Wednesday, November 30, 2022
Homeबड़ी ख़बरNCP से जुड़ा है इस 'खेल' का मास्टरमाइंड सुनील पाटिल, डील के लिए गोसावी...

NCP से जुड़ा है इस ‘खेल’ का मास्टरमाइंड सुनील पाटिल, डील के लिए गोसावी को किया था आगे: आर्यन खान ड्रग्स केस में BJP नेता का बड़ा खुलासा

मोहित कंबोज ने कहा कि किरण गोसावी एनसीपी नेता सुनील पाटिल का आदमी है। पाटिल के कहने पर ही सैम डिसूजा ने नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के अधिकारी वी.वी सिंह की मुलाकात किरण गोसावी से करवाई थी। बाद में पूरी डीलिंग किरण गोसावी की देखरेख में हुई थी।

आर्यन खान ड्रग्स मामले में एक के बाद एक ट्वीस्ट सामने आ रहे हैं। इस मामले में महाराष्ट्र के बीजेपी नेता मोहित कंबोज ने कई चौंकाने वाले दावे किए हैं। प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मोहित कंबोज ने कहा, ”आज 6 नवंबर को मैं कुछ विषयों की जानकारी लेकर आपके सामने आया हूँ। महाराष्ट्र में और देश में पिछले म​हीने यानी 2 अक्टूबर के बाद एक विवादित मामला, आर्यन खान ड्रग्स केस चर्चा में आया। नारकोटिक्स विभाग ने क्रूज पर रेड की। इस रेड को लेकर जिस तरह राजनीति हुई, उसके बारे में मैं आपको कुछ बताने जा रहा हूँ।”

आर्यन खान ड्रग्स केस को लेकर महाराष्ट्र सरकार के मंत्री नवाब मलिक पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा, ”महाराष्ट्र सरकार के एक बड़े मंत्री ने भाजपा, कुछ अधिकारियों और एनसीबी पर आरोप लगाए हैं।” कंबोज ने कहा, ”किरण गोसावी, मनीष भानुशाली और प्रभाकर सैल कौन हैं इसके बारे में बताऊँगा, जिन्हें भारतीय जनता पार्टी से जोड़कर दिखाया गया।”

मोहित कंबोज ने कहा, “इस पूरी रेड का मास्टरमाइंड सुनील पाटिल है। वह नेशनलिस्ट कॉन्ग्रेस पार्टी (एनसीपी) से जुड़ा हुआ है। एनसीपी से सुनील पाटिल के 20 साल से संबंध हैं। वह हाल ही में गिरफ्तार हुए महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के बेटे ऋषिकेश देशमुख का जिगरी दोस्त है। सिर्फ अनिल देशमुख ही नहीं, महाराष्ट्र सरकार के कई मंत्रियों और नेताओं के साथ उनके गहरे ताल्लुकात हैं। ये उनके घर के सदस्य जैसा हैं। यही नहीं, पूर्व गृह मंत्री आरआर पाटिल से भी इसके करीबी संबंध रहे हैं।”

कंबोज ने आगे कहा, “अनिल देशमुख पर प्रवर्तन निदेशालय की जो कार्रवाई हो रही है, उसमें भी सुनील पाटिल भागीदार है। सुनील पाटिल वही शख्स हैं, जो गृहमंत्री और गृह मंत्रालय के साथ मिलकर अधिकारियों की ट्रांसफर-पोस्टिंग का रैकेट चलाता था और इसके पैसे लेता था। वह महाराष्ट्र में ट्रांसफर पोस्टिंग का रैकेट में 20 सालों से जुड़ा हुआ है। इस काम में उसकी मदद कई ब्यूरोक्रेट्स भी करते हैं। जब महाराष्ट्र में बीजेपी की सरकार आई, तब वह अंडरग्राउंड हो गया था। हालाँकि, महाविकास अघाड़ी सरकार के आते ही वह दोबारा एक्टिव हो चुका है।”

सुनील पाटिल का आर्यन खान मामले से संबंध

सुनील पाटिल का आर्यन खान मामले से क्या संबंध है इसको लेकर कंबोज ने कहा, ”आपको पता होगा सैम डिसूजा के बारे में। इसका जिक्र नवाब मलिक, संजय राउत ने भी किया है और प्रभाकर सैल के एफिडेबिट में भी किया गया है। सुनील पाटिल ने 1 अक्टूबर को सैम डिसूजा को व्हा्टसप किया।” उन्होंने व्हा्टसप चैट दिखाते हुए कहा, ”पाटिल ने सैम से कहा कि मेरे पास 27 लोगों की लीड है। तुम मेरी एनसीबी के किसी अधिकारी से बात कराओ। इसके बाद एनसीबी में वी.वी सिंह नाम के अधिकारी से उसकी बात कराई गई।”

मोहित कंबोज ने आरोप लगाया कि किरण गोसावी एनसीपी नेता सुनील पाटिल का आदमी है। पाटिल के कहने पर ही सैम डिसूजा ने नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के अधिकारी वी.वी सिंह की मुलाकात किरण गोसावी से करवाई थी। बाद में पूरी डीलिंग किरण गोसावी की देखरेख में हुई थी। ऐसे में नवाब मलिक के आरोप कितने सही हैं, यह आपको इन सबूतों से स्पष्ट हो जाएगा।

कंबोज ने सुनील पाटिल की एक कथित ऑडियो क्लिप भी सुनाई। उन्होंने दावा किया कि इसमें सुनील पाटिल का नाम है, जो मौजूदा और पूर्व गृह मंत्री का नाम ले रहा है। उन्होंने आगे कहा, ”इस मामले में भाजपा और किसी भाजपा नेता का कोई संबंध नहीं है। यह पूरी साजिश भाजपा को बदनाम करने के लिए रची गई। एनसीपी को सुनील पाटिल से अपने संबंधों के बारे में बताना चाहिए। सुनील पाटिल एक बड़े होटल में रुका था, वहाँ कौन से एनसीपी नेता थे, जो उससे मिलने गए थे। नवाब मलिक को जवाब देना चाहिए।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रोता हुआ आम का पेड़, आरती के समय मंदिर में देवता को प्रणाम करने वाला ताड़ का वृक्ष… वेदों से प्रेरित था जगदीश चंद्र...

छुईमुई का पौधा हमारे छूते ही प्रतिक्रिया देता है। जगदीश चंद्र बोस ने दिखाया कि अन्य पेड़-पौधों में भी ऐसा होता है, लेकिन नंगी आँखों से नहीं दिखता।

‘मौलाना साद को सौंपी जाए निजामुद्दीन मरकज की चाबियाँ’: दिल्ली HC के आदेश पर पुलिस को आपत्ति नहीं, तबलीगी जमात ने फैलाया था कोरोना

दिल्ली हाईकोर्ट ने पुलिस को तबलीगी जमात के निजामुद्दीन मरकज की चाबी मौलाना साद को सौंपने की हिदायत दी। पुलिस ने दावा किया है कि वह फरार है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
236,143FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe