Friday, July 1, 2022
Homeहास्य-व्यंग्य-कटाक्ष'टोटी चोर' के बाद मार्केट में AC 'चोर', कन्हैया 'क्रांति' कुमार का कॉन्ग्रेसी अवतार

‘टोटी चोर’ के बाद मार्केट में AC ‘चोर’, कन्हैया ‘क्रांति’ कुमार का कॉन्ग्रेसी अवतार

कन्हैया द कॉमरेड क्रांति कुमार एयर कंडीशनर (AC) 'उखाड़कर' ले गए हैं। वो भी कॉमरेडों के उस दफ्तर से जहाँ वे रहते थे। 'भक्त' की खबर मान खारिज मत कीजिए... क्योंकि सूचना एक वामपंथी नेता ने ही दी है।

उत्तर प्रदेश इस समय चुनावी मौसम में रंगा है। 2022 में विधानसभा चुनाव होना है। इससे पहले राज्य में 2017 में विधायकी का चुनाव हुआ था। बबुआ कहे जाने वाले साहब मुख्यमंत्री होते थे। चुनाव हार गए। कहते हैं कि मुख्यमंत्री का आधिकारिक हाउस खाली करने से पहले वे टोटी भी उखाड़ ले गए।

Quora पर तो लोग बकायदा सवाल-जवाब भी खेल लेते हैं: श्रीमान अखिलेश यादव को टोटी चोर क्यों कहा जाता है?

साभार: hi.quora.com

अब इसी तरह की एक फिल्म बिहार में रिलीज हुई है, जहाँ अभी पंचायत चुनाव चल रहे हैं। खबर है कि कॉमरेड क्रांति कुमार एयर कंडीशनर (AC) ‘उखाड़कर’ ले गए हैं। वो भी कॉमरेडों के उस दफ्तर से जहाँ वे रहते थे। अब आप इसे किसी ‘भक्त’ की खबर मान खारिज कर दें या रवीश कुमार इसे ‘व्हाट्सऐप यूनिवर्सिटी’ से निकला ज्ञान बता दें, उससे पहले ही बता देता हूँ कि ये खुलासा एक कॉमरेड ने ही किया है।

इस कॉमरेड का नाम है रामनरेश पांडेय। ये वाले पांडेय जी का उस वाले पांडेय जी से कोई रिलेशन नहीं है, जिन्हें भक्त रवीश कुमार का भाई बता बलात्कार वाली बात करने लगते हैं। वे पांडेय जी कॉन्ग्रेसी हैं और ये वाले पांडेय जी सीपीआई के बिहार प्रदेश सचिव। इसी सीपीआई के नेता अपने क्रांति कुमार भी हैं, जिनके पिछले कुछ दिनों से हाथ थामने के चर्चें जोरों पर हैं।

रामनेरश पांडेय ने एक मीडिया संस्थान को बताया कि कन्हैया कुमार ने प्रदेश कार्यालय के अपने कमरे में लगा AC ले जाने की इजाजत माँगी थी। पार्टी ने यह कहते हुए कि ‘यह आपकी संपत्ति है, आप इसे ले जा सकते हैं’ इजाजत भी दे दी। पांडेय जी के इस बयान ने अच्छे दिन आने की मुहर भी लगा दी है। इससे अच्छे दिन क्या हो सकते हैं कि एक ‘आंगनबाड़ी सेविका’ का बेटा वातानुकूलित सुख ले!

एक अजीब संयोग यह भी है कि मुख्यमंत्री पद से विदाई के बाद नेताजी ने जब टोटी उखाड़ी थी, उससे पहले उन्होंने कॉन्ग्रेस कुमार के साथ ही हाथ मिलाया था। खूब नारे भी लगे थे- यूपी को ये साथ पसंद है। अब क्रांति कुमार जब दफ्तर से एसी उखाड़कर ले जा रहे हैं तो उनके भी कॉन्ग्रेस कुमार के साथ ही हाथ मिलाने के चर्चे हैं। वैसे भी जब हाथ साथ वाली बात हो तो हाथ की सफाई बनती भी है!

वैसे हमे कॉमरेडों के दावों पर रत्ती भर भी यकीन नहीं। इन्हीं कॉमरेडों के कैंप से शेहला रशीद के बैग में कंडोम मिलने की बात भी निकली थी। यह भी संयोग है कि तब शेहला भी बिहार में थी और अपने क्रांति कुमार ही चुनाव लड़ रहे थे।

एक फिल्म आई थी कटी पतंग। उसका एक गाना था- जिस गली में तेरा घर न हो बालमा, उस गली से हमे तो गुज़रना नहीं… अब जिस गली में राष्ट्रवाद की लौ न जले उस गली से अपने को क्या। टोटी उखड़े या एसी!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,269FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe