Thursday, June 13, 2024
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतिसुविधाओं में बढ़ोतरी, सुलभ यात्रा और सुंदर दृश्य: 2 साल में काशी विश्वनाथ बना...

सुविधाओं में बढ़ोतरी, सुलभ यात्रा और सुंदर दृश्य: 2 साल में काशी विश्वनाथ बना सबसे लोकप्रिय तीर्थस्थल, दर्शन करने पहुँचे 12.92 करोड़ श्रद्धालु

पहले, मंदिर का क्षेत्रफल केवल 3000 वर्ग फुट था। साल 2021 में इसे लगभग 5 लाख वर्ग फुट तक बढ़ा दिया गया, जिसके बाद से मंदिर परिसर में ही एक समय में 50,000 से 75,000 भक्त आ जाते हैं।

उत्तर प्रदेश के वाराणसी में स्थित श्री काशी विश्वनाथ धाम मंदिर में पिछले दो वर्षों में रिकॉर्ड 12.92 करोड़ श्रद्धालुओं ने दर्शन किए। अकेले सावन महीने में ही 1.6 करोड़ से ज्यादा श्रद्धालु मंदिर पहुँचे। इस साल जनवरी 2023 से दिसंबर तक मंदिर में 5.3 करोड़ श्रद्धालु पहुँचे हैं। आँकड़ों के मुताबिक, विशेष अवसरों और सावन के पवित्र महीने के दौरान मंदिर में भक्तों की भारी भीड़ देखी गई।

श्री काशी विश्वनाथ मंदिर ट्रस्ट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) सुनील कुमार वर्मा ने कहा कि 13 दिसंबर 2021 से 6 दिसंबर 2023 तक 12 करोड़ 92 लाख 24 हजार से अधिक भक्त बाबा के दर्शन कर चुके हैं। दिसंबर के अंत तक यह संख्या 13 करोड़ को पार करने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि काशी विश्वनाथ ट्रस्ट ने पर्यटकों और भक्तों के लिए सुविधाओं में कई गुना बढ़ोतरी की है, जिसकी वजह से भक्तों की यात्रा परेशानी से मुक्त हो गई है।

अधिकारियों ने बताया कि श्रद्धालुओं के लिए की गई सुविधाओं में गर्मी, ठंड और बारिश के दौरान चिलचिलाती धूप से बचाने के लिए जर्मन हैंगर, चटाई, कूलर, पीने का पानी, व्हीलचेयर, चिकित्सा सुविधाएं समेत अन्य व्यवस्थाएं शामिल हैं।

काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के निर्माण से बदल गया सबकुछ

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिसंबर 2021 में काशी विश्वनाथ धाम कॉरिडोर का उद्घाटन किया था, और तब से महादेव के भक्तों की संख्या कई गुना बढ़ गई है। पहले, मंदिर का क्षेत्रफल केवल 3000 वर्ग फुट था। साल 2021 में इसे लगभग 5 लाख वर्ग फुट तक बढ़ा दिया गया, जिसके बाद से मंदिर परिसर में ही एक समय में 50,000 से 75,000 भक्त आ जाते हैं।

काशी विश्वनाथ मंदिर परिसर में इतने भक्तों का पहुँचना एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है, जो दर्शाता है कि यह भारत के सबसे लोकप्रिय तीर्थ स्थलों में से एक बन गया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लड़की हिंदू, सहेली मुस्लिम… कॉलेज में कहा, ‘इस्लाम सबसे अच्छा, छोड़ दो सनातन, अमीर कश्मीरी से कराऊँगी निकाह’: देहरादून के लॉ कॉलेज में The...

थर्ड ईयर की हिंदू लड़की पर 'इस्लाम' का बखान कर धर्म परिवर्तन के लिए प्रेरित किया गया और न मानने पर उसकी तस्वीरों को सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी दी गई।

जोशीमठ को मिली पौराणिक ‘ज्योतिर्मठ’ पहचान, कोश्याकुटोली बना श्री कैंची धाम : केंद्र की मंजूरी के बाद उत्तराखंड सरकार ने बदले 2 जगहों के...

ज्तोतिर्मठ आदि गुरु शंकराचार्य की तपोस्‍थली रही है। माना जाता है कि वो यहाँ आठवीं शताब्दी में आए थे और अमर कल्‍पवृक्ष के नीचे तपस्‍या के बाद उन्‍हें दिव्‍य ज्ञान ज्‍योति की प्राप्ति हुई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -