Saturday, May 21, 2022
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतितमिलनाडु के मंदिर से चोरी हुई 500 साल पुरानी भगवान हनुमान की मूर्ति आएगी...

तमिलनाडु के मंदिर से चोरी हुई 500 साल पुरानी भगवान हनुमान की मूर्ति आएगी भारत, बिहार से चोरी हुई भगवान बुद्ध की मूर्ति भी इटली ने लौटाई

बिहार के देवीस्थान कुंडलपुर मंदिर से चोरी हुई भगवान अवलोकितेश्वर पद्मपाणि (बुद्ध) की मूर्ति को मिलान में भारतीय वाणिज्य दूतावास को सौंप दिया गया है। एक महीने के भीतर इसे भारत पहुँचने की भी संभावना है।

तमिलनाडु (Tamil Nadu) में करीब एक दशक पहले चोरी हुई भगवान हनुमान की मूर्ति मिल गई है। 14वीं-15वीं शताब्दी के विजयनगर साम्राज्य के दौरान की इस प्राचीन मूर्ति को चुराकर तस्करी के जरिए विदेश में बेचा गया था। केंद्रीय संस्कृति मंत्री जी किशन रेड्डी का कहना है कि यह मूर्ति विदेश से जल्द भारत लाई जाएगी। 500 साल पुरानी इस मूर्ति को एक व्यक्ति ने हाल ही में ऑस्ट्रेलिया में खोज निकाली है।

केंद्रीय मंत्री ने मूर्ति के बारे में दी जानकारी

केंद्रीय मंत्री ने अपने एक ट्वीट में बुधवार को कहा, “पाँच सौ साल पुरानी भगवान हनुमान की कांस्य प्रतिमा को तमिलनाडु के एक मंदिर से चुरा लिया गया था। इसे अब भारत लाया जाएगा। चुराई गई प्रतिमा को अमेरिकी होमलैंड सेक्युरिटी ने प्राप्त किया। यूएस सीडीए ने अब इसे कैनबरा में भारतीय हाई कमीशन को सौंप दिया है।” रेड्डी ने आगे कहा कि पीएम मोदी के नेतृत्व में भारतीय धरोहरों को वापस लाने का काम चलता रहेगा।

2012 में तमिलनाडु के मंदिर से चोरी हुई थी

ASI के मुताबिक 9 अप्रैल 2012 को इस मूर्ति को अरियालुर जिले के वेल्लूर गाँव में स्थित वर्धराजा पेरूमल मंदिर से चुरा लिया गया। साल 2014 में ऑस्ट्रेलिया में इसकी करीब 29 लाख रुपए में नीलामी हुई। बाद में जाँच पड़ताल के बाद पता चला कि यह मूर्ति तमिलनाडु के मंदिर से चुराई गई है। सूत्रों का कहना है कि मूर्ति की नीलामी करने वाले ऑक्शन हाउस और इसे खरीदने वाले व्यक्ति को यह पता नहीं था कि यह मूर्ति भारत से चुराकर यहाँ लाई गई है। पिछले सात वर्षों में सरकार ने ऐसे करीब 212 धरोहरों एवं कलाकृतियों को वापस लाने में सफलता पाई है।

इसके अलावा, दशकों पहले बिहार से चोरी हुई भगवान बुद्ध की एक प्रमुख कलाकृति इटली में प्राप्त हुई है। बिहार के देवीस्थान कुंडलपुर मंदिर से चोरी हुई भगवान अवलोकितेश्वर पद्मपाणि (बुद्ध) की मूर्ति को मिलान में भारतीय वाणिज्य दूतावास को सौंप दिया गया है। एक महीने के भीतर इसे भारत पहुँचने की भी संभावना है।

कनाडा से वापस लाई गई थी 100 साल पहले चोरी हुई माँ अन्नपूर्णा की मूर्ति

गौरतलब है कि पिछले दिनों तकरीबन 100 साल पहले चोरी हुई माँ अन्नपूर्णा की मूर्ति को कनाडा से वापस लाया गया। ऐसा कहा गया कि मूर्ति को साल 1913 में काशी के एक घाट से चोरी किया गया था। फिर यहाँ से इसे कनाडा ले जाया गया। इसके बाद यह मैकेंजी आर्ट गैलरी में रेजिना विश्वविद्यालय (Regina University) के संग्रहालय में रखी गई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिखों के जख्म पर नमक छिड़क राजीव गॉंधी को अधीर रंजन चौधरी ने दी श्रद्धांजलि, कॉन्ग्रेस नेता ने लिखा- जब कोई बड़ा पेड़ गिरता...

लोकसभा में कॉन्ग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने राजीव गाँधी की की बरसी पर श्रद्धांजलि देते हुए विवादित ट्वीट कर के फिर उसे डिलीट कर दिया।

एक चिंगारी और पूरे भारत में लग जाएगी आग… कैम्ब्रिज में बैठ राहुल गाँधी ने उगला देश विरोधी जहर, कहा- हालात अच्छे नहीं

कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी ने यूके के कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में 'आइडियाज फॉर इंडिया' के नाम पर जम कर नकारात्मकता फैलाई। पढ़िए क्या-क्या कहा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
187,690FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe