Thursday, June 13, 2024
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेक'कार का शीशा साफ करने वालों से सावधान, घड़ी के जरिए अकाउंट कर दे...

‘कार का शीशा साफ करने वालों से सावधान, घड़ी के जरिए अकाउंट कर दे रहे खाली’: FASTag स्कैन से लूट, जानें खबर का सच

पेटीएम ने भी वायरल दावे को लेकर कहा कि एनईटीसी की गाइडलाइंस के मुताबिक इस तरह कोई फास्टैग ट्रांजैक्शन नहीं हो सकती। यह सिर्फ ऑथराइज्ड मर्चेंट ही कर सकता है। पेटीएम ने कहा है कि उनका फास्टैग पूर्ण रूप से सुरक्षित है।

सोशल मीडिया पर ज्यादा लाइक, ज्यादा रीच की चाह के कारण अक्सर लोग अलग-अलग हथकंडे आजमाते है। इसी क्रम में वह मनगढ़ंत दावे करने से भी गुरेज नहीं करते और नतीजा ये होता है कि सामान्य यूजर उन दावों पर यकीन करने लगाता है। हाल में ऐसा ही एक दावा बकलोल वीडियो नाम के यूट्यूब चैनल से हुआ।

चैनल पर 23 जून को साझा की गई एक स्क्रिप्टिड वीडियो में दिखाया गया कि आजकल जो बच्चे गाड़ी साफ करने आते हैं उनके हाथ में एक घड़ी होती है, जिससे वह कार पर लगे FASTag को स्कैन करते हैं और मालिक के पेटीएम से सारा पैसा निकाल लेते हैं।

वीडियो में नजर आ रहा व्यक्ति एक बच्चे को गाड़ी साफ करते हुए दिखाता है और फिर अपना दावा करता है। वीडियो के टाइटल में लिखा गया- “अगर आपकी गाड़ी पे FASTag है तो वीडियो जरूर देखें।” इस वीडियो को 24 मिलियन लोग अब तक देख चुके है।

अब जाहिर है आज के समय में जिस तरह के साइबर क्राइम हो रहे हैं तो किसी को भी इस दावे पर यकीन हो जाए। लेकिन देखने वाली बात ये है कि एक तो इस वीडियो के कैप्शन में साफ तौर पर इसे स्क्रिप्टिड बताया गया है और दूसरा इसके वायरल होते ही पेटीएम से लेकर पीआईबी सबने ये जानकारी दी है कि किस तरह FASTag काम करता है।

पीआईबी ने जानकारी दी कि वीडियो में जैसा दावा है कि बच्चे के हाथ में बँधी घड़ी FASTag स्कैन करने के लिए है, वो दरअसल बिलकुल गलत है। इस तरह की ट्रांजैक्शन बिलकुल नहीं हो सकती है। हर टोल प्लाजा का अपना यूनिक कोड होता है।

इसके अलावा पेटीएम ने भी इस वायरल दावे को लेकर कहा है कि एनईटीसी की गाइडलाइंस के मुताबिक इस तरह कोई FASTag ट्रांजैक्शन नहीं हो सकती। यह सिर्फ ऑथराइज्ड मर्चेंट ही कर सकता है। पेटीएम ने कहा है कि उनका फास्टैग पूर्ण रूप से सुरक्षित है।

इसी तरह फास्टैग एनईटीसी ने अपने ट्वीट में बताया, “एनईटीसी फास्टैग ट्रांजेक्शन सिर्फ रजिस्टर्ड मर्चेंट के जरिए ही हो सकती हैं। ये मर्चेंट टोल प्लाजा और पार्किंग प्लाजा ऑपरेटर होते हैं। इन्हें NPCI पर उनकी जियो लोकेशन के हिसाब से रजिस्टर किया जाता है। कोई भी अनऑथराइज डिवाइस एनईटीसी फास्टैग ट्रांजेक्शन नहीं कर सकता है। यह पूरी तरह से सुरक्षित है।” यानी फास्टैग की तरफ से भी बकलोल वीडियो पर अपलोड वीडियो को फर्जी बताया गया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेता खाएँ मलाई इसलिए कॉन्ग्रेस के साथ AAP, पानी के लिए तरसते आम आदमी को दोनों ने दिखाया ठेंगा: दिल्ली जल संकट में हिमाचल...

दिल्ली सरकार ने कहा है कि टैंकर माफिया तो यमुना के उस पार यानी हरियाणा से ऑपरेट करते हैं, वो दिल्ली सरकार का इलाका ही नहीं है।

पापुआ न्यू गिनी में चली गई 2000 लोगों की जान, भारत ने भेजी करोड़ों की राहत (पानी, भोजन, दवा सब कुछ) सामग्री

प्राकृतिक आपदा के कारण संसाधनों की कमी से जूझ रहे पापुआ न्यू गिनी के एंगा प्रांत को भारत ने बुनियादी जरूरतों के सामान भेजे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -