Thursday, July 16, 2020
Home फ़ैक्ट चेक फैक्ट चेक: क्या जाँच एजेंसियों के इनपुट होने के बावजूद पुलवामा सुरक्षा में कोताही...

फैक्ट चेक: क्या जाँच एजेंसियों के इनपुट होने के बावजूद पुलवामा सुरक्षा में कोताही बरती गई?

देश की जाँच एजेंसी ने जो इनपुट दिया, उसके आधार पर सीआरपीएफ द्वारा रूट को अच्छे से जाँच लिया गया था। यही नहीं आतंकी द्वारा किए जाने वाले किसी भी तरह के अटैक की संभावना की बारीकी से जाँच की गई थी।

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में कायरतापूर्ण आंतकी हमले में देश की सुरक्षा में लगे 40 से अधिक जवान शहीद हो गए। 40 से अधिक जवानों के शहीद होने के बाद जब देश दु:ख की घड़ी में है। जब इस विषम परिस्थिति में शहीद परिवारों के साथ खड़े होने की जरूरत है। जब एक स्वर में आतंक के ख़िलाफ़ पूरे विश्व को एक संकेत देने की जरूरत है। ऐसे समय में कुछ लोग अपने ओछे ज्ञान के हवाले से आरोप-प्रत्यारोप करने और सरकार को कोसने में लगे हैं।

ऐसे समय में अटल बिहारी द्वारा संसद में कही गई वो पंक्ति याद की जानी चाहिए कि – सत्ता का खेल तो चलेगा, सरकारें आएँगी और जाएँगी, पार्टियाँ बनेंगी और बिगड़ेंगी, मगर यह देश रहना चाहिए और देश का लोकतंत्र रहना चाहिए।

दरअसल, इस दर्दनाक घटना के बाद कुछ लोगों द्वारा सोशल मीडिया के अलग-अलग माध्यमों पर एक पर्ची फैलाकर यह कहने की कोशिश की जा रही है कि सरकार को इस घटना के बारे में इनपुट पहले ही दी गई थी। सरकार को घटना के बारे में पहले ही सतर्क किया गया था, लेकिन रक्षा मंत्रालय और सेना के उच्चाधिकारियों द्वारा इस मामले में ध्यान नहीं दिया गया। इसके फलस्वरुप आतंकी ने इस घटना को अंजाम दिया है।

इस पर्ची को सोशल मीडिया के अलग-अलग माध्यमों पर भेजने वाले लोगों को सबसे पहले तो यह सोचना चाहिए कि क्या सरकार या सेना पर आरोप लगाने का यह सही समय है? क्या वो जानते हैं कि इनपुट होने के बावजूद सुरक्षा बलों ने सतर्कता नहीं बरती है? क्या ऐसी पर्ची सोशल मीडिया पर भेजने वालों ने सुरक्षा में लगे इन जवानों के पक्ष को जाना है? सोशल मीडिया पर यह पर्ची सर्कुलेट कर रहे लोगों के पास शायद इन सवालों के जवाब नहीं है। इन लोगों के पास यदि इस सवाल का जवाब होता तो शायद दु:ख की इस घड़ी में वो छिंटाकशी नहीं कर रहे होते।

यह बात सही है कि देश की सुरक्षा में लगे जाँच एजेंसियों के लोग दिन-रात काम कर रहे हैं। देश की सेवा में लगे जाँच एजेंसियों को आतंकी हमले के बारे में जैसे ही संदेह हुआ, उन्होंने देश की सुरक्षा में लगे CRPF, BSF, ITBP, CISF आदि को सतर्क करते हुए प्लाटून के आवागमन के दौरान सतर्क बरतने की सलाह दी थी।

ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि नोटिस भेजे जाने के बावजूद CRPF या रक्षा मंत्रालय द्वारा इस मामले में सतर्कता नहीं बरती गई है। सुरक्षा बल के जवानों को रवाना करने से पहले हाइवे की जाँच की गई थी।

सीआरपीएफ के इंसपेक्टर जनरल (ऑपरेशन) जुल्फीकार हसन ने कहा कि जम्मू-कश्मीर पुलिस ने पिछले दिनों आतंकी द्वारा आईडी ब्लास्ट किए जाने की संभावना जाहिर की थी। यही वजह है कि 78 गाड़ियों पर लगभग 2500 सीआरपीएफ के जवानों को भेजने से पहले हाइवे पर आईडी ब्लास्ट किए जाने की हर पहलु को सही से जाँच लिया गाया था। आतंकी को आईडी ब्लास्ट करने का कोई लूप-होल नहीं मिला, जिसके बाद स्कार्पियो की मदद से हमले को अंजाम दिया।

इसी तस्वीर के आधार पर सुरक्षा एजेंसी और सरकार पर आरोप लगाया जा रहा है

सीआरपीएफ के इंसपेक्टर जनरल (ऑपरेशन) जुल्फीकार हसन ने कहा कि जम्मू-कश्मीर पुलिस ने पिछले दिनों आतंकी द्वारा आईडी ब्लास्ट किए जाने की संभावना जाहिर की थी। यही वजह है कि 78 गाड़ियों पर लगभग 2500 सीआरपीएफ के जवानों को भेजने से पहले हाइवे पर आईडी ब्लास्ट किए जाने की हर पहलू को सही से जाँच लिया गया था। आतंकी को आईडी ब्लास्ट करने का कोई सही तरीका नहीं मिला, जिसके बाद स्कार्पियो की मदद से हमले को अंजाम दिया।

इसके अलावा अधिकारी ने कहा कि आतंकी द्वारा काफिले पर गोलीबारी किए जाने या फिर ग्रेनेड हमला करने की भी कोई संभवाना नहीं थी।

सीआरपीएफ इंस्पेक्टर हसन की मानें तो आमलोगों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए हाइवे को वनवे आवाजाही के लिए खुला छोड़ा गया था, जिसका गलत फायदा उठाकर आतंकी ने इस कायरतापूर्ण घटना को अंजाम दिया।

इस तरह सीआरपीएफ अधिकारी के इस बयान से साफ होता है कि देश की जाँच एजेंसी ने जो इनपुट दिया, उसके आधार पर सीआरपीएफ द्वारा रूट को अच्छे से जाँच लिया गया था। यही नहीं आतंकी द्वारा किए जाने वाले किसी भी तरह के अटैक की संभावना की बारीकी से जाँच की गई थी। लेकिन आम जनता के सुविधाओं के लिए जो छूट दी गई आतंकी आदिल अहमद ने उसका गलत फायदा उठाकर घटना को अंजाम दिया।

यदि सोशल मीडिया पर इस पर्ची को सर्कुलेट करने वाले लोग इन पहलुओं को जान लेते तो शायद उन्हें पता चल जाता कि सरकार और देश के सुरक्षा में लगे लोग अपनी तरफ़ से दिन रात इस तरह की घटना को रोकने के लिए काम कर रहे हैं।

यदि किसी कमी का फायदा उठाकर आतंकी इस तरह की कायर घटना को अंजाम देता है, तो हमें समझना होगा कि सरकार या देश की सुरक्षा में लगे जवानों की कमजोरी का पता कर आलोचना करने के बजाय हमें एक स्वर में आतंकी सोच के ख़िलाफ एकमत होकर खड़े होने की जरूरत है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

ख़ास ख़बरें

पैगंबर की फिल्म से भावनाएँ होंगी आहत, YouTube, फेसबुक, Instagram सब जगह करो बैन: महाराष्ट्र सरकार

इस्लाम धर्म के पैगंबर हजरत मुहम्मद के जीवन पर आधारित ईरानी फिल्म ‘मुहम्मद दी मेसेंजर ऑफ गॉड’ पर प्रतिबंध लगाने को लेकर महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने केंद्र सरकार को पत्र लिखा है।

सुशांत सिंह केस: सुब्रमण्यम स्वामी ने पत्र लिख PM मोदी से की CBI जाँच की माँग, कहा- पुलिस छिपाना चाहती है बॉलीवुड के बड़े...

"आप महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री को सीधे या राज्यपाल के ज़रिए सीबीआई जाँच के लिए सहमत कर सकते हैं। मुंबई पुलिस पहले ही कोरोना वायरस पैनडेमिक और दूसरे मामलों में व्यस्त है। जनता के भरोसे को बहाल करने के लिए सीबीआई जाँच ज़रूरी है।''

रक्षाबंधन पर गाय के चमड़े के उपयोग न करने की सलाह पर खुद ही फँसा PETA इंडिया, लोगों ने पूछा- राखी में कहाँ होता...

PETA इंडिया की सूर्यवंशी ने कहा, "हमें इस हिंसा के प्रति अपनी नाराजगी जाहिर करनी चाहिए। लेकिन लोग इस हिंसा के प्रति नहीं बल्कि अपना गुस्सा पेटा के खिलाफ निकालते है जब कि हम गायों को बचाने की कोशिश कर रहे हैं।"

7 कॉमेडियनों ने डिएक्टिवेट या प्रोटेक्ट किया अकॉउंट: हिन्दू धर्म और महापुरुषों के अपमान की ट्वीट-वीडियो होने लगी थी वायरल

स्टैंड-अप ‘कॉमेडियन’ अग्रिमा जोशुआ का मामला तूल पकड़ने के बाद स्टैंड अप कॉमेडी के नाम पर लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ करने वाले तथाकथित कॉमेडियन्स को चुन-चुन कर सोशल मीडिया यूजर्स आड़े हाथों ले रहे हैं।

पायलट नर्म, गहलोत गर्म: साजिशकर्ता बता कर कहा – ‘अंग्रेजी बोलने, हैंडसम होने से कुछ नहीं होता’

गहलोत ने कहा कि पायलट बिना रगड़ाई हुए ही केंद्रीय मंत्री और पीसीसी चीफ बन गए और अगर 'रगड़ाई' हुई होती तो आज और अच्छा काम करते।

गहलोत ने सचिन पायलट को कहा हैंडसम: धरने पर बैठे नाराज साइंटिस्ट सिसोदिया, युवा राहुल का भी छलका दर्द

मनीष सिसोदिया ने कहा कि इस देश में एक समय में सिर्फ एक ही हैंडसम व्यक्ति हो सकता था और वो निर्विवाद रूप से स्वयं मनीष सिसोदिया हैं।

प्रचलित ख़बरें

‘लॉकडाउन के बाद इंशाअल्लाह आपको पीतल का हिजाब पहनाया जाएगा’: AMU की छात्रा का उत्पीड़न

AMU की एक छात्रा ने पुलिस को दी शिकायत में कहा है कि रहबर दानिश और उसके साथी उसका उत्पीड़न कर रहे। उसे धमकी दे रहे।

अनस कुरैशी ने शिव मंदिर के उपाध्यक्ष को पीट-पीट कर मार डाला… क्योंकि उन्होंने भगवा पहना था

कांति प्रसाद की मौत से हिंदू संगठनों में रोष व्याप्त। थाने पर उन्होंने जमकर हंगामा किया। पुलिस ने मामले की गंभीरता को देखते हुए अनस पर...

‘मुझे बचा लो… बॉयफ्रेंड हबीब मुझे मार डालेगा’: रिदा चौधरी का आखिरी कॉल, फर्श पर पड़ी मिली लाश

आरोप है कि हत्या के बाद हबीब ने रिदा के शव को पंखे से लटका कर इसे आत्महत्या का रूप देने का प्रयास किया। गुरुग्राम पुलिस जाँच कर रही है।

टीवी और मिक्सर ग्राइंडर के कचरे से ‘ड्रोन बॉय’ प्रताप एनएम ने बनाए 600 ड्रोन: फैक्ट चेक में खुली पोल

इन्टरनेट यूजर्स ऐसी कहानियाँ साझा कर रहे हैं कि कैसे प्रताप ने दुनिया भर के विभिन्न ड्रोन एक्सपो में कई स्वर्ण पदक जीते हैं, 87 देशों द्वारा उसे आमंत्रित किया गया है, और अब पीएम मोदी के साथ ही डीआरडीपी से उन्हें काम पर रखने के लिए कहा गया है।

मैं हिंदुओं को सबक सिखाना चाहता था, दंगों से पहले तुड़वा दिए थे सारे कैमरे: ताहिर हुसैन का कबूलनामा

8वीं तक पढ़ा ताहिर हुसैन 1993 में अपने पिता के साथ दिल्ली आया था और दोनों पिता-पुत्र बढ़ई का काम करते थे। पढ़ें दिल्ली दंगों पर उसका कबूलनामा।

विदेश में पढ़ाई के दौरान मोहब्बत, पहले मजहब फिर सारा के CM पिता फारूक अब्दुल्ला बने रोड़ा: सचिन पायलट की लव स्टोरी

सारा और सचिन पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय के व्हार्टन स्कूल में उच्च शिक्षा प्राप्त करने के दौरान एक दूसरे से मिले थे। एक दूसरे को डेट करने के बाद, दोनों ने सारा के परिवार की तरफ से लगातार आपत्तियों के बावजूद 2004 में एक बंधन में बँधने का फैसला किया।

Covid-19: भारत में पिछले 24 घंटे में सामने आए संक्रमण के 29429 मामले, अब तक 24309 की मौत

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के आँकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटे में देशभर में कोरोना वायरस के 29,429 नए मामले सामने आए हैं और 582 लोगों की मौत हुई है।

अपहरण किए गए बीजेपी नेता को पुलिस ने किया रेस्क्यू, लश्कर कमांडर ​​हैदर के परिवार को हिरासत में लेकर शुरू हुआ था ऑपरेशन

बारामूला के वाटरगाम में नगर समिति के उपाध्यक्ष मेराजुद्दीन मल्ला को बचाने के लिए चलाए गए ऑपरेशन को लश्कर के सोपोर कमांडर सज्जाद उर्फ ​​हैदर के परिवार के सदस्यों को हिरासत में लेकर शुरू किया गया था।

Qraa Men ब्रांड ने महिलाओं की नग्न तस्वीरों के साथ किया पुरुष प्रॉडक्ट का प्रचार, सोशल मीडिया पर भड़के लोग, किया विरोध

लोगों की कड़ी प्रतिक्रियाओं को देखते हुए Qraa Men हालही में पोस्ट किए विज्ञापन सामग्री को हटा दिया है, जिसमें उन्होंने सीधे तौर पर महिलाओं ऑब्जेक्टिफाई किया था।

पैगंबर की फिल्म से भावनाएँ होंगी आहत, YouTube, फेसबुक, Instagram सब जगह करो बैन: महाराष्ट्र सरकार

इस्लाम धर्म के पैगंबर हजरत मुहम्मद के जीवन पर आधारित ईरानी फिल्म ‘मुहम्मद दी मेसेंजर ऑफ गॉड’ पर प्रतिबंध लगाने को लेकर महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने केंद्र सरकार को पत्र लिखा है।

सुशांत सिंह केस: सुब्रमण्यम स्वामी ने पत्र लिख PM मोदी से की CBI जाँच की माँग, कहा- पुलिस छिपाना चाहती है बॉलीवुड के बड़े...

"आप महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री को सीधे या राज्यपाल के ज़रिए सीबीआई जाँच के लिए सहमत कर सकते हैं। मुंबई पुलिस पहले ही कोरोना वायरस पैनडेमिक और दूसरे मामलों में व्यस्त है। जनता के भरोसे को बहाल करने के लिए सीबीआई जाँच ज़रूरी है।''

पालघर: महाराष्ट्र CID की चार्जशीट से साधुओं की लिंचिंग में धार्मिक कारण से इनकार, हत्या को बताया अफवाहों पर आधारित

चार्ज शीट में पालघर, महाराष्ट्र में हुई साधुओं की लिंचिंग को अफवाहों के आधार पर बताते हुए कहा गया है कि इसके पीछे कोई धार्मिक कारण नहीं था।

हैंड-सैनिटाइजर पर GST छूट घरेलू उत्पादों की कीमत बढ़ाने और चीन से आयात को प्रोत्साहित कर सकता है, जानिए कैसे

एक बार के लिए ऐसा लग सकता है कि कर की दर शून्य होने पर कीमतें कम होंगी, लेकिन यह सच नहीं है। ऐसा इसलिए है क्योंकि जीएसटी वास्तव में एक ऐसा VAT है, जहाँ उत्पादन के प्रत्येक चरण में जोड़े गए मूल्य पर कर लगाया जाता है।

रक्षाबंधन पर गाय के चमड़े के उपयोग न करने की सलाह पर खुद ही फँसा PETA इंडिया, लोगों ने पूछा- राखी में कहाँ होता...

PETA इंडिया की सूर्यवंशी ने कहा, "हमें इस हिंसा के प्रति अपनी नाराजगी जाहिर करनी चाहिए। लेकिन लोग इस हिंसा के प्रति नहीं बल्कि अपना गुस्सा पेटा के खिलाफ निकालते है जब कि हम गायों को बचाने की कोशिश कर रहे हैं।"

पीएम ओली के ‘अयोध्या ज्ञान’ पर माहौल बिगड़ने के बाद नेपाल ने जारी किया स्पष्टीकरण, कहा- किसी को दुख पहुँचाने की नहीं थी नियत

''वास्तविक अयोध्या बीरगंज के पश्चिम में थोरी में स्थित है, भारत अपने यहाँ भगवान राम का जन्मस्थल होने का दावा करता है।'' वहीं अब अजीबोगरीब दावे के बाद खुद को बुरी तरह घिरता देख ओली ने विदेश मंत्रालय के जरिए सफाई पेश करवाई है।

7 कॉमेडियनों ने डिएक्टिवेट या प्रोटेक्ट किया अकॉउंट: हिन्दू धर्म और महापुरुषों के अपमान की ट्वीट-वीडियो होने लगी थी वायरल

स्टैंड-अप ‘कॉमेडियन’ अग्रिमा जोशुआ का मामला तूल पकड़ने के बाद स्टैंड अप कॉमेडी के नाम पर लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ करने वाले तथाकथित कॉमेडियन्स को चुन-चुन कर सोशल मीडिया यूजर्स आड़े हाथों ले रहे हैं।

हमसे जुड़ें

239,883FansLike
63,563FollowersFollow
275,000SubscribersSubscribe