Tuesday, April 20, 2021
Home देश-समाज CM ममता का बंगाल नरक से भी बदतर, मेरी आत्महत्या का कारण मुख्यमंत्री ही:...

CM ममता का बंगाल नरक से भी बदतर, मेरी आत्महत्या का कारण मुख्यमंत्री ही: IPS ऑफिसर

रिटायर्ड IPS ऑफ़िसर गौरव दत्त ने अपने सुसाइड नोट में यह उम्मीद जताई है कि उनकी आत्महत्या बंगाल और भारत के अन्य हिस्सों में ईमानदार अधिकारियों की वास्तविक समस्याओं को उजागर करेगी।

पश्चिम बंगाल कैडर के एक सेवानिवृत्त भारतीय पुलिस सेवा (IPS) अधिकारी, जिन्होंने इस सप्ताह के शुरू में आत्महत्या कर ली थी, उन्होंने सुसाइड नोट में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर उकसाए जाने का आरोप लगाया और आत्महत्या के लिए ममता बनर्जी को ज़िम्मेदार ठहराया।

1986 बैच के आईपीएस अधिकारी गौरव दत्त को 2010 में एक पुरुष कॉन्स्टेबल के यौन शोषण के आरोपों के बाद निलंबित कर दिया गया था। बता दें कि गौरव दत्त, 1939 बैच के पद्मश्री से सम्मानित आईपीएस अधिकारी गोपाल दत्त के बेटे थे। वो पिछले महीने ही सेवानिवृत हुए थे।


अपने सुसाइड नोट में दत्त ने ममता बनर्जी पर सिलसिलेवार उत्पीड़न का आरोप लगाया (साभार: द प्रिंट)

गौरव दत्त कथित तौर पर ख़ून से लथपथ अपने घर के पूल में मृत पाए गए थे। उनकी कलाई से ख़ून निकल रहा था, उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहाँ ख़ून के अधिक बहाव के कारण उनकी मृत्यु हो गई।

आईपीएस अधिकारी गौरव ने अपने सुसाइड नोट में लिखा कि उनके सुसाइड करने के पीछे पश्चिम बंंगाल की वर्तमान मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ज़िम्मेदार हैं।

इसके अलावा उन्होंने अपने नोट में लिखा कि जो भी बातें इस नोट लिखीं गईं हैं वो उन्होंने अपनी सही मानसिक स्थिति में लिखी।

दत्त के सुसाइड नोट की पुष्टि उनकी पत्नी श्रेयांशी दत्त ने भी की है कि यह बात सच है कि यह सुसाइड नोट उनके पति द्वारा ही लिखा गया है।

उन्होंने कहा, “मेरे पति की आत्महत्या की वजह वो सभी यातनाएँ और अपमान हैं जिसके लिए पश्चिम बंगाल की सरकार ज़िम्मेदार है।” इसके अलावा श्रेयांशी ने कहा कि उनके पति पिछले 10 वर्षों से परेशान थे।

दत्त की पत्नी ने कहा, “मैं अकेली हूँ और अब तबाह हो गई हूँ। सब कुछ ख़त्म हो गया है… सरकार ने मेरे पति की जान ले ली है।”

ममता बनर्जी ने 10 साल तक सिलसिलेवार उत्पीड़न किया

गौरव दत्त ने अपने सुसाइड नोट में इस बात का ज़िक्र किया कि सीएम ने मेरे 2 लंबित कार्यवाही [sic] मामलों को बंद करने से इनकार कर दिया था। एक केस की फाइल पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा जानबूझकर गुम कर दी गई। दूसरे केस में किसी भी भ्रष्टाचार के आरोप की पुष्टि नहीं की जा सकी। “यहाँ तक ​​कि महानिदेशक [DG] ने भी सीएम से अनुरोध किया, लेकिन उन्होंने इन मामलों को बंद करने से साफ़ इनकार कर दिया।

सुसाइड नोट में साफ लिखा है कि पश्चिम बंगाल की वर्तमान मुख्यमंत्री ममता बनर्जी उन्हें 10 साल से प्रताड़ित कर रही हैं। दत्त ने यह स्पष्ट किया कि ममता बनर्जी के इसी एकतरफा बदले की भावना से वो आहत हो गए थे, जिससे उनका उनका मनोबल टूट गया।

अपने सुसाइड नोट में दत्त ने इस बात को भी उजागर किया कि उनके रिटायरमेंट के बाद उन्हें मिलने वाली पेंशन भी राज्य सरकार द्वारा रोक दी गई थी। इसी बात से वो इतना आहत हुए कि सुसाइड जैसा क़दम उठाना पड़ा।

पश्चिम बंगाल सरकार ने क्रूरता और बदले की हद पार कर दी

दत्त ने यह भी आरोप लगाया कि बनर्जी की तृणमूल कॉन्ग्रेस पार्टी का इतना ख़ौफ़ था कि सत्तारूढ़ दल के बदला लेने के डर से राज्य में किसी ने भी उनसे इस पर कोई बात नहीं की।

उन्होंने कहा, “पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के डर से अधिकारी इतने विवश है कि किसी को प्रतिनियुक्ति पर भी जाने की अनुमति नहीं है। यहाँ बंगाल में एक ख़ौफ़ की स्थिति है।”

“पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री द्वारा बनाई गई यह दहशत का माहौल नरक से भी बदतर है जिसका कोई अंत नज़र नहीं आता।”

अपने सुसाइड नोट में दत्त ने आईपीएस अधिकारियों के बीच एकजुटता की कमी के बारे में भी बताते हुए लिखा, “आईपीएस बिरादरी ऐसी है कि अगर सरकार किसी को व्यक्तिगत रूप से तिरस्कृत या अपमानित करती है, तो बाक़ी के सभी अधिकारी सरकार के तलुए चाटते हुए दिखते हैं और सरकार द्वारा तिरस्कृत और अपमानित अधिकारी के साथ गली के कुत्तों जैसा व्यवहार करते हैं।”

‘सम्मान से जी नहीं सकता, तो सम्मान के साथ मरना बेहतर’

अपने सुसाइट नोट में, दत्त ने यह उम्मीद जताई है कि उनकी आत्महत्या “बंगाल और भारत के अन्य हिस्सों में ईमानदार अधिकारियों की वास्तविक समस्याओं को उजागर करेगी।”

उन्होंने लिखा कि उनके जैसे ईमानदार अधिकारी को दु:खी करने, प्रताड़ित करने, उन्हें बेघर करने और घुटन की हद तक अपमानित करने से पहले सरकार शायद अब दो बार सोचेगी।

“… अगर कोई सम्मान के साथ जी नहीं सकता, तो सम्मान के साथ मरना बेहतर है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सरकार पर विश्वास नहीं’: मजदूरों ने केजरीवाल की नहीं सुनी, 5 लाख ने पकड़ी ट्रेन-बस टर्मिनल पर 50000; दिल्ली से घर लौटने की मारामारी

घर वापसी की यह होड़ केजरीवाल सरकार की साख पर सवाल है। यह बताती है कि दिल्ली के सीएम की बातों पर मजदूरों को भरोसा नहीं है।

कोरोना से लड़ाई में मजबूत कदम बढ़ाती मोदी सरकार: फर्जी प्रश्नों के सहारे फिर बेपटरी करने निकली गिद्धों की पाँत

गिद्धों की पाँत फिर से वैसे ही बैठ गई है। फिर से हेडलाइन के आगे प्रश्नवाचक चिन्ह के सहारे वक्तव्य दिए जा रहे हैं। नेताओं द्वारा फ़र्ज़ी प्रश्न उठाए जा रहे हैं। शायद फिर उसी आकाँक्षा के साथ कि भारत कोरोना के ख़िलाफ़ अपनी लड़ाई हार जाएगा।

‘कॉन्ग्रेसी’ साकेत गोखले ने पूर्व CM के खिलाफ दर्ज कराई शिकायत, शिवसेना नेता कहा- ‘फडणवीस के मुँह में डाल देता कोरोना’

शिवसेना के विधायक संजय गायकवाड़ ने पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को लेकर विवादित बयान दिया है। उन्‍होंने कहा है कि अगर उन्हें कहीं कोरोना वायरस मिल जाता, तो वह उसे भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस के मुँह में डाल देते।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 26 अप्रैल तक 5 शहरों में लगाए कड़े प्रतिबन्ध, योगी सरकार ने पूर्ण लॉकडाउन से किया इनकार

योगी आदित्यनाथ सरकार ने शहरों में लॉकडाउन लगाने से इंकार कर दिया है। यूपी सरकार ने कहा कि प्रदेश में कई कदम उठाए गए हैं और आगे भी सख्त कदम उठाए जाएँगे। गरीबों की आजीविका को भी बचाने के लिए काम किया जा रहा है।

वामपंथियों के गढ़ जेएनयू में फैला कोरोना, 74 छात्र और स्टाफ संक्रमित: 4 की हालत गंभीर

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय, दिल्ली में भी कोविड ने एंट्री मार ली है। विश्वविद्यालय के स्वास्थ्य केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक 74 छात्र और स्टाफ संक्रमित पाए गए हैं।

‘मई में दिखेगा कोरोना का सबसे भयंकर रूप’: IIT कानपुर की स्टडी में दावा- दूसरी लहर कुम्भ और रैलियों से नहीं

प्रोफेसर मणिन्द्र और उनकी टीम ने पूरे देश के डेटा का अध्ययन किया। अलग-अलग राज्यों में मिलने वाले कोरोना के साप्ताहिक आँकड़ों को भी परखा।

प्रचलित ख़बरें

‘वाइन की बोतल, पाजामा और मेरा शौहर सैफ’: करीना कपूर खान ने बताया बिस्तर पर उन्हें क्या-क्या चाहिए

करीना कपूर ने कहा है कि वे जब भी बिस्तर पर जाती हैं तो उन्हें 3 चीजें चाहिए होती हैं- पाजामा, वाइन की एक बोतल और शौहर सैफ अली खान।

‘छोटा सा लॉकडाउन, दिल्ली छोड़कर न जाएँ’: इधर केजरीवाल ने किया 26 अप्रैल तक कर्फ्यू का ऐलान, उधर ठेकों पर लगी कतार

केजरीवाल सरकार ने 26 अप्रैल की सुबह 5 बजे तक तक दिल्ली में लॉकडाउन की घोषणा की है। इस दौरान स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त कर लेने का भरोसा दिलाया है।

‘मैं इसे किस करूँगी, हाथ लगा कर दिखा’: मास्क के लिए टोका तो पुलिस पर भड़की महिला, खुद को बताया SI की बेटी-UPSC टॉपर

महिला ने धमकी देते हुए कहा कि उसका बाप पुलिस में SI के पद पर है। साथ ही दिल्ली पुलिस को 'भिखमंगा' कह कर सम्बोधित किया।

नासिर ने बीड़ी सुलगाने के लिए माचिस जलाई, जलती तीली से लाइब्रेरी में आगः 3000 भगवद्गीता समेत 11 हजार पुस्तकें राख

कर्नाटक के मैसूर की एक लाइब्रेरी में आग लगने से 3000 भगवद्गीता समेत 11 हजार पुस्तकें राख हो गई थी। पुलिस ने सैयद नासिर को गिरफ्तार किया है।

पुलिस अधिकारियों को अगवा कर मस्जिद में ले गए, DSP को किया टॉर्चरः सरकार से मोलभाव के बाद पाकिस्तान में छोड़े गए बंधक

पाकिस्तान की पंजाब प्रांत की सरकार के साथ मोलभाव के बाद प्रतिबंधित इस्लामी संगठन TLP ने अगवा किए गए 11 पुलिसकर्मियों को रिहा कर दिया है।

‘F@#k Bhakts!… तुम्हारे पापा और अक्षय कुमार सुंदर सा मंदिर बनवा रहे हैं’: कोरोना पर घृणा की कॉमेडी, जानलेवा दवाई की काटी पर्ची

"Fuck Bhakts! इस परिस्थिति के लिए सीधे वही जिम्मेदार हैं। मैं अब भी देख रहा हूँ कि उनमें से अधिकतर अभी भी उनका (पीएम मोदी) बचाव कर रहे हैं।"
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,220FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe