Thursday, April 18, 2024
Homeहास्य-व्यंग्य-कटाक्षकुणाल कामरा सस्ते कॉमेडियन ज़रूर हैं, लेकिन उन्हें ग्लोबल आतंकी बताना गलत: UN

कुणाल कामरा सस्ते कॉमेडियन ज़रूर हैं, लेकिन उन्हें ग्लोबल आतंकी बताना गलत: UN

तीखी मिर्ची सेल ने बताया कि तस्वीर में दिखने वाला यह शख़्स ग्लोबल आतंकी मसूद अजहर नहीं बल्कि एक छुटभैय्या कॉमेडियन है, जो सड़कों पर लोगों से गैर-राजनीतिक तरीके से मोदी को वोट ना देने की भीख माँगता है।

जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकवादी घोषित किए जाने के बाद सोशल मीडिया पर दहशत का माहौल देखने को मिला है। सोशल मीडिया पर युवाओं ने मसूद अजहर की ‘क्यूटी पाई’ तस्वीर के अभाव में किसी ऐसे सज्जन की तस्वीर उठाकर शेयर कर डाली, जिसका वैश्विक आतंकवाद से कोई सम्बन्ध नहीं है। व्हाट्सएप्प ग्रुप्स में खुद ही ‘हेलो जी, स्वीट निनी जी’ तस्वीरें ‘वायरल’ कर उसका #Fact Check करने वाले सॉल्ट न्यूज़ नामक गिरोह ने भी इस तस्वीर को तत्परता से आड़े हाथों लेते हुए इस युवक की तस्वीर का भंडाफोड़ करते हुए लिखा है, “नहीं, तस्वीर दिखने वाला व्यक्ति नहीं है ग्लोबल आतंकी मसूद अजहर।”

ऑपइंडिया ‘तीखी मिर्ची सेल’ ने इस तस्वीर को चारों ओर से घेर लिया

इसके बाद जब हमने इस तस्वीर की वास्तविकता जाँचने के लिए ऑपइंडिया तीखी मिर्ची सेल के पास फैक्ट चेक के लिए भेजा, तो हमें इसमें कुछ गैर-राजनीतिक और चौंकाने वाले साक्ष्य नजर आए।

ऑपइंडिया तीखी मिर्ची सेल ने जो जानकारी दी है वो ‘भोत हार्ड’ है। तीखी मिर्ची सेल ने बताया कि तस्वीर में दिखने वाला यह शख़्स ग्लोबल आतंकी मसूद अजहर नहीं बल्कि एक छुटभैय्या कॉमेडियन है, जो सड़कों पर लोगों से गैर-राजनीतिक तरीके से मोदी को वोट ना देने की भीख माँगता है। तीखी मिर्ची सेल ने यह भी बताया कि इस सस्ते कॉमेडियन के तार भारत की बुर्जुर्ग राष्ट्रीय पार्टी कॉन्ग्रेस से भी जुड़े हैं और यह उनका गैर-राजनीतिक पार्टी प्रवक्ता भी है। हालाँकि, इसके बाद जब तीखी मिर्ची सेल ने कुणाल कामरा से बात करने की कोशिश की तो उन्होंने यह नहीं बताया कि उन्हें कॉन्ग्रेस से जुड़े होने के बाद भी कॉमेडी ना कर पाने की वजह से टारगेट किया जा रहा है।

सड़कों पर ‘एंटी मोदी कॉमेडी’ करने की वजह से बन गया है ‘चूसा हुआ आम’

हालाँकि, गर्मी में सड़कों पर दिन-रात एक कर के मोदी को वोट ना देने की अपील करने के कारण कॉन्ग्रेस के इस पार्टी प्रवक्ता की हड्डियाँ शिथिल पड़ गई हैं, जिस कारण ये ग्लोबल आतंकवादी मसूद अजहर जैसे नजर आने लगा है। लेकिन, फिर भी सोशल मीडिया पर लोगों का यह दावा सिरे से गलत है कि यही ग्लोबल आतंकवादी मसूद अजहर है।

सड़कों पर कूटे जाने के भी हैं प्रमाण, इसके बाद ही अपनाया था ‘न्यू लुक’

इस सस्ते कॉमेडियन का फैक्ट चेक करने पर तीखी मिर्ची सेल के हाथ एक पुराना ‘वायरल वीडियो’ भी हाथ लगा है, जिसमें यही मसूद अजहर जैसा दिखने वाला कॉमेडी के नाम पर खुद कॉमेडी, यानी कुणाल कामरा सड़क पर कुछ मनचले युवाओं द्वारा कूटे जा रहे हैं और वो अपनी करतूतों के लिए माफ़ी माँगते हुए भी देखे गए हैं। सूत्रों का यहाँ तक कहना है कि कुणाल कामरा ने इस घटना के बाद ही अपना लुक बदलने के लिए नया भेष धरा था, लेकिन इस नए रूप में वो पूरे आतंकवादी मसूद अजहर की तरह नजर आने लगे और सोशल मीडिया पर अनपेड ट्रॉल्स द्वारा ट्रॉल किए गए। हालाँकि, ऑपइंडिया इस तरह की किसी भी हिंसा की कड़ी निंदा करता है।

हमारी राय

हमारी राय यही है कि लोगों को सोशल मीडिया पर इस प्रकार की तस्वीरों को वायरल करने से बचना चाहिए। कॉन्ग्रेस के गैर-राजनीतिक पार्टी प्रवक्ता होने मात्र से कुणाल कामरा ग्लोबल आतंकवादी ठहराया जाना निंदनीय है और इसकी कड़ी से कड़ी निंदा की जानी चाहिए।

वायरल तस्वीरों की एक झलक

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

आशीष नौटियाल
आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हलाल-हराम के जाल में फँसा कनाडा, इस्लामी बैंकिंग पर कर रहा विचार: RBI के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने भारत में लागू करने की...

कनाडा अब हलाल अर्थव्यवस्था के चक्कर में फँस गया है। इसके लिए वह देश में अन्य संभावनाओं पर विचार कर रहा है।

त्रिपुरा में PM मोदी ने कॉन्ग्रेस-कम्युनिस्टों को एक साथ घेरा: कहा- एक चलाती थी ‘लूट ईस्ट पॉलिसी’ दूसरे ने बना रखा था ‘लूट का...

त्रिपुरा में पीएम मोदी ने कहा कि कॉन्ग्रेस सरकार उत्तर पूर्व के लिए लूट ईस्ट पालिसी चलाती थी, मोदी सरकार ने इस पर ताले लगा दिए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe