देखिए: 1 अप्रैल को ट्विटर पर राहुल गाँधी के बयानों ने ‘बनाया माहौल’

1 अप्रैल के 'शुभ अवसर' पर आज ट्विटर पर #Pappudiwas ट्रेंड किया। अगर आपको यकीन न हो रहा हो तो खुद ट्विटर पर इस हैशटेग को क्लिक करके देख लीजिए, आपको हर रूप में राहुल 'बाबा' के ही दर्शन होंगे।

1 अप्रैल के ‘शुभ अवसर’ पर आज ट्विटर पर #Pappudiwas ट्रेंड कर रहा है। “न जाने क्यों” ट्विटर यूजर्स द्वारा आज ‘पप्पू दिवस’ हैशटैग पर राहुल बाबा को जमकर याद किया जा रहा है। उनके तरह-तरह के वीडियो क्लिप यूजर्स द्वारा शेयर किए जा रहे हैं और उनके कई पुराने बयानों को दोबारा से आज के दिन से जोड़कर प्रासंगिक बना दिया गया है। इस बीच कई मीम भी शेयर हो रहे हैं।

अगर आपको यकीन न हो रहा हो तो खुद ट्विटर पर इस हैशटेग को क्लिक करके देख लीजिए, आपको हर रूप में राहुल बाबा के ही दर्शन होंगे।

इस ट्रेंड में आपको राहुल के वो दिल की बात सुनाई पड़ेगी जिसमें उन्होंने बेहद सीरियस चेहरे के साथ कहा था- “This morning i woke up at night…”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

और साथ ही वो किस्सा भी मिलेगा जिसे सुनाते हुए राहुल ने कॉन्ग्रेस पार्टी को खुद ही एनआरआई लोगों की पार्टी बता दिया था।

इस बीच ट्विटर पर राहुल का एक और बयान भी दोबारा से प्रासंगिक होता दिखा जिसमें उन्होंने स्वीकारा है कि उनके जैसा बेवकूफ़ इस देश में नहीं हैं।

इसके अलावा अभी हाल ही में राहुल बाबा एक जनसभा में पहुँचे थे जहाँ पर मौजूद लोगों को उन्होंने जमकर ज्ञान दिया। यह भी समझाया कि “दुनिया को अपनी स्थिति से मत देखो बल्कि दुनिया को अपनी स्थिति से देखो।” दरअसल वो यहाँ पर कहना क्या चाहते थे यह पक्का पता तो सिर्फ बाबा को ही होगा। शायद इसलिए आज के मौके पर इस छोटे से वीडियो को करीब 582 बार रीट्वीट किया गया।

एक ऐसा वीडियो भी शेयर हुआ जहाँ राहुल दिखा रहे हैं कि तालियाँ कैसी बजाई गईं। इसमें शायद वो संसद में बजी तालियों पर इशारा कर रहे हैं।

इस हैशटेग पर कुछ लोगों ने अपनी कलाकारी भी दिखाई और अमिताभ बच्चन के करोड़पति और राहुल के भाषण को मिला करके एक मैशअप तैयार कर दिया।

ऐसे अनेकों ट्वीट और पोस्ट आज के दिन सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहे हैं। इनमें राहुल द्वारा जनता को किए ₹72000 का भी वादा है, जिसे सबसे छोटा अप्रैल फूल मैसेज बताया गया है।

ट्विटर पर कुछ लोगों ने राहुल को आज के दिन शुक्रिया भी कहा। इन लोगों का मानना है कि राहुल ने उन्हें इस दिन मुस्कुराने और हँसने की वजह दी है।

इसके अलावा कुछ लोगों ने यहाँ तक भी कहा कि अगर राहुल की बात को सुनकर पर कोई कंफ्यूजन हो जाता है तो इसमें गलती राहुल की नहीं हैं, कन्फ्यूज़ होने वाले की है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू विरोध प्रदर्शन
छात्रों की संख्या लगभग 8,000 है। कुल ख़र्च 556 करोड़ है। कैलकुलेट करने पर पता चलता है कि जेएनयू हर एक छात्र पर सालाना 6.95 लाख रुपए ख़र्च करता है। क्या इसके कुछ सार्थक परिणाम निकल कर आते हैं? ये जानने के लिए रिसर्च और प्लेसमेंट के आँकड़ों पर गौर कीजिए।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,921फैंसलाइक करें
23,424फॉलोवर्सफॉलो करें
122,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: