एक और ‘रावण’ ने भंग की मर्यादा, ‘ब्राह्मणवादी’ पुलिस ने किया गिरफ्तार

ऐसा सुनाई पड़ रहा है कि महापण्डित रावण जी कांशीराम की जयंती के सुअवसर पर 15 मार्च को दिल्ली के जंतर-मंतर में एक रैली पहुँचाना चाहते थे, पर दुष्ट जातिवादी आदित्यनाथ ने हिन्दू युवा वाहिनी के लोगों को यूपी राजपुरुषों (पुलिस) की वर्दी में भेजकर इस रैली पर अनिश्चितता के बादल उड़ेल दिए हैं।

रावणों और मर्यादा-भंग का पुराना सम्बन्ध है- और इसी सम्बन्ध को चरितार्थ करते हुए खुद को ‘रावण’ घोषित करने वाले भीम आर्मी संस्थापक वकील चंद्रशेखर ने चुनावी आचार संहिता भंग कर देवबंद में रैली निकाली, जिसके बाद उत्तर प्रदेश पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

श्री रावण जी अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ चुनावी आचार संहिता और प्रदेश की कानून व्यवस्था को धता बताते हुए पूरे ज़ोरों-शोरों से रैली निकाल रहे थे, पर देवबंद पुलिस द्वारा आचार संहिता और 144 के उल्लंघन में गिरफ्तार करते ही इस वज्रकाय योद्धा को अचानक तबियत ख़राब हो जाने के कारण अस्पताल ले जाना पड़ा

अपने महान सेनानायक के बंदी बनाए जाने की सूचना जब रावण जी की सेना (समर्थक-मण्डली) को प्राप्त हुई तो पीठ दिखाकर कायरों की तरह तितर-बितर ही जाने की अपेक्षा इन रणबाँकुरों ने सहारनपुर-मुजफ्फरनगर स्टेट हाइवे को जाम कर दिया, और राजकाज के प्रकाण्ड पण्डित माने जाने वाले (original) भीम और भारत की शासन-विधि के लेखक-समिति के अध्यक्ष भीमराव अम्बेडकर जी का सीना गर्व से 56 इंच(?) चौड़ा किया।

15 मार्च को कांशीराम जी करते रह जाएँगे इंतज़ार

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

ऐसा सुनाई पड़ रहा है कि कासमपुर में गिरफ्तार और देवबंद के किसी स्कूल में बंद महापण्डित रावण जी बसपा के संस्थापक और सुश्री मायावती के राजनीतिक गुरू कांशीराम जी (वही, जिनके बारे में यह कहा जाता है कि वह अयोध्या विवाद का हल विवादित स्थल पर शौचालय बनवाकर करना चाहते थे) की जयंती के सुअवसर पर 15 मार्च को दिल्ली के जंतर-मंतर में एक रैली पहुँचाना चाहते थे जो कि 13 मार्च को मुजफ्फरनगर से कूच करती और 14 मार्च को गाज़ियाबाद को अपनी मनमोहनी उपस्थिति से उपकृत करती हुई 15 को जंतर-मंतर पहुँचती। पर दुष्ट जातिवादी आदित्यनाथ ने हिन्दू युवा वाहिनी के लोगों को यूपी राजपुरुषों (पुलिस) की वर्दी में भेजकर इस रैली पर अनिश्चितता के बादल उड़ेल दिए हैं।

अथ नव रावण जीवन वृत्तान्त  

उस प्रथम रावण की त्रासद जीवन कथा से तो हम सभी वाकिफ़ हैं जो श्रेष्ठ ब्राह्मण कुल में जन्म और लालन-पालन पाकर भी anti-दलित प्रताड़ना का शिकार हुआ, और जिसे जातिवादी, मनुवादी, दबंग ठाकुर राम सिंह ने अपनी जोरू चुराने के ‘छोटे से’ आरोप में बा-खानदान मौत के घाट उतार दिया। पर इन नए रावण की कहानी भी कम रोमांचक नहीं है।

अपने पुराने हमनाम की तरह श्री चंद्रशेखर रावण भी ज्योतिष और भविष्य-वाचन विद्या के प्रखर ज्ञानी हैं- मई 2017 से सितम्बर 2018 तक रासुका (राष्ट्रीय सुरक्षा कानून) में जेल में रहने के बाद जब यूपी की फ़ासीवादी मनुवादी सरकार ने उन्हें रिहा कर उनका अपमान करने का दुस्साहस किया तो इस महाज्ञानी ने यह भविष्यवाणी कर दी कि अगले 10 दिनों के भीतर भाजपा सरकार उन्हें दोबारा किसी-न-किसी बहाने दोबारा कृष्ण-जन्मभूमि (कारागृह) का उनका टिकट कटा देगी।

2017 में श्री रावण जी पर रासुका लगने का किस्सा भी फ़ासिस्ट-ब्राह्मणवादी गठजोड़ और उसके सिरमौर आदित्यनाथ के निरंकुश शासन का ही उदाहरण है। जब सहारनपुर जनपद के शब्बीरपुर ग्राम के दुष्ट ठाकुरों ने महान पैगम्बर-राजा अकबर द ग्रेट के खिलाफ़ लड़ाई करने वाले शॉविनिस्ट (chauvinist) राणा प्रताप का बर्थडे मनाने की हिमाकत की तो अपनी उस समय केवल लगभग 5 साल पुरानी नवजात भीम आर्मी के साथ वीर रावण जी यह दुष्कृत्य रोकने अपनी जान हथेली पर रखकर पहुँच गए। ज़ाहिर सी बात है कि दबंग ठाकुरों ने अत्याचार-पूर्वक इस जनांदोलन को दबाने का पूर्ण प्रयास किया पर अल्लाह की मेहरबानी से दुष्ट ठाकुरों को ही अपने एक सदस्य की जान से हाथ जोना पड़ा।

इसके बाद श्री रावण जी ने सहारनपुर के रामनगर में महापंचायत बुलानी चाही, जातिवादी पुलिस ने ज़ाहिर तौर पर अनुमति नहीं दी, पर क्रांति भला कब रुकती है? मजबूरन संचार विद्या के भी महारथी रावण जी ने (जो कि original रावण की ही भांति multi-talented भी हैं) सोशल मीडिया के कबूतरों के द्वारा अपना सन्देश वाइरल कर दिया। उनकी सेना सैकड़ों की संख्या में जुट गई और जातिवादी पुलिस को जम कर रगेदा, जिसके बाद दुष्ट आदित्यनाथ ने उन्हें अन्दर कर दिया।

यह रावण जी की organizational skills नहीं तो और क्या हैं कि जिस भीम आर्मी का गठन दलित समाज की सेवा और गरीब कन्याओं के विवाह के लिए धन जुटाने जैसे बेकार के कार्यों के लिया किया गया था, उसे आज उन्होंने सहारनपुर, शामली, मुजफ्फरनगर समेत पश्चिमी यूपी का खासा ताकतवर राजनीतिक संगठन बना दिया है। यह उनके राजनीतिक प्रताप का ही सबूत है कि देश भर में दलित राजनीति का ‘आइकन’ मानी जाने वालीं सुश्री मायावती जी से वह प्रेरणा या आशीर्वाद नहीं लेते, बल्कि उन्हें अपना समर्थन देकर कृतार्थ करते हैं।


शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

कॉन्ग्रेस

राहुल गाँधी की सुस्त रणनीति से चिंतित मीडिया, ‘इन्वेस्टमेंट’ खतरे में

मीडिया के एक धड़े में कॉन्ग्रेस की संभावित हार को लेकर अफरा-तफरी का माहौल है। शायद इतना ‘दाँव’ पर लगा है कि अब खुलकर भाजपा को हराने की हिमायत उनकी मजबूरी है।
आरफा खानम

शब्बीर बरखा को भेजता है अश्लील फोटो, आरफ़ा को ‘होली बिस्मिल्ला’ पर अशरफ़ी कहता है ‘डर्टी लेडी’

एक तरफ बरखा दत्त को अश्लील तस्वीर भेजने वाला शब्बीर है, वहीं दूसरी ओर 'द वायर' की पत्रकार आरफ़ा खानम हैं जिन्होंने होली मुबारक कहते हुए 'बिस्मिल्ला' शब्द लिखा तो 'सच्चे' मुसलमान भड़क उठे।
नीरव मोदी

नीरव मोदी की गिरफ़्तारी से दुःखी और अवसादग्रस्त कॉन्ग्रेस पेट पर मूसल न मार ले

कॉन्ग्रेस की यही समस्या है कि वो इतना नकारा तो चौवालीस सीट पाने के बाद भी नहीं महसूस कर पाया जितना विपक्ष में कि इतने नेताओं के महागठबंधन के बाद भी मोदी को घेरने के लिए उसके पास सिवाय अहंकार और अभिजात्य घमंड के और कुछ भी नहीं है।

स्वामी असीमानंद और कर्नल पुरोहित के बहाने: ‘सैफ्रन टेरर’ की याद में

कल दो घटनाएँ हुईं, और दोनों ही पर मीडिया का एक गिरोह चुप है। अगर यही बात उल्टी हो जाती तो अभी तक चुनावों के मौसम में होली की पूर्व संध्या पर देश को बताया जा रहा होता कि भगवा आतंकवाद कैसे काम करता है। चैनलों पर एनिमेशन और नाट्य रूपांतरण के ज़रिए बताया जाता कि कैसे एक हिन्दू ने ट्रेन में बम रखे और मुसलमानों को अपनी घृणा का शिकार बनाया।
रणजीत सिंह

कोहिनूर धारण करने वाला सिख सम्राट जिसकी होली से लाहौर में आते थे रंगीन तूफ़ान, अंग्रेज भी थे कायल

कहते हैं कि हवा में गुलाल और गुलाबजल का ऐसा सम्मिश्रण घुला होता था कि उस समय रंगीन तूफ़ान आया करते थे। ये सिख सम्राट का ही वैभव था कि उन्होंने सिर्फ़ अंग्रेज अधिकारियों को ही नहीं रंगा बल्कि प्रकृति के हर एक आयाम को भी रंगीन बना देते थे।

मोदी बनाम गडकरी, भाजपा का सीक्रेट ‘ग्रुप 220’, और पत्रकारिता का समुदाय विशेष

ये वही लम्पटों का समूह है जो मोदी को घेरने के लिए एक हाथ पर यह कहता है कि विकास नहीं हुआ है, रोजगार कहाँ हैं, और दूसरे हाथ पर, फिर से मोदी को ही घेरने के लिए ही, यह कहता है कि गडकरी ने सही काम किया है, उसका काम दिखता है।
मस्जिद

न्यूजीलैंड के बाद अब इंग्लैंड की 5 मस्जिदों पर हमला: आतंकवाद-रोधी पुलिस कर रही जाँच

हमलों के पीछे का मकसद अज्ञात है लेकिन वेस्ट मिडलैंड्स पुलिस ऐसा मान रही है कि सारे हमले एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं। यही कारण है कि आतंकवाद-रोधी पुलिस मामले की जाँच कर रही है।
ताशकंद फाइल्स

The Tashkent Files: मीडिया गिरोह वालों… यह प्रोपेगेंडा नहीं, अपने ‘लाल’ का सच जानने का हक है

यह फिल्म तो 'सच जानने का नागरिक अधिकार' है। यह उस महान नेता की बहुत बड़ी सेवा है, जिसकी रहस्यमय मौत की पिछले 53 वर्षों में कभी जाँच नहीं की गई।
PM Modi मूवी ट्रेलर

PM NARENDRA MODI: जान डाल दिया है विवेक ओबेरॉय ने – दर्द, गुस्सा, प्रेम सब कुछ है ट्रेलर में

विवेक ओबेरॉय के अलावा बोमन इरानी, बरखा बिष्ट, मनोज जोशी, प्रशांत नारायण, राजेंद्र गुप्ता, जरीना वहाब और अंजन श्रीवास्तव मुख्य भूमिकाओं में होंगे। फिल्म का डायरेक्शन उमंग कुमार ने किया है।

‘अश्लील वीडियो बनाकर सेवादारों ने किया था ब्लैकमेल’, पुलिस ने पेश किया 366 पन्नों का चालान

ब्लैकमेलिंग से परेशान होकर वह मानसिक रूप से बीमार हो गए थे। जाँच के आधार पर पुलिस का दावा है कि सुसाइड नोट को सेवादारों ने षड्यंत्र के तहत आत्महत्या करने से पहले लिखवाया था।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

24,263फैंसलाइक करें
6,161फॉलोवर्सफॉलो करें
30,697सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें


शेयर करें, मदद करें: