Monday, May 25, 2020
होम फ़ैक्ट चेक सोशल मीडिया फ़ैक्ट चेक भूख लगने पर बीवी को खा सकते हैं शौहर: लॉकडाउन में क्यों शेयर हो...

भूख लगने पर बीवी को खा सकते हैं शौहर: लॉकडाउन में क्यों शेयर हो रही ‘फतवे’ की खबर?

कुछ जगहों पर अचानक से इस खबर का शेयर होना एक समुदाय के प्रति घृणा बढ़ाने का कुत्सित प्रयास लगती है। जागरूक नागरिक तौर पर हमारी जिम्मेदारी बनती है कि संवेदनशील समय में ऐसी खबरों से बचना चाहिए और इसके स्रोत की जाँच करनी चाहिए।

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

आम आदमी कोरोना वायरस की महामारी से इतने घबराए और सहमे हुए हैं कि इससे बचाव के लिए वह समाचार के विभिन्न स्रोतों से लेकर सोशल मीडिया पर अपने स्तर पर जानकारी जुटाने का प्रयास कर रहे हैं। लेकिन इस चक्कर में कई लोग यह भूल जाते हैं कि यह घटना वाकई में कोरोना वायरस से जुड़ी हुई है भी या नहीं।

इंडिया टुडे की ऐसी ही एक खबर सोशल मीडिया पर शेयर होती देखी गई, जिसमें बताया गया है कि सऊदी अरब के मुफ्ती अब्‍दुल अजीज बिन अब्‍दुल्‍ला ने फतवा जारी कर कहा है कि भयंकर भूखा होने की हालत में अपनी बीवी को भी मारकर खा सकते हैं। वायरल हो रही रिपोर्ट के मुताबिक, इस फतवे में न केवल बीवी को मारने की बात कही गई है, बल्कि शौहर को यह भी छूट दी गई है कि वह बीवी के शरीर के कुछ हिस्‍से भी खा सकता है।

क्या है सच्चाई –

इंडिया टुडे द्वारा प्रकाशित इस खबर में सऊदी अरब के शीर्ष मुफ्ती के फतवे का जिक्र किया गया है। लेकिन CNN Arabic की अप्रैल 2015 की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि, मुफ्ती ने इस फतवे का खंडन किया था। यह कोई वास्तविक घटना भी नहीं है। असल में मोरक्‍को के एक ब्‍लॉगर Israfel al-Maghribi द्वारा अपने ब्‍लॉग पर प्रकाशित किया गया यह एक व्‍यंग्‍य था। हालाँकि, अधिकतर पोर्टल्‍स ने ब्रिटिश न्‍यूज पोर्टल mirror.co.uk का हवाला देकर यह खबर चलाई थी। कुछ जगहों पर अचानक से यह खबर शेयर होने लगी है जो कि एक समुदाय के प्रति घृणा बढ़ाने का कुत्सित प्रयास लगती है।

लॉकडाउन के बीच क्यों शेयर की जा रही है फतवे वाली खबर?

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

दरअसल, तबलीगी जमात के द्वारा संक्रमण के मामलों में आई वृद्धि के बाद उनके सार्वजानिक स्थानों पर थूकने, डॉक्टर्स से अभद्रता करने आदि हरकतों को देखते हुए आम आदमी इतना ज्यादा भयभीत हो चुका है कि वह मुस्लिम समुदाय की कुछ पुरानी वीडियो से लेकर खबरों को भी शेयर कर उसकी सच्चाई जानना चाहता है और दूसरों को भी जागरूक करने का प्रयास करते देखा जा रहा है।

यही कारण है कि हाल ही में स्वघोषित फैक्ट चेकर वेबसाइट ऑल्टन्यूज़ ने भी कुछ पुराने वीडियो को फैक्ट चेक किया! इनमें से एक में उन्होंने बताया कि फलों पर थूक लगाने वाले शेरू मियाँ का वीडियो मार्च नहीं, बल्कि फरवरी का है और उसका कोरोना के संक्रमण से कोई लेना-देना नहीं है।

हालाँकि, ऑल्टन्यूज़ के फैक्ट चेक का फैक्ट चेक करने पर ऑपइंडिया ने पाया कि थूक के जारिए कोरोना के संक्रमण का खतरा फरवरी में भी उतना ही था जितना कि अप्रैल में है, क्योंकि भारत में संक्रमण के मामले जनवरी में ही सामने आने लगे थे।

अपनी ही बीवी को खाने का फतवा जारी करने वाले धर्मगुरु वाला यह व्यंग्य लेख 2015 से भी पहले का हो सकता है। लेकिन कोरोना महामारी के कारण भूखमरी की आशंका को देखते हुए इस खबर को गलत मानसकिता के लोग फैला रहे हैं।

अफवाहों के भय के बीच क्या न करें –

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

जागरूक नागरिक के तौर पर हमारी जिम्मेदारी बनती है कि संवेदनशील समय में ऐसी गलत खबरों से बचना चाहिए और कम से कम इसे सार्वजनिक करने से पहले इसके स्रोत की जाँच कर लेनी चाहिए।

हमें सिर्फ वास्तविक खबरों को ही, बिना उनका मजहब देखे शेयर करना चाहिए। लेकिन अगर कोई व्यक्ति पाँच साल पुरानी खबर शेयर कर रहा है तो उसके पीछे की सोच गलत होगी, या फिर वो अनभिज्ञता में ऐसा कर रहा होगा। अतः, यह बताना आवश्यक है कि ऐसी खबरें शेयर न करें। यह सिर्फ भय बढ़ाती हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

अब नहीं ढकी जाएगी ‘भारत माता’, हिन्दुओं के विरोध से झुका प्रशासन: मिशनरियों ने किया था प्रतिमा का विरोध

कन्याकुमारी में मिशनरियों के दबाव में आकर भारत माता की प्रतिमा को ढक दिया गया था। अब हिन्दुओं के विरोध के बाद प्रशासन को ये फ़ैसला...

‘दोबारा कहूँगा, राजीव गाँधी हत्यारा था’ – छत्तीसगढ़ में दर्ज FIR के बाद भी तजिंदर बग्गा ने झुकने से किया इनकार

तजिंदर पाल सिंह बग्गा के खिलाफ FIR हुई है। इसके बाद बग्गा ने राजीव गाँधी को दोबारा हत्यारा बताया और कॉन्ग्रेस के सामने झुकने से इनकार...

महाराष्ट्र के पूर्व CM और ठाकरे सरकार के मंत्री अशोक चव्हाण कोरोना पॉजिटिव, राज्य के दूसरे मंत्री वायरस के शिकार

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और उद्धव ठाकरे के मंत्रिमंडल में पीडब्ल्यूडी मिनिस्टर, अशोक चव्हाण कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। उन्हें तुरंत...

पिंजरा तोड़ की दोनों सदस्य जमानत पर बाहर आईं, दिल्ली पुलिस ने फिर कर लिया गिरफ्तार: इस बार हत्या का है मामला

हिंदू विरोधी दंगों को भड़काने के आरोप में पिंजरा तोड़ की देवांगना कालिता और नताशा नरवाल को दिल्ली पुलिस ने फिर गिरफ्तार कर...

जिन लोगों ने राम को भुलाया, आज वे न घर के हैं और न घाट के: मीडिया संग वेबिनार में CM योगी

"हमारे लिए राम और रोटी दोनों महत्वपूर्ण हैं। राज्य सरकार ने इस कार्य को बखूबी निभाया है। जिन लोगों ने राम को भुलाया है, वे घर के हैं न घाट के।"

Covid-19: 24 घंटों में 6767 संक्रमित, 147 की मौत, देश में लगातार दूसरे दिन कोरोना के रिकॉर्ड मामले सामने आए

इस समय देश में संक्रमितों की संख्या 1,31,868 हो चुकी है। अब तक 3867 लोगों की मौत हुई है। 54,440 लोग ठीक हो चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

गोरखपुर में चौथी के बच्चों ने पढ़ा- पाकिस्तान हमारी प्रिय मातृभूमि है, पढ़ाने वाली हैं शादाब खानम

गोरखपुर के एक स्कूल के बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई के लिए बने व्हाट्सएप ग्रुप में शादाब खानम ने संज्ञा समझाते-समझाते पाकिस्तान प्रेम का पाठ पढ़ा डाला।

‘न्यूजलॉन्ड्री! तुम पत्रकारिता का सबसे गिरा स्वरुप हो’ कोरोना संक्रमित को फ़ोन कर सुधीर चौधरी के विरोध में कहने को विवश कर रहा NL

जी न्यूज़ के स्टाफ ने खुलासा किया है कि फर्जी ख़बरें चलाने वाले 'न्यूजलॉन्ड्री' के लोग उन्हें लगातार फ़ोन और व्हाट्सऐप पर सुधीर चौधरी के खिलाफ बयान देने के लिए विवश कर रहे हैं।

रवीश ने 2 दिन में शेयर किए 2 फेक न्यूज! एक के लिए कहा: इसे हिन्दी के लाखों पाठकों तक पहुँचा दें

NDTV के पत्रकार रवीश कुमार ने 2 दिन में फेसबुक पर दो बार फेक न्यूज़ शेयर किया। दोनों ही बार फैक्ट-चेक होने के कारण उनकी पोल खुल गई। फिर भी...

राजस्थान के ‘सबसे जाँबाज’ SHO विष्णुदत्त विश्नोई की आत्महत्या: एथलीट से कॉन्ग्रेस MLA बनी कृष्णा पूनिया पर उठी उँगली

विष्णुदत्त विश्नोई दबंग अफसर माने जाते थे। उनके वायरल चैट और सुसाइड नोट के बाद कॉन्ग्रेस विधायक कृष्णा पूनिया पर सवाल उठ रहे हैं।

तब भंवरी बनी थी मुसीबत का फंदा, अब विष्णुदत्त विश्नोई सुसाइड केस में उलझी राजस्थान की कॉन्ग्रेस सरकार

जिस अफसर की पोस्टिंग ही पब्लिक डिमांड पर होती रही हो उसकी आत्महत्या पर सवाल उठने लाजिमी हैं। इन सवालों की छाया सीधे गहलोत सरकार पर है।

हमसे जुड़ें

206,772FansLike
60,088FollowersFollow
241,000SubscribersSubscribe
Advertisements