीडियो में एक फ्रेम का इस्तेमाल किया, तो लोगों को उस पेपर पर कॉन्ग्रेस का लोगो दिखाई दिया।

असली तस्वीर, जिसमें शमीमा बेगम बिना कॉन्ग्रेस के लोगो का पेपर पकड़े दिख रही हैं

फुटेज में दस्तावेज के पीछे कॉन्ग्रेस का लोगो कैसे दिखाई दे रहा है इसको लेकर हमने जाँच की। हमने पाया कि TV9 भारतवर्ष ने एक व्यंग्य साइट से इस छवि का इस्तेमाल किया है। उन्होंने शायद इसकी जाँच नहीं कि थी। दरअसल, यह एडिट किया गया है।

(वीडियो साभार: यूट्यूब/द गार्जियन)

अप्रैल 2019 में यह वीडियो सामने आने के ठीक एक महीने बाद भारतीय व्यंग्य साइट द फौक्सी (The fauxy) ने “ISIS ब्राइड शमीना बेगम गिव्स थम्स अप टू कॉन्ग्रेस मेनिफेस्टो” शीर्षक से एक लेख प्रकाशित किया था। व्यंग्य लेख में कहा गया था कि शमीमा बेगम ने आम चुनाव के लिए कॉन्ग्रेस पार्टी के घोषणापत्र की प्रशंसा की थी।

बता दें कि 15 साल की उम्र में इंग्लैंड से भागकर सीरिया में इस्लामिक स्टेट (ISIS) के आतंकियों के गढ़ में पहुँची शमीमा बेगम अब 21 साल की हो चुकी है। शमीमा को ‘जेहादी दुल्हन’ के नाम से भी जाना जाता है। सीरिया के एक कैंप में रह रही शमीमा ब्रिटिश नागरिकता दोबारा हासिल करने के लिए जंग लड़ रही है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसानों को MSP की कानूनी गारंटी देने का कॉन्ग्रेसी वादा हवा-हवाई! वायर के इंटरव्यू में खुली पार्टी की पोल: घोषणा पत्र में जगह मिली,...

कॉन्ग्रेस के पास एमएसपी की गारंटी को लेकर न कोई योजना है और न ही उसके पास कोई आँकड़ा है, जबकि राहुल गाँधी गारंटी देकर बैठे हैं।

जज की टिप्पणी ही नहीं, IMA की मंशा पर भी उठ रहे सवाल: पतंजलि पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, ईसाई बनाने वाले पादरियों के ‘इलाज’...

यूजर्स पूछ रहे हैं कि जैसी सख्ती पतंजलि पर दिखाई जा रही है, वैसी उन ईसाई पादरियों पर क्यों नहीं, जो दावा करते हैं कि तमाम बीमारी ठीक करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe