Friday, May 31, 2024
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतिराम मंदिर के लिए ₹20 का दान (मृत बेटे के नाम से भी) -...

राम मंदिर के लिए ₹20 का दान (मृत बेटे के नाम से भी) – गरीब महिला की भावना अमीरों से ज्यादा – वायरल हुआ भावुक वीडियो

वृद्ध महिला अनुरोध करती हैं कि वह 20 रुपए ही दान करेगी। गरीबी को देख कर कार्यकर्ता मनाने की कोशिश करते हैं कि 10 रुपए रख लो। लेकिन वो अपने मृत बेटे के नाम पर 10 रुपए वाला कूपन लेकर...

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट दुनिया भर के हिन्दुओं से अपील कर रहा है कि वह अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए अपनी श्रद्धा और क्षमता अनुसार दान करे। विश्व हिन्दू परिषद, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ समेत कई हिन्दू संगठनों के कार्यकर्ता इस अभियान के तहत जनसंपर्क करके आर्थिक सहयोग इकट्ठा कर रहे हैं। दिसंबर 2020 के दौरान विहिप ने ऐलान किया था कि उनके कार्यकर्ता देश भर के लाखों गाँवों में घर-घर जाकर चंदा इकट्ठा करेंगे। 

इसी कड़ी में देश के तमाम मशहूर अभिनेताओं-अभिनेत्रियों, राजनेताओं और चर्चित नामों ने राम मंदिर निर्माण के लिए करोड़ों रुपए दान किए। रामायण की एक छोटी से घटना है, जिसमें लंका तक जाने के लिए बनाए जा रहे राम सेतु निर्माण जारी था। वहीं पर एक गिलहरी भी अपना योगदान दे रही थी। ठीक उसी तरह भारत में अनगिनत कहानियाँ हैं, जिनमें यह स्पष्ट तौर पर नज़र आता है कि हिन्दुओं के लिए राम मंदिर के क्या मायने हैं। श्रीराम ने उस गिलहरी को आशीर्वाद दिया और यह भी कहा कि किसी बड़े प्रयोजन के लिए किया गया दान महत्वपूर्ण होता है। दान की मात्रा अहम नहीं होती है बल्कि दान की भावना देखी जाती है। 

सोशल मीडिया पर एक वीडियो काफी वायरल हो रहा है। इसमें एक वृद्ध और गरीब महिला राम मंदिर के लिए दान करने का निवेदन कर रही है। वीडियो में कार्यकर्ता वृद्ध महिला से कहते हैं कि उन्हें 20 रुपए दान करने की ज़रूरत नहीं है, वह सिर्फ 10 रुपए ही दान करें।

इसके बावजूद गरीब नज़र आने वाली वृद्ध महिला अनुरोध करती है कि वह 20 रुपए ही दान करेगी। कार्यकर्ता वृद्ध महिला को मनाने का लगातार प्रयास करते हुए कहते हैं कि उन्हें 20 रुपए दान करने की ज़रूरत नहीं है, वह 10 रुपए अपने पास रख सकती हैं।   

इतनी बातों के बावजूद महिला अपनी बात पर अडिग रहती हैं। वह कहती हैं कि यह उनके रुपए हैं और वह 20 रुपए ही दान करना चाहती हैं। कार्यकर्ता महिला से कहते हैं कि उनके पास सिर्फ 10 रुपए का कूपन है, इस उम्मीद में कि शायद वृद्ध महिला उनकी बात मान जाएगी और 10 रुपए अपने पास रख लेगी। लेकिन वृद्ध महिला अपनी बात पर टिकी रहती हैं और दो कूपन की माँग करती हैं।

वृद्ध महिला बताती हैं कि उनके बड़े बेटे का निधन हो चुका है, इसलिए एक कूपन उनके बेटे के नाम का रखा जाए और दूसरा खुद उनके नाम का। इस वीडियो से एक बात साफ़ हो जाती है कि 80 वर्षीय वृद्ध महिला की भगवान राम के प्रति आस्था और विश्वास अटूट है, शायद इसलिए इंटरनेट की दुनिया में वीडियो को इतना प्यार मिल रहा है। 

राम मंदिर चंदे के लिए कन्नड़ अभिनेताओं की अपील 

एक और वीडियो में तमाम कन्नड़ अभिनेता निवेदन करते हुए नज़र आ रहे हैं कि सभी लोग भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए अपनी श्रद्धानुसार दान करें। 

भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए दान करने वालों में प्रणीत सुभाष, सुपरस्टार पवन कल्याण, एक्टर अक्षय कुमार, प्रोड्यूसर मनीष मुंद्रा, पूर्व क्रिकेटर और भाजपा सांसद गौतम गंभीर शामिल हैं। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अयोध्या मंदिर निर्माण के लिए 5 लाख रुपए दान किए।

आर्थिक सहयोग के लिए अभियान 

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने मकर संक्रांति (15 जनवरी) के मौके से ही चंदा इकट्ठा करने का अभियान शुरू कर दिया था। देशव्यापी भियान के दौरा श्रीराम जन्मभूमि मंदिर के प्रस्तावित प्रतिरूप की तस्वीरें करोड़ों राम भक्तों के घर तक पहुँचाई जाएगी। ट्रस्ट ने दान के लिए 10, 100 और 1000 रुपए के कूपन उपलब्ध कराए हैं। 

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

200+ रैली और रोडशो, 80 इंटरव्यू… 74 की उम्र में भी देश भर में अंत तक पिच पर टिके रहे PM नरेंद्र मोदी, आधे...

चुनाव प्रचार अभियान की अगुवाई की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने। पूरे चुनाव में वो देश भर की यात्रा करते रहे, जनसभाओं को संबोधित करते रहे।

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -