Monday, June 17, 2024
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतिUK की फ्लाइट पर 'इक ओंकार' की पेंटिंग, पहली बार हुआ ऐसा: सिखों ने...

UK की फ्लाइट पर ‘इक ओंकार’ की पेंटिंग, पहली बार हुआ ऐसा: सिखों ने PM मोदी को कहा- थैंक्यू

ये पहली बार है जब किसी भारतीय वायुयान कम्पनी ने सिखों के लिए इस तरह का कुछ किया हो। सिखों की धार्मिक विचारधारा का मूल तत्व 'इक ओंकार' को ही माना जाता है। बोइंग 787 फ्लाइट पर ये पवित्र प्रतीक बनाया गया।

गुरू नानक देव जी की 550वीं जयंती के अवसर पर सिखों के बीच उत्साह का माहौल है और करतारपुर कॉरिडोर खुलने से उनकी ख़ुशी दोगुनी हो गई है। इधर एयर इंडिया ने भी गुरूपर्व के सम्मान में अपनी फ्लाइट पर पवित्र ‘इक ओंकार’ का निशान बनाया। ये पहली बार है जब किसी भारतीय वायुयान कम्पनी ने सिखों के लिए इस तरह का कुछ किया हो। सिखों की धार्मिक विचारधारा का मूल तत्व ‘इक ओंकार’ को ही माना जाता है। बोइंग 787 फ्लाइट पर ये पवित्र प्रतीक बनाया गया

ये एयरक्राफ्ट गुरुवार (अक्टूबर 31, 2019) को सुबह 3 बजे अमृतसर से यूनाइटेड किंगडम के स्टैंस्टेड के लिए उड़ान भरेगा। सिख धर्म के संस्थापक गुरू नानक देव की 550वीं जयंती के अवसर पर एयर इंडिया मुंबई-अमृतसर-स्टैंस्टेड रुट पर सप्ताह में 3 बार उड़ान भरेगा। ये उड़ान सेवा सोमवार, गुरुवार और शनिवार को उपलब्ध होगी।

अमृतसर-स्टैंस्टेड फ्लाइट से उन सिखों को सुविधा मिलेगी, जो गुरू नानक की जयंती के अवसर पर पंजाब आना चाहते हैं। फ्लाइट में सिखों के लिए स्पेशल पंजाबी खाने का भी बंदोबस्त किया गया है। 256 सीट वाले इस एयरक्राफ्ट में इन सुविधाओं को दिए जाने के बाद सिखों ने मोदी सरकार और एयर इंडिया को धन्यवाद दिया। तेजिंदर बग्गा और मनजिंदर सिरसा जैसे सिख नेताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया। वहीं एयर इंडिया सिखों के लिए इस अवसर पर कई अन्य व्यवस्थाएँ भी कर रहा है।

बिहार की राजधानी में स्थित पटना साहिब गुरुद्वारा का भी अपना एक अलग महत्व है। सिखों के अंतिम गुरु व महान योद्धा गुरू गोविन्द सिंह की जन्मस्थली यहीं है। यही कारण है कि 27 अक्टूबर को एयर इंडिया ने अमृतसर और पटना के बीच डायरेक्ट उड़ान सेवा उब्लब्ध कराने का फ़ैसला लिया है। गुरुपर्व के अवसर पर पटना साहिब में भी काफ़ी तैयारियाँ की जा रही हैं और इसके लिए देश-विदेश से अतिथिगण बुलाए गए हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बकरों के कटने से दिक्कत नहीं, दिवाली पर ‘राम-सीता बचाने नहीं आएँगे’ कह रही थी पत्रकार तनुश्री पांडे: वायर-प्रिंट में कर चुकी हैं काम,...

तनुश्री पांडे ने लिखा था, "राम-सीता तुम्हें प्रदूषण से बचाने के लिए नहीं आएँगे। अगली बार साफ़-स्वच्छ दिवाली मनाइए।" बकरीद पर बदल गए सुर।

पावागढ़ की पहाड़ी पर ध्वस्त हुईं तीर्थंकरों की जो प्रतिमाएँ, उन्हें फिर से करेंगे स्थापित: गुजरात के गृह मंत्री का आश्वासन, महाकाली मंदिर ने...

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि किसी भी ट्रस्ट, संस्था या व्यक्ति को अधिकार नहीं है कि इस पवित्र स्थल पर जैन तीर्थंकरों की ऐतिहासिक प्रतिमाओं को ध्वस्त करे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -