Wednesday, January 27, 2021
Home संपादक की पसंद कौन बनेगा PM और कैबिनेट में होगा कौन... चुनने का आख़िरी मौक़ा सिर्फ़ यहाँ!

कौन बनेगा PM और कैबिनेट में होगा कौन… चुनने का आख़िरी मौक़ा सिर्फ़ यहाँ!

48 साल के चिर-युवा नेता राहुल गाँधी जी ने ऑपइंडिया को अपना 'पार्टनर' चुना है। क्योंकि राहुल जी को 'लोकतंत्र' में है विश्वास! और कैबिनेट भी वो 'लोकतांत्रिक' तरीके से ही चुनेंगे। तो...

तारीख़ – 27 मई
साल – 2019
दिन – सोमवार

पंचांग देखेंगे तो तो इस दिन में अशुभ काल शुभ समय पर भारी है। लेकिन सोमवार तो भोलेनाथ का दिन है। और बंदा ठहरा महाकाल का भक्त – एकदम औघड़। कसौल वाली हाई क्वॉलिटी माल का अखण्ड धुआँ छोड़ते हुए चिल्लाया – ‘अकाल मृत्यु वो मरे जो काम करे चांडाल का, काल उसका क्या करे जो भक्त हो महाकाल का।’

औघड़ कौन? वही, जिसने महागठबंधन को बाँध कर रखने वाली बूटी दी। जो अलीगढ़ के वशीकरण और #@$करणी वाले बाबाओं का बाबा है। हाँ, हाँ… भगंदर-फिशर शाही दवाखाना वाला! अब इनकी बूटी तो काम आनी ही थी। सो आ गई।

चारों ओर जीत का शंखनाद फूँका जा रहा है। देश को ‘संघी-सांप्रदायिक’ ताक़तों से छुटकारा मिल गया है। समाजवाद-लालवाद-बेटावाद-दाढ़ीवाद से लेकर दीदी-बुआवाद सब मिलकर अब माल-वाद की मलाई खाएँगे।

लेकिन कौन कितना खाएगा? इस समस्या के समाधान के लिए 48 साल के चिर-युवा नेता राहुल गाँधी जी ने ऑपइंडिया को अपना पार्टनर चुना है। वो क्या है कि उनका शक्ति ऐप छोटा भीम लेकर भाग गया है। ख़ैर! हम उनको देंगे समाधान, लेकिन माध्यम होंगे आप। क्योंकि राहुल जी को ‘लोकतंत्र’ में है विश्वास! और कैबिनेट भी वो ‘लोकतांत्रिक’ तरीके से ही चुनेंगे। तो शुरू करते हैं पहले सवाल से…


[poll id=”2″]

अब ज़रा इनके प्रोफ़ाइल को भी देख लें। देश वाली बात है, ग़लती की कोई गुंजाइश नहीं।

राहुल गाँधी – ‘गिनीज़ बुक’ में दर्ज़ महाकाल के सबसे असली वाले भक्त। कैलाश पर्वत को 2 दिन में नाप देने वाला ‘पैर’बली। पिछत्तीस से एक ज़्यादा राज्य के अकेले राजकुमार। PM जैसा देखने में लगने वाला अखण्ड भारत का अकेला चेहरा।

ममता बनर्जी – माँ, माटी, मानुष को लाल सलाम से ‘मुक्ति’ दिलाने वाली क्रांति की मसीहा। यह अगर राजनीति में नहीं आतीं तो वेस्ट बंगाल में कुछ भी ‘बेस्ट’ नहीं होता। दुर्गा पूजा पंडालों पर इनके काम को देखकर यूनाइटेड नेशन्स ने इन्हें ‘धरोहर’ की संज्ञा दी है।

मायावती – हाथियों का कष्ट इनसे देखा नहीं जाता। जंगल में उन्हें ठंड न लगे, इस कारण से उनके लिए पार्क बनवा दिया। अब सब हाथी बड़े मज़े में वहाँ खड़े रहते हैं। अपने जन्मदिन पर खुद केक न खाकर भूखे-नंगों को खिलाने की वज़ह से यह कलियुग की ‘लेडी कर्ण’ हैं।

अखिलेश – युवा हैं। लोग इन्हें प्यार से भैया कहते हैं। और डिंपल जी को ‘भाभी’। डिंपल जी इनकी धर्मपत्नी हैं। अपने पिताजी की ‘असाध्य सेवा’ करने के कारण राजनीति के गलियारों में इन्हें श्रवण कुमार कहा जाने लगा है।


[poll id=”3″]

एमके स्टालिन – नाम से ही भारी-भरकम लगते हैं। दुश्मन देश पहले से ही डर जाएगा। भ्रष्टाचार इनके परिवार को ‘छू’ तक नहीं पाया है।

फ़ारुक़ अब्दुल्ला – सीमांत प्रदेश से आते हैं। मतलब भारत की रक्षा करना इनके ख़ून में है। जम्मू-कश्मीर अगर आज ‘स्वर्ग’ है, तो इनके परिवार की ही बदौलत।

शत्रुघ्न सिन्हा – ख़ैर… इनका तो नाम ही शॉटगन है। अपने-आप में रक्षा-सुरक्षा कवच। इनका ‘ख़ामोश’ बोलना और बॉर्डर का सिक्यॉर होना – आधुनिक हिन्दी व्याकरण में पर्यायवाची के तौर पर संकलित कर लिया गया है।


[poll id=”4″]

जयंत चौधरी – लंदन स्कूल ऑफ़ इकॉनमिक्स से पढ़े हैं। लेकिन ‘बात’ खेती-किसानी की करते हैं। इनके पापा अजित सिंह भी खुद को ‘किसानों’ का ही नेता मानते हैं।

शरद पवार – बाप रे! हम-आप जो चीनी खाते-पीते हैं, वो इनकी ही देन है। जैसे हम माँ का कर्ज़, दूध का कर्ज़ नहीं चुका सकते, ठीक उसी तरह पवार साब की ‘चीनी का कर्ज़’ शायद ही कभी चुकाया जा सके।

एचडी देवगौड़ा – अब ये तो पीएम भी रह चुके हैं – 325 दिन तक। किसान-पुत्र हैं। फ़िलहाल बेटे के ग़म में डूबे रहते हैं। सुना है इनका बेटा ‘क्लर्क’ है।


[poll id=”5″]

तेजस्वी यादव – अखण्ड भारत के इतिहास में सबसे ‘ऊँची 9वीं कक्षा’ तक शिक्षा ग्रहण की। मतलब ये जहाँ खड़े होते हैं, शिक्षा वहीं से शुरू होती है। इनके पप्पा का नाम लालू यादव है। विपक्ष की ‘साज़िश’ के कारण जेल में हैं। वैसे शोले वाली मौसी बता के गईं हैं कि सीधे आदमी हैं।

हार्दिक पटेल – युवा दिलों की धड़कन हैं। शिक्षा के साथ-साथ विद्यार्थियों से इतना लगाव कि दो बार में ग्रैजुएशन पास किया। नंबर 50 फ़ीसदी से कम ही आए, लेकिन वो विपक्ष की ‘साज़िश’ थी।

हेमंत सोरेन – भारत के सबसे यंग मुख्यमंत्री का रिकॉर्ड रखते हैं… और क्या चाहिए भाई! वैसे इंटरमीडिएट तक पढ़े हैं। उसके बाद पूरी जवानी ‘राज्य-हित’ में झोंक दी।


[poll id=”6″]

शशि थरूर – इनके बाल बहुत सिल्की हैं। फांय-फांय अंग्रेज़ी बोलते हैं। मतलब महिलाओं को अच्छे लगते हैं। और हाँ… महिलाओं का कल्याण तो छोड़िए, उन्हें मोक्ष दिलाने को ये किसी भी ‘हद’ तक चले जाते हैं।

ममता बनर्जी और मायावती के प्रोफ़ाइल को दोबारा पढ़ने की हिम्मत रखने वाले ‘वीर’ कृपया ऊपर जाकर पढ़ें।


[poll id=”7″]

(Error-404… के कारण सभी विकल्प राहुल गाँधी को ही दिखा रहा है। वित्त का प्रभार सिर्फ़ गाँधी फैमिली के पास हो, कम्प्यूटर जी ऐसी मंशा नहीं है।)

PS: सभी प्रश्नों में राहुल गाँधी जी को विकल्प के तौर पर रखने का मक़सद उस पद की गरिमा को कम आँकना नहीं है बल्कि यह दर्शाता है कि गाँधी की जेनेटिक्स के कारण उनमें वो सभी गुण हैं, जो किसी भी पद के लिए फिट है। मतलब गाँधी से पद है, पद से गाँधी नहीं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

Video: किसानों के हमले में दीवार से एक-एक कर गिरते रहे पुलिसकर्मी, 109 घायल

वीडियो में देखा जा सकता है कि भीड़ द्वारा किए गए हमले से पुलिसकर्मी एक-एक कर लाल किले की दीवार से नीचे गिरते जा रहे हैं।

बिहारी-गुजराती-तमिल-कश्मीरी किसान हो तो डूब मरो… क्योंकि किसान सिर्फ पंजाबी-खालिस्तानी होते हैं, वही अन्नदाता हैं

वास्तविकता ये है कि आप इतने दिनों से एक ऐसी भीड़ के जमावड़े को किसान का आंदोलन कहते रहे। जिसकी परिभाषा वामपंथी मीडिया गिरोह और विपक्षियों ने गढ़ी और जिसका पूरा ड्राफ्ट एक साल पहले हुए शाहीन बाग मॉडल के आधार पर तैयार हुआ।

जर्मनी, आयरलैंड, स्पेन आदि में भी हो चुकी हैं ट्रैक्टर रैलियाँ, लेकिन दिल्ली वाला दंगा कहीं नहीं हुआ

दिल्ली में जो आज हुआ, स्पेन, आयरलैंड, और जर्मनी के किसानों ने वो नहीं किया, हालाँकि वो भी अन्नदाता ही थे और वो भी सरकार के खिलाफ अपनी माँग रख रहे थे।

किसानों के आंदोलन में खालिस्तानी कड़े और नारे का क्या काम?

सवाल उठता है कि जो लोग इसे पवित्र निशान साहिब बोल रहे हैं, वो ये बताएँ कि ये नारा और कड़ा किसका है? यह भी बताएँ कि एक किसान आंदोलन में मजहबी झंडा कहाँ से आया? उसे कैसे डिफेंड किया जाए कि तिरंगा फेंक कर मजहबी झंडा लगा दिया गया?

कैपिटल हिल के लिए छाती पीटने वाले दिल्ली के ‘दंगाइयों’ के लिए पीट रहे ताली: ट्रम्प की आलोचना करने वाले करेंगे राहुल-प्रियंका की निंदा?

कैपिटल हिल वाले अगर दंगाई थे तो दिल्ली के उपद्रवी संत कैसे हुए? ट्रम्प की आलोचना हो रही थी तो राहुल-प्रियंका की निंदा क्यों नहीं? ये दोहरा रवैया अपनाने वाले आज भी फेक न्यूज़ फैलाने में लगे हैं।

वीडियो: जब दंगाई को किसी ने लाल किला पर तिरंगा लगाने दिया, और उसने फेंक दिया!

लाल किले पर एक आदमी सिखों का झंडा चढ़ाने खम्बे पर चढ़ा। जब एक आदमी ने उसकी ओर तिरंगा बढ़ाया तो उसने बेहद अपमानजनक तरीके से तिरंगे को दूर फेंक दिया।

प्रचलित ख़बरें

दिल्ली में ‘किसानों’ ने किया कश्मीर वाला हाल: तलवार ले पुलिस को खदेड़ा, जगह-जगह तोड़फोड़, पुलिस वैन पर पथराव

दिल्ली में प्रदर्शनकारी पुलिस के वज्र वाहन पर चढ़ गए और वहाँ जम कर तोड़-फोड़ मचाई। 'किसानों' द्वारा तलवारें भी भाँजी गईं।

महिला पुलिस कॉन्स्टेबल को जबरन घेर कर कोने में ले गए ‘अन्नदाता’, किया दुर्व्यवहार: एक अन्य जवान हुआ बेहोश

महिला पुलिस को किसान प्रदर्शनकारी चारों ओर से घेरे हुए थे। कोने में ले जाकर महिला कॉन्स्टेबल के साथ दुर्व्यवहार किया गया।

तेज रफ्तार ट्रैक्टर से मरा ‘किसान’, राजदीप ने कहा- पुलिस की गोली से हुई मौत, फिर ट्वीट किया डिलीट

राजदीप सरदेसाई ने तिरंगे में लिपटी मृतक की लाश की तस्वीर अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर करते हुए लिखा कि इसकी मौत पुलिस की गोली से हुई है।

दलित लड़की की हत्या, गुप्तांग पर प्रहार, नग्न लाश… माँ-बाप-भाई ने ही मुआवजा के लिए रची साजिश: UP पुलिस ने खोली पोल

बाराबंकी में दलित युवती की मौत के मामले में पुलिस ने बड़ा खुलासा किया। पुलिस ने बताया कि पिता, माँ और भाई ने ही मिल कर युवती की हत्या कर दी।

हिंदुओं को धमकी देने वाले के अब्बा, मोदी को 420 कहने वाले मौलाना और कॉन्ग्रेस नेता: ‘लोकतंत्र की हत्या’ गैंग के मुँह पर 3...

पद्म पुरस्कारों में 3 नाम ऐसे हैं, जो ध्यान खींच रहे- मौलाना वहीदुद्दीन खान (पद्म विभूषण), तरुण गोगोई (पद्म भूषण) और कल्बे सादिक (पद्म भूषण)।

रस्सी से लाल किला का गेट तोड़ा, जहाँ से देश के PM देते हैं भाषण, वहाँ से लहरा रहे पीला-काला झंडा

किसान लाल किले तक घुस चुके हैं और उन्होंने वहाँ झंडा भी फहरा दिया है। प्रदर्शनकारी किसानों ने लाल किले के फाटक पर रस्सियाँ बाँधकर इसे गिराने की कोशिश भी कीं।
- विज्ञापन -

 

लालकिला में देर तक सहमें छिपे रहे 250 बच्चे, हिंसा के दौरान 109 पुलिसकर्मी घायल; 55 LNJP अस्पताल में भर्ती

दिल्ली में किसान ट्रैक्टर रैली का सबसे बुरा प्रभाव पुलिसकर्मियों पर पड़ा है। किसानों द्वारा की गई इस हिंसा में 109 पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं, जिनमें से 1 की हालात गंभीर बताई जा रही है।

Video: किसानों के हमले में दीवार से एक-एक कर गिरते रहे पुलिसकर्मी, 109 घायल

वीडियो में देखा जा सकता है कि भीड़ द्वारा किए गए हमले से पुलिसकर्मी एक-एक कर लाल किले की दीवार से नीचे गिरते जा रहे हैं।

बिहारी-गुजराती-तमिल-कश्मीरी किसान हो तो डूब मरो… क्योंकि किसान सिर्फ पंजाबी-खालिस्तानी होते हैं, वही अन्नदाता हैं

वास्तविकता ये है कि आप इतने दिनों से एक ऐसी भीड़ के जमावड़े को किसान का आंदोलन कहते रहे। जिसकी परिभाषा वामपंथी मीडिया गिरोह और विपक्षियों ने गढ़ी और जिसका पूरा ड्राफ्ट एक साल पहले हुए शाहीन बाग मॉडल के आधार पर तैयार हुआ।

जर्मनी, आयरलैंड, स्पेन आदि में भी हो चुकी हैं ट्रैक्टर रैलियाँ, लेकिन दिल्ली वाला दंगा कहीं नहीं हुआ

दिल्ली में जो आज हुआ, स्पेन, आयरलैंड, और जर्मनी के किसानों ने वो नहीं किया, हालाँकि वो भी अन्नदाता ही थे और वो भी सरकार के खिलाफ अपनी माँग रख रहे थे।

किसानों के आंदोलन में खालिस्तानी कड़े और नारे का क्या काम?

सवाल उठता है कि जो लोग इसे पवित्र निशान साहिब बोल रहे हैं, वो ये बताएँ कि ये नारा और कड़ा किसका है? यह भी बताएँ कि एक किसान आंदोलन में मजहबी झंडा कहाँ से आया? उसे कैसे डिफेंड किया जाए कि तिरंगा फेंक कर मजहबी झंडा लगा दिया गया?

‘RSS नक्सलियों से भी ज्यादा खतरनाक, संघ समर्थक पैर छूकर गोली मार देते हैं’: कॉन्ग्रेसी सांसद और CM भूपेश बघेल का ज्ञान

कॉन्ग्रेस के सीएम भूपेश ने कहा कि आरएसएस के समर्थक पैर छूकर गोली मार देते हैं। महात्मा गाँधी की हत्या कैसे किया गया था? पहले पैर छुए फिर उनके सीने में गोली मारी।

कैपिटल हिल के लिए छाती पीटने वाले दिल्ली के ‘दंगाइयों’ के लिए पीट रहे ताली: ट्रम्प की आलोचना करने वाले करेंगे राहुल-प्रियंका की निंदा?

कैपिटल हिल वाले अगर दंगाई थे तो दिल्ली के उपद्रवी संत कैसे हुए? ट्रम्प की आलोचना हो रही थी तो राहुल-प्रियंका की निंदा क्यों नहीं? ये दोहरा रवैया अपनाने वाले आज भी फेक न्यूज़ फैलाने में लगे हैं।

‘लाल किले पर लहरा रहा खालिस्तान का झंडा- ऐतिहासिक पल’: ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग ने मनाया ‘ब्लैक डे’

गणतंत्र दिवस पर लाल किले पर 'खालिस्तानी झंडा' फहराने को लेकर ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग (APML) काफी खुश है। पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ द्वारा स्थापित पाकिस्तानी राजनीतिक पार्टी ने इसे 'ऐतिहासिक क्षण' बताया है।

वीडियो: जब दंगाई को किसी ने लाल किला पर तिरंगा लगाने दिया, और उसने फेंक दिया!

लाल किले पर एक आदमी सिखों का झंडा चढ़ाने खम्बे पर चढ़ा। जब एक आदमी ने उसकी ओर तिरंगा बढ़ाया तो उसने बेहद अपमानजनक तरीके से तिरंगे को दूर फेंक दिया।

देशी-विदेशी शराब से लदी मिली प्रदर्शनकारी किसानों की ट्रैक्टर: दिल्ली पुलिस ने किया सीज, देखें तस्वीरें

पुलिस ने शराब से भरे एक ट्रैक्टर को सीज किया है। सामने आए फोटो में देखा जा सकता है कि पूरा ट्रैक्टर शराब से भरा हुआ है। यानी कि शराब के नशे में ट्रैक्टरों को चलाया जा रहा है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
386,000SubscribersSubscribe