Tuesday, April 13, 2021
Home राजनीति एक संजय जिसके कारण बाला साहेब ने कुत्ता पालना छोड़ दिया, दूसरे ने उनके...

एक संजय जिसके कारण बाला साहेब ने कुत्ता पालना छोड़ दिया, दूसरे ने उनके बेटे को धोबी का कुत्ता बना दिया

निरुपम के जाने के बाद एक मौके पर बाल ठाकरे ने कहा था कि मैंने कुत्ता पालना छोड़ दिया है। लेकिन उद्धव में न तो बाला साहेब वाले तेवर हैं और न उन जैसी धमक। सो, शायद ही वह कभी अपना दर्द बयॉं कर पाएँ।

24 अक्टूबर को जब महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजे आए तो किसी ने भी यह नहीं सोचा होगा कि राज्य में राष्ट्रपति शासन लगेगा। 288 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा को 105 और उसकी सहयोगी शिवसेना को 56 सीटें मिली थी। लेकिन, शिवसेना की एक जिद्द ने न केवल राज्य की राजनीति को भॅंवर में फॅंसाया, बल्कि उसकी खुद की हालत भी ‘न राम मिली, न माया’ जैसी कर दी।

इस सियासी ड्रामे में जो नाम सबसे ज्यादा चर्चा में रहा वह है शिवसेना सांसद संजय राउत का। राउत पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ के कार्यकारी संपादक भी हैं। उनकी अति सक्रियता ने लोगों को उस दौर की याद दिला दी है, जब शिवसेना की तरफ से इसी तरह बड़े-बड़े दावे करने के लिए ‘हिंदी का सामना’ के कार्यकारी संपादक संजय निरुपम जाने जाते थे। उस दौर में कहा जाता था कि निरुपम वहीं बोलते हैं, जो बाला साहेब का आदेश होता है। जब राउत बार-बार “शिवसेना का ही सीएम होगा” दोहरा रहे थे, तब भी यही माना जा रहा था कि वे उद्धव ठाकरे के दिल में दफ़न आकांक्षा को ही बयॉं कर रहे हैं।

निरुपम के दिन बहुरने तब शुरू हुए जब 1993 में उन्हें ‘दोपहर का सामना’ का कार्यकारी संपादक बाला साहेब ने बनाया। कुछ दिनों में ही वे बाल ठाकरे की आँखों के तारे हो गए। वफादारी का इनाम भी उन्हें जल्द मिला। बाला साहेब ने 1996 में उन्हें राज्यसभा में भेज दिया। लेकिन, राजनीति में स्थापित होते ही निरुपम 2005 में शिवसेना को छोड़ कॉन्ग्रेस में चले गए।

इधर, निरुपम कॉन्ग्रेस में गए और उधर शिवसेना में राउत का कद बढ़ने लगा। वैसे, राजनीति में राउत का सितारा भले निरुपम के जाने के बाद चमका हो, लेकिन सामना के कार्यकारी संपादक वे 1992 में ही बन गए थे। कहा तो यह भी जाता है कि निरुपम की मातोश्री में एंट्री भी उन्होंने ही कराई थी। निरुपम की पत्नी गीता वैद्य मराठी हैं और राउत की पुरानी परिचित भी। 1992 के दंगों के और 1993 के बम धमाकों के बाद जब बाला साहेब ने हिन्दी भाषियों के लिए अखबार शुरू करने का फैसला किया तो राउत ने ही उन्हें निरुपम का नाम सुझाया था।

निरुपम के जाने के बाद शिवसेना में बड़बोले नेता की कमी शिद्दत से महसूस की जा रही थी। उसी जगह को भरने के लिए राउत आगे बढ़ाए गए। लेकिन, इसकी बड़ी कीमत बाला साहेब की हिन्दुत्वादी राजनीति को चुकानी पड़ी है। मातोश्री अब ‘मातेश्री’ का शरणागत है। शिवसेना ने उस कॉन्ग्रेस के समर्थन से सरकार बनाने की कोशिश की, जिसके सरकार को कभी बाला साहेब ने ‘हिजड़ों का शासन’ कहा था। उद्धव ठाकरे ने सोनिया गॉंधी और शरद पवार जैसों की राजनीति पर भरोसा किया। उनके कहने पर मोदी कैबिनेट से अपने मंत्री को इस्तीफा दिलवा दिया। फिर भी सोनिया गॉंधी और शरद पवार ने अकेले छोड़ दिया।

निरुपम के जाने के बाद एक मौके पर बाल ठाकरे ने कहा था कि मैंने कुत्ता पालना छोड़ दिया है। लेकिन उद्धव में न तो बाला साहेब वाले तेवर हैं और न उन जैसी धमक। सो, शायद ही वह कभी अपना दर्द बयॉं कर पाएँ। वे शायद भूल गए थे कि धृतराष्ट्र को कुरुक्षेत्र का आँखों देखा हाल सुनाने वाला राज सारथी संजय था। ये आज के संजय हैं। बड़बोलेपन से अपने नेता की लुटिया डूबोने का मौका नहीं छोड़ते। चाहे वे कॉन्ग्रेस के प्रवक्ता संजय झा हों या फिर नीतीश कुमार के करीबी बिहार के मंत्री संजय कुमार झा

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तानी पाठ्यपुस्तकों में पढ़ाया जा रहा काफिर हिंदुओं से नफरत की बातें: BBC उर्दू डॉक्यूमेंट्री में बच्चों ने किया बड़ा खुलासा

वीडियो में कई पाकिस्तानी हिंदुओं को दिखाया गया है, जिन्होंने पाकिस्तान में स्कूल की पाठ्यपुस्तकों में हिंदू विरोधी प्रोपेगेंडा की तरफ इशारा किया है।

‘पेंटर’ ममता बनर्जी को गुस्सा क्यों आता है: CM की कुर्सी से उतर धरने वाली कुर्सी कब तक?

पिछले 3 दशकों से चुनावी और राजनीतिक हिंसा का दंश झेल रही बंगाल की जनता की ओर से CM ममता को सुरक्षा बलों का धन्यवाद करना चाहिए, लेकिन वो उनके खिलाफ जहर क्यों उगल रही हैं?

यूपी के 15,000 प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूल हुए अंग्रेजी मीडियम, मिशनरी स्कूलों को दे रहे मात

उत्तर प्रदेश के प्राथमिक विद्यालयों के बच्चे भी मिशनरी व कांवेंट स्कूलों के छात्रों की तरह फर्राटेदार अंग्रेजी बोल सकें। इसके लिए राज्य के 15 हजार स्कूलों को अंग्रेजी मीडियम बनाया गया है, जहाँ पढ़ कर बच्चे मिशनरी स्कूल के छात्रों को चुनौती दे रहे हैं।

पहले कमल के साथ चाकूबाजी, अगले दिन मुस्लिम इलाके में एक और हिंदू पर हमला: छबड़ा में गुर्जर थे निशाने पर

राजस्थान के छबड़ा में हिंसा क्यों? कमल के साथ फरीद, आबिद और समीर की चाकूबाजी के अगले दिन क्या हुआ? बैंसला ने ऑपइंडिया को सब कुछ बताया।

दिल्ली में नवरात्र से पहले माँ दुर्गा और हनुमान जी की प्रतिमाओं को किया क्षतिग्रस्त, सड़क पर उतरे लोग: VHP ने पुलिस को चेताया

असामाजिक तत्वों ने न सिर्फ मंदिर में तोड़फोड़ मचाई, बल्कि हनुमान जी की प्रतिमा को भी क्षतिग्रस्त कर दिया। बजरंग दल ने किया विरोध प्रदर्शन।

कालीन के अंदर कब तक छिपाते रहेंगे मुहम्मदवाद के खतरे… आज एक वसीम रिजवी है, एक यति नरसिंहानंद हैं; कल लाखों होंगे

2021 में भी समाज को 600 ईस्वी की रिवायतों से चलाने की क्या जिद है, धरती को चपटा मानने की और बुराक घोड़े को जस का तस स्वीकारने की क्या जिद है।

प्रचलित ख़बरें

‘हमें बार-बार जाना पड़ता है, वो वॉशरूम कब जाती हैं’: साक्षी जोशी का PK से सवाल- क्या है ममता बनर्जी का टॉयलेट शेड्यूल

क्लबहाउस पर बातचीत में ‘स्वतंत्र पत्रकार’ साक्षी जोशी ने ममता बनर्जी की शौचालय की दिनचर्या के बारे में उनके चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से पूछताछ की।

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...

रूस का S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम और US नेवी का भारत में घुसना: ड्रैगन पर लगाम के लिए भारत को साधनी होगी दोधारी नीति

9 अप्रैल को भारत के EEZ में अमेरिका का सातवाँ बेड़ा घुस आया। देखने में जितना आसान है, इसका कूटनीतिक लक्ष्य उतनी ही कॉम्प्लेक्स!

भाई ने कर ली आत्महत्या, परिवार ने 10 दिनों तक छिपाई बात: IPL के ग्राउंड में चमका टेम्पो ड्राइवर का बेटा, सहवाग भी हुए...

IPL की नीलामी में चेतन सकारिया को अच्छी खबर तो मिली, लेकिन इससे तीन सप्ताह पहले ही उनके छोटे भाई ने आत्महत्या कर ली थी।

जहाँ खालिस्तानी प्रोपेगेंडाबाज, वहीं मन की बात: क्लबहाउस पर पंजाब का ठेका तो कंफर्म नहीं कर रहे थे प्रशांत किशोर

क्लबहाउस पर प्रशांत किशोर का होना क्या किसी विस्तृत योजना का हिस्सा था? क्या वे पंजाब के अपने असायनमेंट को कंफर्म कर रहे थे?
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,176FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe