Friday, June 25, 2021
Home विविध विषय धर्म और संस्कृति रंगनाथस्वामी मंदिर: भगवान को ले जा रहे थे लंका, कावेरी तट पर एक बार...

रंगनाथस्वामी मंदिर: भगवान को ले जा रहे थे लंका, कावेरी तट पर एक बार रखा तो दोबारा उठे नहीं, पूजा करने आते हैं विभीषण

यह मंदिर भी इस्लामी कट्टरपंथियों के निशाने पर आया था। मोहम्मद बिन तुगलक के नेतृत्व में मंदिर पर हमला करने जब सेना आई, तब हिंदुओं ने मंदिर के गर्भगृह में स्थापित भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी की प्रतिमा को मंदिर से दूर हटा दिया।

तमिलनाडु में तिरुचिरापल्ली से 12 किमी की दूरी पर स्थित है श्रीरंगम, जहाँ स्थित है एक विशाल मंदिर परिसर, जो लगभग 150 एकड़ क्षेत्र में फैला हुआ है। श्रीरंगम के इस विशाल मंदिर परिसर में विराजमान हैं भगवान विष्णु, जिन्हें श्रीरंगनाथस्वामी के रूप में पूजा जाता है। कावेरी और उसकी सहायक नदी कोल्लिदम के द्वारा बनाए गए द्वीप पर बसा श्रीरंगम का रंगनाथस्वामी मंदिर विश्व का सबसे विशाल संचालित मंदिर क्षेत्र है और हिन्दू ग्रंथों एवं पुराणों में ऐसी मान्यता है कि यह क्षेत्र सृष्टि के आरंभ से ही अस्तित्व में है।

दिव्यदेशों में प्रथम और भगवान विष्णु के स्वयं व्यक्त क्षेत्रों में एक है श्रीरंगम

श्रीरंगम का रंगनाथस्वामी मंदिर 108 दिव्य देशम कहे जाने वाले क्षेत्रों में प्रथम माना जाता है। श्रीरंगम भगवान विष्णु के 8 स्वयं व्यक्त क्षेत्रों में से एक है। श्रीरंगम के अलावा सात अन्य स्वयं व्यक्त क्षेत्र हैं, श्रीमुष्णम, वेंकटाद्रि, शालिग्राम, नैमिषारण्य, पुष्कर, तोताद्रि और बद्री। इसके अलावा यह क्षेत्र कावेरी नदी के किनारे बसे पंच रंग क्षेत्रों में से भी एक है।

ब्रह्मा जी और कावेरी की तपस्या

गंगा, यमुना, कावेरी और सरस्वती के मध्य इस बात को लेकर बहस छिड़ गई कि उनमें से कौन श्रेष्ठ है? यमुना और सरस्वती तो बहस से हट गईं लेकिन गंगा और कावेरी में निर्णय नहीं हो पाया। दोनों ने भगवान विष्णु से इसका जवाब माँगा। गंगा ने कह दिया कि वह भगवान के चरणों से निकली है इसलिए श्रेष्ठ है। भगवान विष्णु ने भी गंगा की हाँ में हाँ मिलाई तब कावेरी ने गंगा से श्रेष्ठ बनने के लिए भगवान विष्णु की तपस्या की। भगवान विष्णु ने प्रसन्न होकर कावेरी को वरदान दिया कि वो एक ऐसी जगह स्थापित होंगे, जहाँ कावेरी उनके गले के हार की तरह बहेगी।

ब्रह्मा जी ने भी सृष्टि के आरंभ में भगवान विष्णु के वास्तविक स्वरूप ‘महा विष्णु’ के दर्शन करने के लिए तपस्या की। इसके बाद भगवान विष्णु क्षीरसागर से रंगविमान में प्रकट हुए। यह विमान भगवान विष्णु के वाहन गरुड़ के द्वारा गतिमान हुआ। आदिशेष ने भगवान के ऊपर छाया कर रखी थी और उनके साथ उनकी विश्वक सेना भी थी। नारद जैसे महान ऋषि उनकी स्तुति कर रहे थे और सभी देवी-देवता उनकी जयकार कर रहे थे। भगवान विष्णु के आदेशानुसार ब्रह्मा जी ने विराज नदी के किनारे उनके इस रूप की स्थापना की और दैनिक पूजा करने लगे।

ब्रह्मा जी के बाद सूर्यदेव, फिर मनु और अयोध्या के राजा इक्ष्वाकु ने भगवान विष्णु के महारूप की पूजा की। बाद में जब भगवान राम लंका विजय के पश्चात अयोध्या आए तो उन्होंने रावण के भाई विभीषण को रंगनाथस्वामी को लंका में ले जाकर स्थापित करने की अनुमति दी। जब विभीषण उन्हें लेकर कावेरी नदी के किनारे पहुँचे तो वहाँ उनकी दैनिक पूजा के लिए नीचे रखा लेकिन पूजा के पश्चात जब वापस उठाना चाहा तो असफल रहे। इस पर विभीषण दुखी हो गए और भगवान से प्रार्थना की। तब भगवान विष्णु ने उन्हें कावेरी के वरदान की कथा बताई। इसके बाद से ही मान्यताएँ हैं कि विभीषण रोज श्रीरंगनाथस्वामी की पूजा करने आज भी आते हैं। कई मान्यताएँ है कि विभीषण प्रत्येक 12 वर्ष में श्रीरंगम आते हैं।

आधुनिक मंदिर का निर्माण

सबसे पहले चोल साम्राज्य के शासकों ने रंगनाथस्वामी मंदिर का निर्माण कराया था। हालाँकि मंदिर का निर्माण लगातार चलता रहा और चोल साम्राज्य के अंतिम शासकों ने भी इसके कई हिस्सों का जीर्णोद्धार कराया। चोल शासकों के अलावा पांड्य शासकों ने भी मंदिर के निर्माण में अपना योगदान दिया। मंदिर में चोल, पांड्य, होयसाला और विजयनगर राजवंशों के शिलालेख मिलते हैं।

हालाँकि 14वीं शताब्दी के दौरान मंदिर इस्लामी कट्टरपंथियों के निशाने पर भी आया। दिल्ली सल्तनत की क्रूर सेना मोहम्मद बिन तुगलक के नेतृत्व में मंदिर पर हमला करने आई लेकिन तब तक हिंदुओं ने मंदिर के गर्भगृह में स्थापित भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी की प्रतिमा को मंदिर से दूर हटा दिया। हिन्दू इन प्रतिमाओं को लेकर केरल, कर्नाटक और तमिलनाडु के कई गाँवों में भटकते रहे। 1371 में अंततः विजयनगर साम्राज्य के शासन में पुनः मंदिर का जीर्णोद्धार हुआ और भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी की प्रतिमाएँ मंदिर में स्थापित की गईं।

रंगनाथस्वामी मंदिर चारों ओर से 7 परत में दीवारों से घिरा हुआ है। इन दीवारों की कुल लंबाई लगभग 10 किमी है। मंदिर परिसर में मुख्य मंदिर के अलावा 50 अन्य मंदिर हैं। इस परिसर में 17 विशाल गोपुरम सहित कुल 21 गोपुरम हैं। परिसर में कुल 39 मंडप और 9 पवित्र सरोवर हैं। मंदिर का मुख्य मंडप अयिरम काल मंडपम है, जो 1000 स्तंभों वाला एक विशाल हॉल है।

श्रीरंगनाथस्वामी मंदिर का पूरा खाका (फोटो साभार : Tirthayatra.org)
भगवान रंगनाथस्वामी (फोटो साभार : Tirthayatra.org)

मंदिर के गर्भगृह में आदिशेष पर विराजमान भगवान विष्णु की मूर्ति स्थापित है। इन्हें ही रंगनाथस्वामी या रंगनाथर कहा जाता है। इसके अलावा गर्भगृह में देवी लक्ष्मी की मूर्ति भी स्थापित है, जिन्हें रंगनायकी थायर कहा जाता है।

कैसे पहुँचे?

श्रीरंगम का निकटतम हवाईअड्डा तिरुचिरापल्ली का अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट है। यहाँ से मंदिर की दूरी लगभग 12 किमी है। इसके अलावा श्रीरंगम, तिरुचिरापल्ली रेलवे स्टेशन से 7.5 किमी की दूरी पर है, जो भारत के कई बड़े शहरों से रेलमार्ग से जुड़ा हुआ है। इसके अलावा श्रीरंगम की चेन्नई से दूरी लगभग 325 किमी है। सड़क मार्ग से भी श्रीरंगम पहुँचा जा सकता है। राष्ट्रीय राजमार्ग 38 पर स्थित यह तिरुचिरापल्ली, तमिलनाडु और दूसरे राज्यों के बड़े शहरों से सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ है।    

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ओम द्विवेदी
Writer. Part time poet and photographer.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फतेहपुर के अंग्रेजी मीडियम स्कूल में हिंदू बच्चे पढ़ते थे नमाज: महिला टीचर ने खोली मौलाना उमर गौतम के धर्मांतरण गैंग की पोल

फतेहपुर के नूरुल हुदा इंग्लिश मीडियम स्कूल में मौलाना उमर के गिरोह की सक्रियता का खुलासा वहाँ की ही एक महिला टीचर ने किया है।

‘सत्यनारायण और भागवत कथा फालतू, हिजड़ों की तरह बजाते हैं ताली’: AAP नेता का वीडियो वायरल

AAP की गुजरात इकाई के नेता गोपाल इटालिया का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें वे हिन्दू परंपराओं का अपमान करते दिख रहे हैं।

जम्मू-कश्मीर: PM मोदी का ग्रासरूट डेमोक्रेसी पर जोर, जानिए राज्य का दर्जा और विधानसभा चुनाव कब

प्रधानमंत्री ने कहा कि वह 'दिल्ली की दूरी' और 'दिल की दूरी' को मिटाना चाहते हैं। परिसीमन के बाद विधानसभा चुनाव उनकी प्राथमिकता में है।

₹60000 करोड़, सबसे सस्ता स्मार्टफोन, 109 शहरों में वैक्सीनेशन सेंटर: नीता अंबानी ने बताया कोरोना काल का ‘धर्म’

रिलायंस इंडस्ट्रीज की AGM में कई बड़ी घोषणाएँ की गई। कोविड संकट से देश को उबारने के प्रति प्रतिबद्धता दिखाई गई।

मोदी ने भगा दिया वाला प्रोपेगेंडा और माल्या-चोकसी-नीरव पर कसता शिकंजा: भारत में आर्थिक पारदर्शिता का भविष्य

हमारा राजनीतिक विमर्श शोर प्रधान है। लिहाजा कई महत्वपूर्ण प्रश्न दब गए। जब इन आर्थिक भगोड़ों पर कड़ाई का नतीजा दिखने लगा है, इन पर बात होनी चाहिए।

कोरोना वैक्सीन पर प्रशांत भूषण की नई कारस्तानी: भ्रामक रिपोर्ट शेयर की, दावा- टीका लेने वालों की मृत्यु दर ज्यादा

प्रशांत भूषण एक बार फिर ट्वीट्स के जरिए कोरोना वैक्सीन पर लोगों को गुमराह कर डराने की कोशिश करते नजर आए हैं।

प्रचलित ख़बरें

TMC के गुंडों ने किया गैंगरेप, कहा- तेरी काली माँ न*गी है, तुझे भी न*गा करेंगे, चाकू से स्तन पर हमला: पीड़ित महिलाओं की...

"उस्मान ने मेरा रेप किया। मैं उससे दया की भीख माँगती रही कि मैं तुम्हारी माँ जैसी हूँ मेरे साथ ऐसा मत करो, लेकिन मेरी चीख-पुकार उसके बहरे कानों तक नहीं पहुँची। वह मेरा बलात्कार करता रहा। उस दिन एक मुस्लिम गुंडे ने एक हिंदू महिला का सम्मान लूट लिया।"

‘सत्यनारायण और भागवत कथा फालतू, हिजड़ों की तरह बजाते हैं ताली’: AAP नेता का वीडियो वायरल

AAP की गुजरात इकाई के नेता गोपाल इटालिया का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें वे हिन्दू परंपराओं का अपमान करते दिख रहे हैं।

‘CM योगी पहाड़ी, गोरखपुर मंदिर मुस्लिमों की’: धर्मांतरण पर शिकंजे से सामने आई मुनव्वर राना की हिंदू घृणा

उन्होंने दावा किया कि योगी आदित्यनाथ को प्रधानमंत्री बनने की इतनी जल्दी है कि 1000 क्या, वो ये भी कह सकते हैं कि यूपी में 1 करोड़ हिन्दू धर्मांतरण कर के मुस्लिम बन गए हैं।

कन्नौज के मंदिर में घुसकर दिलशाद ने की तोड़फोड़, उमर ने बताया- ये सब किसी ने करने के लिए कहा था

आरोपित ने बताया है कि मूर्ति खंडित करने के लिए उसे किसी ने कहा था। लेकिन किसने? ये जवाब अभी तक नहीं मिला है। फिलहाल पुलिस उसे थाने ले जाकर पूछताछ कर रही है।

‘इस्लाम अपनाओ या मोहल्ला छोड़ो’: कानपुर में हिन्दू परिवारों ने लगाए पलायन के बोर्ड, मुस्लिमों ने घर में घुस की छेड़खानी और मारपीट

पीड़ित हिन्दू परिवारों ने कहा कि सपा विधायक आरोपितों की मदद कर रहे हैं। घर में घुस कर मारपीट की गई। लड़की के साथ बलात्कार का भी प्रयास किया गया।

‘हरा$ज*, हरा%$, चू$%’: ‘कुत्ते’ के प्रेम में मेनका गाँधी ने पशु चिकित्सक को दी गालियाँ, ऑडियो वायरल

गाँधी ने कहा, “तुम्हारा बाप क्या करता है? कोई माली है चौकीदार है क्या हैं?” डॉक्टर बताते भी हैं कि उनके पिता एक टीचर हैं। इस पर वो पूछती हैं कि तुम इस धंधे में क्यों आए पैसे कमाने के लिए।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
105,791FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe