Wednesday, December 2, 2020
Home हास्य-व्यंग्य-कटाक्ष पत्रकार नेतागिरी करे तो वो 'धोबी का कुत्ता' बन भी सकता है, बना भी...

पत्रकार नेतागिरी करे तो वो ‘धोबी का कुत्ता’ बन भी सकता है, बना भी सकता है: हिंदी में सत्य का सामना

आशुतोष पत्रकार थे, राजनेता बने और अब फिर पत्रकार हैं। राजनीति का सत्यानाश होने के बाद अब वो 'सत्यहिंदी' चलाते हैं। वहीं जिस राउत के कारण महाराष्ट्र आज इस राजनीतिक संकट का सामना कर रहा है, वो 'सामना' के एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं।

अटल बिहारी वाजपेयी, लालकृष्ण आडवाणी और अरुण शौरी जैसों ने पत्रकारिता से राजनीति में क़दम रखा और नए मानक स्थापित किए। लेकिन, पत्रकार से नेता बने दो चेहरे ऐसे भी हैं जिन्होंने इनके ठीक उलट प्रतिमान स्थापित किए हैं। इनमें से एक ने अपने नेता को ‘धोबी का कुत्ता’ बना दिया तो दूसरे को उसके नेता ने ‘धोबी का कुत्ता’ बना दिया।

एक देश की राजधानी में राजनीति करना चाहता था तो दूसरा देश की आर्थिक राजधानी में राजनीति या उसे जो भी कह लीजिए, कर रहा है। अपने नेता उद्धव ठाकरे को ‘धोबी का कुत्ता‘ बनाने वाले पत्रकार का नाम है संजय राउत। वहीं जिन्हें उनके नेता अरविन्द केजरीवाल ने ही ‘धोबी का कुत्ता’ बना दिया, उनका नाम है आशुतोष। राउत पत्रकार भी हैं और राजनेता भी। आशुतोष पत्रकार थे, राजनेता बने और अब फिर पत्रकार हैं। राजनीति का सत्यानाश होने के बाद अब वो ‘सत्यहिंदी’ चलाते हैं। वहीं जिस राउत के कारण महाराष्ट्र आज इस राजनीतिक संकट का सामना कर रहा है, वो ‘सामना’ के एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं।

दोनों में एक और चीज कॉमन है। वो है- राज्यसभा का पद। एक को आते-आते ही मिल गया। दूसरे को जाते-जाते भी नहीं मिला। एक आया था पत्रकारिता करने लेकिन नवाजा गया राज्यसभा के पद से। दूसरा पत्रकारिता छोड़ के राज्यसभा के लिए ही आया था, लेकिन ये पद गुप्ताओं के हिस्से चला गया। संजय राउत 2004 में राज्यसभा भेजे गए, 2010 में फिर भेजे गए और 2016 में तीसरी बार भेजे गए। उम्मीद है कि उन्हें 2022 में फिर से भेजा जाएगा। आशुतोष का 5 सालों में ही आम आदमी पार्टी से मोहभंग हो गया और वो निकल लिए।

एक ने फ़िल्म की स्क्रिप्ट लिखी है। दूसरे ने क़िताब लिखी है। दोनों ही वास्तविकताओं पर आधारित रचनाएँ हैं। राउत ने बाल ठाकरे पर बनी नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी अभिनीत फ़िल्म ‘ठाकरे’ की कहानी लिखी। आशुतोष ने अन्ना हजारे के आंदोलन की यादों को एक पुस्तक के रूप में समेटा। लेकिन उसकी सफलता का सारा श्रेय किसी और को दे दिया। मार्च 2018 में जब अन्ना ने अनशन शुरू किया, तब आशुतोष ने कहा कि उनके पास अब अरविन्द केजरीवाल के रूप में एक्स-फैक्टर नहीं है। राउत ने भी कई पुस्तकें लिख रखी हैं। इस तरह दोनों ही लेखक हुए।

राउत और आशुतोष में कई समानताएँ और विषमताएँ हैं। राउत ने कहा कि आंबेडकर का जन्म महाराष्ट्र में हुआ था और ट्रोल हुए। बता दें कि बाबासाहब का जन्म मध्य प्रदेश के महू में हुआ था। आशुतोष के लिए केजरीवाल ने कहा कि इस जन्म में तो आपका इस्तीफा मैं स्वीकार नहीं कर सकता। जन्म-जन्म का ये खेल अब यहाँ आ पहुँचा है कि महाराष्ट्र में नई सरकार का ही जन्म नहीं हो पा रहा। एक सुबह-सुबह न सिर्फ़ ब्रेड और अंडे खाता है, बल्कि उसकी फोटो लेकर जनता को बताता है कि ठण्ड के दिनों में नाश्ते में क्या लेना चाहिए। दूसरा अण्डों को ही शाकाहारी घोषित करने की बात करता है। अफसोस ये कि राउत ने ये बात संसद में कही। आशुतोष को मौक़ा ही नहीं मिला।

संजय राउत ने तो ये भी कहा था कि शाकाहारी चिकन की व्यवस्था होनी चाहिए। खैर, संसद के रूप में उनके पास एक ऐसा प्लॅटफॉर्म है जहाँ वो कुछ भी बोल सकते हैं। आशुतोष ये काम ट्विटर पर करते हैं। राउत ट्विटर पर ये सब नहीं करते। वो ट्विटर पर कविता-पाठ करते हैं। दोनों में एक और समानता है कि दोनों ही कॉर्टून प्रेमी हैं। जहाँ एक के नेता ही कार्टूनिस्ट हुआ करते थे, दूसरे के नेता कार्टूनिस्टों के फेवरिट कैरेक्टर हैं। बाल ठाकरे के कार्टून जहाँ पूरे देश में चर्चा का विषय बनते थे तो अरविन्द केजरीवल कार्टूनिस्टों को ढेर सारा मसाला देने का काम करते हैं।

एक की दिल्ली में सरकार बनने के बाद भी एकांतवास में दिन कटे, दूसरा सरकार न बनने के बावजूद ‘मुख्यमंत्री हमारा ही होगा’ कहते फिर रहा है। दोनों की विचारधारा अब धीरे-धीरे एक ही जगह जाकर रुक गई है। ‘सत्य हिंदी’ हो या ‘सामना’, दोनों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ख़िलाफ़ लेख प्रकाशित होते हैं। दोनों के ही ट्वीट्स भाजपा पर कटाक्ष होते हैं। दोनों ही सोशल मीडिया पर मजाक की विषय-वास्तु बन कर रह गए हैं। एक ने महाराष्ट्र के सीएम की ही तुलना कुत्ते से कर डाली थी, दूसरा कुत्ते को ही कुत्ता नहीं समझता। संजय राउत ने फडणवीस को लेकर कहा था कि एक कुत्ता भी सत्ता में आने के बाद ख़ुद को शेर समझने लगता है। दूसरे को इस बात से दिक्कत थी कि लोग कुत्ते को कुत्ता क्यों समझते हैं?

‘सामना’ और ”सत्य हिंदी एक ही ढर्रे पर चलते दिख रहे हैं। मराठी और हिंदी एक जैसे दिख रहे हैं। संजय राउत कुछ कारणों से अस्पताल में भर्ती थे। अंदर थे तो ‘अग्निपथ, अग्निपथ, अग्निपथ’ लिख रहे थे, बाहर आ गए हैं तो ‘मुख्यमंत्री शिवसेना का ही बनेगा’ बोल रहे हैं। एक बात तो तय है। कल को अगर अरविन्द केजरीवाल पर कोई फ़िल्म बनती है तो आशुतोष से बढ़िया कौन होगा उस फ़िल्म की स्क्रिप्ट लिखने वाला? इसके बाद वो इस मामले में भी राउत के टक्कर के हो जाएँगे। फ़िलहाल पत्रकारों की राजनीति या राजनीति की पत्रकारिता- दोनों में से किसी का भी लुफ्त उठा सकते हैं। दोनों एक-दूसरे में घुसी हुई हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जो ट्विटर पर आलोचना करेंगे, उन सब पर कार्रवाई करोगे?’ बॉम्बे हाई कोर्ट ने महाराष्ट्र की उद्धव सरकार पर दागा सवाल

बॉम्बे हाई कोर्ट ने ट्विटर यूजर सुनैना होली की गिरफ़्तारी के मामले में सुनवाई करते हुए महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार से कड़े सवाल पूछे हैं।

‘मोदी चला रहे 2002 का चैनल और योगी हैं प्यार के दुश्मन’: हिंदुत्व विरोधियों के हाथ में है Swiggy का प्रबंधन व रणनीति

'Dentsu Webchutney' नामक कंपनी ही Swiggy की मार्केटिंग रणनीति तैयार करती है। कई स्क्रीनशॉट्स के माध्यम से देखिए उनका मोदी विरोध।

इस्लाम और उर्दू की शिक्षा के लिए अब्बा भेजते थे मदरसा, अच्छा नहीं लगता था… इसलिए मुंबई भागा: 14 साल के बच्चे की कहानी

किशोर ने पुलिस को पूछताछ में बताया कि उसके अब्बा उसे जबरदस्ती इस्लाम और उर्दू की शिक्षा के लिए मदरसे भेजते थे, जबकि उसे अच्छा नहीं लगता था।

दुर्घटना में घायल पिता के लिए ‘नजदीकी’ अखिलेश यादव से मदद की गुहार… लेकिन आगे आई योगी सरकार

उत्तर प्रदेश में दुर्घटनाग्रस्त एक व्यक्ति की बेटी ने मदद के लिए गुहार तो लगाई अखिलेश यादव से, लेकिन मदद के लिए योगी सरकार आगे आई।

हैदराबाद निगम चुनाव में हिंदू वोट कट रहे, वोटर कार्ड हैं, लेकिन मतदाता सूची से नाम गायब: मीडिया रिपोर्ट

वीडियो में एक और शख्स ने दावा किया कि हिंदू वोट कट रहे हैं। पिछले साल 60,000 हिंदू वोट कटे थे। रिपोर्टर प्रदीप भंडारी ने एक लिस्ट दिखाते हुए दावा किया कि इन पर जितने भी नाम हैं, सभी हिंदू हैं।
00:27:53

किसान आंदोलन में ‘रावण’ और ‘बिलकिस बानो’, पर क्यों? अजीत भारती का वीडियो । Ajeet Bharti on Farmers Protest

फिलहाल जो नयापन है, उसमें 4-5 कैरेक्टर की एंट्री है। जिसमें से एक भीम आर्मी का चंद्रशेखर ‘रावण’ है, दूसरी बिलकिस बानो है, जो तथाकथित शाहीन बाग की ‘दादी’ के रूप में चर्चा में आई थी।

प्रचलित ख़बरें

‘दिल्ली और जालंधर किसके साथ गई थी?’ – सवाल सुनते ही लाइव शो से भागी शेहला रशीद, कहा – ‘मेरा अब्बा लालची है’

'ABP न्यूज़' पर शेहला रशीद अपने पिता अब्दुल शोरा के आरोपों पर सफाई देने आईं, लेकिन कठिन सवालों का जवाब देने के बजाए फोन रख कर भाग खड़ी हुईं।

मेरे घर में चल रहा देश विरोधी काम, बेटी ने लिए ₹3 करोड़: अब्बा ने खोली शेहला रशीद की पोलपट्टी, कहा- मुझे भी दे...

शेहला रशीद के खिलाफ उनके पिता अब्दुल रशीद शोरा ने शिकायत दर्ज कराई है। उन्होंने बेटी के बैंक खातों की जाँच की माँग की है।

13 साल की बच्ची, 65 साल का इमाम: मस्जिद में मजहबी शिक्षा की क्लास, किताब के बहाने टॉयलेट में रेप

13 साल की बच्ची मजहबी क्लास में हिस्सा लेने मस्जिद गई थी, जब इमाम ने उसके साथ टॉयलेट में रेप किया।

‘हिंदू लड़की को गर्भवती करने से 10 बार मदीना जाने का सवाब मिलता है’: कुणाल बन ताहिर ने की शादी, फिर लात मार गर्भ...

“मुझे तुमसे शादी नहीं करनी थी। मेरा मजहब लव जिहाद में विश्वास रखता है, शादी में नहीं। एक हिंदू को गर्भवती करने से हमें दस बार मदीना शरीफ जाने का सवाब मिलता है।”

कहीं दीप जले, कहीं… PM मोदी के ‘हर हर महादेव’ लिखने पर लिबरलों-वामियों ने दिखाया असली रंग

“जिस समय किसान अपने जीवन के लिए प्रदर्शन कर रहे हैं, हमारे पीएम को ऐसी मनोरंजन वाली वीडियो शेयर करने में शर्म तक नहीं आ रही।”

शेहला मेरठ से चुनाव लड़ती, अमेरिका में बैठे अलगाववादी देते हैं पैसे, वहीं जाकर बनाई थी पार्टी: पिता ने लगाए नए आरोप

शेहला रशीद के पिता ने कहा, "अगर मैं हिंसक होता तो मेरे खिलाफ जरूर एफआईआर होती, लेकिन मेरे खिलाफ कोई एफआईआर नहीं है।"

‘जो ट्विटर पर आलोचना करेंगे, उन सब पर कार्रवाई करोगे?’ बॉम्बे हाई कोर्ट ने महाराष्ट्र की उद्धव सरकार पर दागा सवाल

बॉम्बे हाई कोर्ट ने ट्विटर यूजर सुनैना होली की गिरफ़्तारी के मामले में सुनवाई करते हुए महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार से कड़े सवाल पूछे हैं।

गैंग्स ऑफ वासेपुर में डेफिनिट बनने वाले जीशान कादरी के खिलाफ FIR, ₹1.25 करोड़ की धोखाधड़ी का मामला

जीशान के ख़िलाफ़ 420, 406 के तहत धोखाधड़ी और विश्वास उल्लंघन का मामला दर्ज हुआ है। इस शिकायत को जतिन सेठी ने दर्ज करवाया है।

‘मोदी चला रहे 2002 का चैनल और योगी हैं प्यार के दुश्मन’: हिंदुत्व विरोधियों के हाथ में है Swiggy का प्रबंधन व रणनीति

'Dentsu Webchutney' नामक कंपनी ही Swiggy की मार्केटिंग रणनीति तैयार करती है। कई स्क्रीनशॉट्स के माध्यम से देखिए उनका मोदी विरोध।

इस्लाम और उर्दू की शिक्षा के लिए अब्बा भेजते थे मदरसा, अच्छा नहीं लगता था… इसलिए मुंबई भागा: 14 साल के बच्चे की कहानी

किशोर ने पुलिस को पूछताछ में बताया कि उसके अब्बा उसे जबरदस्ती इस्लाम और उर्दू की शिक्षा के लिए मदरसे भेजते थे, जबकि उसे अच्छा नहीं लगता था।

दुर्घटना में घायल पिता के लिए ‘नजदीकी’ अखिलेश यादव से मदद की गुहार… लेकिन आगे आई योगी सरकार

उत्तर प्रदेश में दुर्घटनाग्रस्त एक व्यक्ति की बेटी ने मदद के लिए गुहार तो लगाई अखिलेश यादव से, लेकिन मदद के लिए योगी सरकार आगे आई।

Nivar के बाद अब Burevi: इस साल का चौथा चक्रवाती तूफान, तमिलनाडु-केरल में अलर्ट

चक्रवाती तूफान बुरेवी के कारण मौसम विभाग ने केरल के 4 जिलों - तिरुवनंतपुरम, कोल्लम, पथनमथिट्टा और अलप्पुझा में रेड अलर्ट...

हैदराबाद निगम चुनाव में हिंदू वोट कट रहे, वोटर कार्ड हैं, लेकिन मतदाता सूची से नाम गायब: मीडिया रिपोर्ट

वीडियो में एक और शख्स ने दावा किया कि हिंदू वोट कट रहे हैं। पिछले साल 60,000 हिंदू वोट कटे थे। रिपोर्टर प्रदीप भंडारी ने एक लिस्ट दिखाते हुए दावा किया कि इन पर जितने भी नाम हैं, सभी हिंदू हैं।
00:27:53

किसान आंदोलन में ‘रावण’ और ‘बिलकिस बानो’, पर क्यों? अजीत भारती का वीडियो । Ajeet Bharti on Farmers Protest

फिलहाल जो नयापन है, उसमें 4-5 कैरेक्टर की एंट्री है। जिसमें से एक भीम आर्मी का चंद्रशेखर ‘रावण’ है, दूसरी बिलकिस बानो है, जो तथाकथित शाहीन बाग की ‘दादी’ के रूप में चर्चा में आई थी।

कामरा के बाद वैसी ही ‘टुच्ची’ हरकत के लिए रचिता तनेजा के खिलाफ अवमानना मामले में कार्यवाही की अटॉर्नी जनरल ने दी सहमति

sanitarypanels ने एक कार्टून बनाया। जिसमें लिखा था, “तू जानता नहीं मेरा बाप कौन है।” इसमें बीच में अर्णब गोस्वामी को, एक तरफ सुप्रीम कोर्ट और दूसरी तरफ बीजेपी को दिखाया गया है।

वर्तमान नागालैंड की सुंदरता के पीछे छिपा है रक्त-रंजित इतिहास: नागालैंड डे पर जानिए वह गुमनाम गाथा

1826 से 1865 तक के 40 वर्षों में अंग्रेज़ी सेनाओं ने नागाओं पर कई तरीकों से हमले किए, लेकिन हर बार उन्हें उन मुट्ठी भर योद्धाओं के हाथों करारी हार का सामना करना पड़ा।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,501FollowersFollow
358,000SubscribersSubscribe