Sunday, September 19, 2021
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृति'छोटी काशी' का श्री ग्यारह रुद्री मंदिर: भारत का इकलौता जहाँ विराजमान हैं 11...

‘छोटी काशी’ का श्री ग्यारह रुद्री मंदिर: भारत का इकलौता जहाँ विराजमान हैं 11 रुद्र, श्रीकृष्ण ने की थी स्थापना

पूरे देश में कैथल ही एक मात्र स्थान है, जहाँ 11 रुद्र स्थापित हैं। ये 11 रुद्र विलोहित, शास्ता, कपाली, पिंगल, अजपाद, अहिबरुध्न्य, भीम, विरूपाक्ष, चंड, भव व शंभु हैं। इसके अलावा...

श्रावण के इस पवित्र मास में ऑपइंडिया की मंदिर श्रृंखला में बात करेंगे एक ऐसे शिव मंदिर की, जो पूरे भारत में सबसे अनूठा है। हरियाणा के कैथल में स्थित इस शिव मंदिर को भगवान श्री कृष्ण ने बनवाया था और यहाँ स्थापित किए थे 11 रुद्र। यही कारण है कि मंदिर को श्री ग्यारह रुद्री मंदिर के नाम से जाना जाता है। यह भारत का इकलौता ऐसा मंदिर है, जहाँ एक ही स्थान पर 11 रुद्र विराजमान हैं।

श्री कृष्ण द्वारा मृत सैनिकों की आत्मा शांति का प्रयास

महाभारत काल में कौरवों और पांडवों के बीच हुए भयानक युद्ध में दोनों ओर से करोड़ों सैनिकों की मौत हो गई थी। जब महाभारत युद्ध समाप्त हुआ, तब इन मृत सैनिकों की आत्मा की शांति और मुक्ति के लिए भगवान श्रीकृष्ण ने इस मंदिर की स्थापना की और यहाँ 11 रूद्रों को स्थापित किया। साथ ही पांडवों को अपने स्वजनों की हत्या के पाप से मुक्त करने के लिए श्री कृष्ण ने इस मंदिर में उनसे भी पूजा-अर्चना करवाई। इसके अलावा श्रीकृष्ण के द्वारा नौ कुंड भी स्थापित किए गए थे। हालाँकि मंदिर का लगातार पुनर्निर्माण होता रहा लेकिन श्री कृष्ण द्वारा बनवाया गया प्राचीन मंदिर और उसमें स्थापित किए गए 11 रुद्र आज भी उसी तरह हैं।

मंदिर के विषय में जानकारी

यह माना जाता है कि पूरे देश में कैथल ही एक मात्र स्थान है, जहाँ 11 रुद्र स्थापित हैं। ये 11 रुद्र विलोहित, शास्ता, कपाली, पिंगल, अजपाद, अहिबरुध्न्य, भीम, विरूपाक्ष, चंड, भव व शंभु हैं। इसके अलावा 4 एकड़ में फैले इस मंदिर परिसर में राम दरबार, माता दुर्गा, वैष्णो माता, राधा-कृष्ण मंदिर, महाकाली मंदिर और नवग्रह मंदिर स्थापित हैं।

मंदिर परिसर में ही एक प्राचीन तालाब भी है, जहाँ विभिन्न अवसरों पर श्रद्धालु स्नान करके भगवान शिव के दर्शन करते हैं। मंदिर में भगवान शिव की एक प्रतिमा है और रथ में अर्जुन को उपदेश देते हुए भगवान कृष्ण की चित्रकारी भी की गई है। कैथल के अंतिम शासक उदय सिंह ने श्री ग्यारह रुद्री मंदिर और तालाब का जीर्णोद्धार करवाया था। मंदिर का प्रबंधन अब मंदिर समिति के हाथ में है, जो श्री ग्यारह रुद्री स्कूल भी संचालित करती है, जिसमें शहर भर के कई श्रद्धालु शिक्षा ग्रहण करते हैं।

कैथल और 11 रूद्रों का इतिहास

पौराणिक इतिहास के अनुसार ज्येष्ठ पांडव महाराजा युधिष्ठिर ने कैथल की स्थापना की थी। कैथल का प्राचीन नाम कपिस्थला था, जो बाद में बदलते हुए कैथल हो गया। 11 रूद्रों की उत्पत्ति काशी में हुई थी। ऋषि कश्यप के वरदान माँगने पर भगवान शिव ने 11 रूद्रों के रूप में सुरभि गाय के पेट से जन्म लिया था। काशी में 11 रूद्रों की उत्पत्ति के बाद श्रीकृष्ण ने कैथल में इन 11 रूद्रों को विराजमान किया था, इसलिए कैथल को ‘छोटी काशी’ भी कहा जाता है।

महाशिवरात्रि और श्रावण मास यहाँ का महत्वपूर्ण त्यौहार है। इन दोनों ही अवसरों पर न केवल हरियाणा बल्कि देश के कोने-कोने से श्रद्धालु भगवान शिव के 11 रुद्र रूपों के दर्शन के लिए आते हैं। इसके अलावा भक्तगण पौराणिक मान्यताओं के अनुसार 11 रूद्रों का महा-अभिषेक भी करते हैं। मंदिर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी, श्री रामनवमी, दशहरा और दीपावली जैसे त्यौहार भी मनाए जाते हैं। इस मंदिर में दशहरे के पहले रामलीला का आयोजन भी किया जाता है।

कैसे पहुँचें?

कैथल का निकटतम हवाईअड्डा चंडीगढ़ में स्थित है, जो यहाँ से लगभग 120 किलोमीटर (किमी) की दूरी पर है। साथ ही दिल्ली का अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा यहाँ से लगभग 190 किमी की दूरी पर स्थित है।

कैथल का रेलवे स्टेशन मंदिर से मात्र 1 किमी की दूरी पर है। यहाँ से दिल्ली, चंडीगढ़ और पंजाब एवं हरियाणा के प्रमुख शहरों के लिए ट्रेनें उपलब्ध हैं। सड़क मार्ग से भी कैथल हरियाणा के प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है और यही कारण है कि श्री ग्यारह रुद्री मंदिर आसानी से पहुँचा जा सकता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ओम द्विवेदी
Writer. Part time poet and photographer.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिख नरसंहार के बाद छोड़ दी थी कॉन्ग्रेस, ‘अकाली दल’ में भी रहे: भारत-पाक युद्ध की खबर सुन दोबारा सेना में गए थे ‘कैप्टेन’

11 मार्च, 2017 को जन्मदिन के दिन ही कैप्टेन अमरिंदर सिंह को पंजाब में बहुमत प्राप्त हुआ और राज्य में कॉन्ग्रेस के लिए सत्ता का सूखा ख़त्म हुआ।

अडानी समूह के हुए ‘The Quint’ के प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर, गौतम अडानी के भतीजे के अंतर्गत करेंगे काम

वामपंथी मीडिया पोर्टल 'The Quint' में बतौर प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर कार्यरत रहे संजय पुगलिया अब अडानी समूह का हिस्सा बन गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,106FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe