Thursday, June 20, 2024
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेकफैक्ट चेक: TikTok वीडियो बनाने के लिए यूज़र कर रहा है दिल्ली पुलिस की...

फैक्ट चेक: TikTok वीडियो बनाने के लिए यूज़र कर रहा है दिल्ली पुलिस की गाड़ी का इस्तेमाल?

कुछ ट्विटर यूज़र्स ने दिल्ली पुलिस से शिकायत करते हुए लिखा कि यह शर्मनाक है, करदाताओं के रुपयों का इस तरह से गलत इस्तेमाल किया जा रहा है।

सोशल मीडिया पर एक वीडियो सामने आया है, जिसमें एक एर्टिगा कार पर दिल्ली पुलिस लिखा हुआ है और कार में पुलिस का सायरन (बेकन लाइट) लगी हुई है। टिकटॉक नामक एप्प के इस वीडियो में बिना कमीज पहने हुए एक शख्स चलती हुई कार से उतरता है और फिर दिल्ली पुलिस की उसी कार की छत पर चढ़ जाता है।

इस वीडियो को देखकर लोगों ने दिल्ली पुलिस की लापरवाही को लेकर सोशल मीडिया पर अपनी नाराजगी और विरोध व्यक्त किया। कुछ ट्विटर यूज़र्स ने दिल्ली पुलिस से शिकायत करते हुए लिखा कि यह शर्मनाक है, करदाताओं के रुपयों का इस तरह से गलत इस्तेमाल किया जा रहा है।

ट्विटर यूज़र की इस शिकायत पर दिल्ली पुलिस ने संज्ञान लेते हुए जाँच करने का भरोसा दिलाया।

इस यूज़र ने यह वीडियो टिकटॉक पर पोस्ट करने के लिए बनाया था, जो काफी वायरल होने के बाद लोगों के नजर में आया। शख्स कार के ऊपर चढ़कर कोई स्टंट कर रहा था। वीडियो में जो कार नजर आ रही है, इस तरह की गाड़ी अक्सर दिल्ली पुलिस के ACP प्रयोग करते हैं।

क्या है सच्चाई?

टिकटॉक वीडियो में गाड़ी का जो नम्बर है, वो एक एर्टिगा कार है और जेपी शर्मा के नाम पर रजिस्टर्ड है। यह वाहन एक ठेकेदार का है, जिसे पुलिस ने कॉन्ट्रैक्ट पर ले रखा था। इस टिकटॉक वीडियो पर दिल्ली पुलिस जाँच कर रही है। पुलिस पीआरओ मधुर वर्मा का कहना है कि दिल्ली पुलिस को कॉन्ट्रैक्ट पर गाड़ियाँ दी जाती हैं। जेपी शर्मा नाम के कांट्रेक्टर की ये गाड़ी है, जिसे दिल्ली पुलिस के इस्तेमाल के लिए लगाया गया था। जो शख्स इस पर स्टंट कर रहा है उसका नाम रवि है, जो जेपी शर्मा का ड्राइवर है। स्टंट कब बनाया गया है इसकी जाँच की जा रही है।

पुलिस ने इस मामले में कहा, “टिकटॉक वीडियो क्लिप में स्टंट करने वाला शख्स कोई पुलिसवाला नहीं है। ठेकेदार को नियम के उल्लंघन के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। उसके खिलाफ आवश्यक कानूनी कार्रवाई की जाएगी।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -