Friday, May 7, 2021
Home हास्य-व्यंग्य-कटाक्ष ESPN की क्रांति, धार्मिक-जातिगत पहचान खत्म: दिल्ली कैपिटल्स और राजस्थान रॉयल्स के मैच की...

ESPN की क्रांति, धार्मिक-जातिगत पहचान खत्म: दिल्ली कैपिटल्स और राजस्थान रॉयल्स के मैच की कॉमेंट्री में रिकॉर्ड

‘कप्तान’ के स्थान पर ‘जन-प्रतिनिधि’ का उपयोग किया जाएगा। ‘जन-प्रतिनिधियों’ का केवल प्रारंभिक नाम ही लिया जाएगा। जैसे ऋषभ, संजू, आजिंक्य... ‘ब्राह्मणवादी’ सरनेम हटा कर...

15 अप्रैल को ESPN क्रिकइन्फो ने निर्णय लिया कि अब उसके द्वारा क्रिकेट कवरेज और मैच कॉमेंट्री में ‘लैंगिक असमानता’ को बढ़ावा देने वाले शब्दों का उपयोग नहीं किया जाएगा। उदाहरण के लिए ESPN के द्वारा ‘बैट्समैन’ के स्थान पर ‘बैटर’ और ‘मैन ऑफ द मैच’ के स्थान पर ‘प्लेयर ऑफ द मैच’ जैसे शब्दों का उपयोग होगा।

ESPN के इस ‘क्रांतिकारी’ निर्णय के पीछे उद्देश्य है कि क्रिकेट के क्षेत्र में भी ‘लैंगिक समानता’ स्थापित हो। ESPN क्रिकइन्फो के श्रेष्ठ शाह ने अन्य ‘संगठनों’ से यह अपील की है कि वे भी ESPN के साथ क्रांति की राह पर चल निकलें।    

अब प्रश्न यह उठता है कि क्या यह निर्णय कुछ दो-चार शब्दों को बदलने तक ही सीमित रहेगा अथवा यह ‘क्रांति की आग’ पूरे क्रिकेट समाज में व्याप्त असमानतावादी भावों को जला कर राख कर देगी। ऐसे में यह अंदाजा लगाया गया कि ‘बैट्समैन’ को ‘बैटर’ करने और ‘मैन ऑफ द मैच’ को ‘प्लेयर ऑफ द मैच’ करने के अतिरिक्त और क्या-क्या बदलाव संभव हैं जो ESPN इस समाज को उपहार स्वरूप दे सकता है।

दिल्ली कैपिटल्स और राजस्थान रॉयल्स के आज (15 अप्रैल 2021) के मैच के विषय में ESPN क्या बदलाव कर सकता है, इसके विषय में कुछ चर्चा की जा सकती है।

शुरुआत में ही ‘इंडियन प्रीमियर लीग’ के स्थान पर ‘ग्लोबल प्रीमियर लीग’ का उपयोग किया जा सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि आईपीएल में केवल भारतीय खिलाड़ी नहीं खेलते अपितु दुनिया भर के खिलाड़ी खेलते हैं। ‘इंडियन’ शब्द एक्सट्रीम राष्ट्रवाद का परिचायक न बन जाए, इसलिए ‘इंडियन’ शब्द की जगह ‘ग्लोबल’ शब्द का उपयोग ESPN द्वारा किया जाएगा।

ESPN ‘मा फलेषु कदाचन’ पर विश्वास करता है, अतः मैच का परिणाम मायने नहीं रखता। मैच में हर कोई विजेता ही है, भले ही मैच कोई भी जीते किन्तु पॉइंट टेबल में जो भेदभाव होगा, उसके विषय में ESPN की क्या राय है, यह अभी निश्चित नहीं है!  

‘कप्तान’ के स्थान पर ‘जन-प्रतिनिधि’ का उपयोग संभव है क्योंकि ‘कप्तान’ शब्द से ‘अधिनायकवाद’ अथवा ‘स्वघोषित नायकवाद’ की बदबू आती है। ‘कप्तान’ एक ऐसा शब्द लगता है, मानो कि टीम का कप्तान ही सब कुछ है और वर्तमान सरकार की भाँति वह भी निरंकुश हो गया है।

‘टॉस’ को भी बदल दिया जाएगा और कहा जाएगा कि ‘देखते हैं, सिक्का क्या चाहता है?’ भले ही सिक्का एक निर्जीव है लेकिन उसे ऊपर उछालना सही नहीं माना जा सकता है।  

‘जन-प्रतिनिधियों’ का केवल प्रारंभिक नाम ही लिया जाएगा। जैसे ऋषभ, संजू, आजिंक्य इत्यादि। ऐसा इसलिए क्योंकि सरनेम से ‘जातिगत’ और ‘धार्मिक’ पहचान को बढ़ावा मिल सकता है। अच्छा हुआ कि गौतम गंभीर क्रिकेट से रिटायर हो गए अन्यथा उनका तो पहला नाम ही ‘ब्राह्मणवादी’ है और सनातन धर्म के एक ऋषि से जुड़ा हुआ है। ऐसे में ESPN के समक्ष एक महान संकट आ खड़ा होता।  

हालाँकि ESPN के सामने कई और मुद्दे भी हैं। जैसे ‘सिक्का क्या चाहता है’ वाली परंपरा में भी सिक्का ही उपयोग किया जाता है, जो पूंजीवाद का प्रतीक है। उस पर जो ‘जन-प्रतिनिधि’ होता है, वह यदि ‘हेड्स’ कहता है तो इसका तात्पर्य यही हुआ कि वह ‘टेल’ जो कि ‘हेड’ की तुलना में नीचे होता है, उसे नकार रहा है और ‘हेड’ का चयन करके उच्च सत्तात्मक प्रवृत्ति को बढ़ावा दे रहा है। इस पर विचार मंथन किया जा रहा है और शीघ्र ही ‘सिक्का क्या चाहता है’ परंपरा को सकुशल बिना ऊँच-नीच के सम्पूर्ण करने के लिए नए शब्दों का आविष्कार किया जाएगा। 

हालाँकि राजस्थान रॉयल्स के जन-प्रतिनिधि संजू ने सिक्के की इच्छा जानने के लिए उसे यात्रा पर भेजा किन्तु दिल्ली कैपिटल्स के जन-प्रतिनिधि ने हेड्स ही चुना। सिक्के ने भी अपनी पूंजीवादी प्रवृत्ति के अनुसार हेड्स ही चुना। इस प्रकार संजू से पहले बल्लेबाजी करने का अवसर छीन लिया गया और यह अवसर ऋषभ को ही प्राप्त हुआ।

इसके बाद आगे की कॉमेंट्री मैच शुरू के बाद प्रारंभ की जाएगी।  

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Sandeep Kadian
Sports, Satire, Politics, Golgappa.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गायों के लिए ऑक्सीमीटर, PM CARES वाले वेंटीलेटर्स फाँक रहे धूल: सरकार को ऐसे बदनाम कर रहे मीडिया गिरोह

इस समय भारत दो मोर्चों पर लड़ रहा - एक कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण से और दूसरा मीडिया समूहों द्वारा फैलाई जा रही फेक न्यूज और नैरेटिव से।

बाहर No Bed का नोटिस, UP प्रशासन के एक्शन में आते ही मिले 969 बेड खाली: कोविड अस्पतालों में धांधली की खुली पोल

डीएम ने जब हर अस्पताल का ब्यौरा जाँचा तो सिर्फ 24 घंटे में पता चला कि कोविड अस्पतालों में 969 बेड खाली पड़े हैं। इनमें 147 वेंटीलेटर और...

भारत की मदद को आए कई विदेशी हिंदू मंदिर: करोड़ों रुपए, ऑक्सीजन कन्संट्रेटर और सिलिंडर से सहायता

ये हिंदू मंदिर भले ही विदेशों में स्थित हैं लेकिन जब बात हिंदुस्तान को संकट से उभारने की आई तो इन्होंने अपने सामर्थ्य से ऊपर उठ कर...

बंगाल हिंसा वाली रिपोर्ट राज्यपाल तक नहीं पहुँचे: CM ममता बनर्जी का ऑफिसरों को आदेश, गवर्नर का आरोप

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने ममता बनर्जी पर यह आरोप लगाया है कि उन्होंने चुनाव परिणाम के बाद हिंसा पर रिपोर्ट देने से...

‘मेरी बहू क्रिकेटर इरफान पठान के साथ चालू है’ – चचेरी बहन के साथ नाजायज संबंध पर बुजुर्ग दंपत्ति का Video वायरल

बुजुर्ग ने पूर्व क्रिकेटर पर आरोप लगाते हुए कहा, “इरफान पठान बड़े अधिकारियों से दबाव डलवाता है। हम सुसाइड करना चाहते हैं।”

महाराष्ट्र पुलिस में दलाली और उद्धव-पवार का नाम: जिस महिला IPS ने खोले पोल, उनकी गिरफ्तारी पर HC की रोक

IPS अधिकारी रश्मि शुक्ला बॉम्बे हाईकोर्ट पहुँचीं, जहाँ FIR रद्द कर के पुलिस को कोई सख्त कदम उठाने से रोकने का निर्देश देने की दरख़्वास्त की गई।

प्रचलित ख़बरें

‘मेरी बहू क्रिकेटर इरफान पठान के साथ चालू है’ – चचेरी बहन के साथ नाजायज संबंध पर बुजुर्ग दंपत्ति का Video वायरल

बुजुर्ग ने पूर्व क्रिकेटर पर आरोप लगाते हुए कहा, “इरफान पठान बड़े अधिकारियों से दबाव डलवाता है। हम सुसाइड करना चाहते हैं।”

नेशनल जूनियर चैंपियन रहे पहलवान की हत्या, ओलंपियन सुशील कुमार को तलाश रही दिल्ली पुलिस

आरोप है कि सुशील कुमार के साथ 5 गाड़ियों में सवार होकर लारेंस बिश्नोई व काला जठेड़ी गिरोह के दर्जन भर से अधिक बदमाश स्टेडियम पहुँचे थे।

21 साल की कॉलेज स्टूडेंट का रेप-मर्डर: बंगाल में राजनीतिक हिंसा के बीच मेदिनीपुर में महिला समेत 3 गिरफ्तार

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के बाद हो रही हिंसा के बीच पश्चिम मेदिनीपुर जिले से बलात्कार और हत्या की एक घटना सामने आई है।

पेड़ से लटके मिले BJP के गायब कार्यकर्ता, एक के घर बमबारी: ममता ने 29 IPS बदले, बंगाल हिंसा पर केंद्र को रिपोर्ट नहीं

ममता बनर्जी ने शपथ लेते ही 16 जिलों के SP को इधर-उधर किया है। अधिकतर ऐसे हैं, जिन पर चुनाव आयोग ने भरोसा नहीं जताया था।

असम में भाजपा के 8 मुस्लिम उम्मीदवारों में सभी की हार: पार्टी ने अल्पसंख्यक मोर्चे की तीनों इकाइयों को किया भंग

भाजपा से सेक्युलर दलों की वर्षों पुरानी शिकायत रही है कि पार्टी मुस्लिम सदस्यों को टिकट नहीं देती पर जब उसके पंजीकृत अल्पसंख्यक सदस्य ही उसे वोट न करें तो पार्टी क्या करेगी?

‘हिंदुओं तौबा कर लो… कलमा पढ़ मुसलमान बन जाओ’: यति नरसिंहानंद, कोरोना पर मौलवी का जहरीला Video

'कोरोना से लोग मारे जा रहे और श्मशान घाट में चिता जलाने की जगह नहीं है... उसकी सबसे बड़ी वजह इस्लाम की मुखालफत है।"
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,362FansLike
89,814FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe