Wednesday, December 1, 2021
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतिDD के यूट्यूब चैनल पर 10 लाख से अधिक लोगों ने देखी ‘अयोध्या की...

DD के यूट्यूब चैनल पर 10 लाख से अधिक लोगों ने देखी ‘अयोध्या की रामलीला’ की Live स्ट्रीमिंग

दूरदर्शन पर रामलीला का लाइव प्रसारण (स्ट्रीमिंग) हो रहा है। इस साल यह प्रसारण सीधे अयोध्या से किया जा रहा है। रामलीला का प्रसारण 17 अक्टूबर से शुरू हुआ जिसे उत्तर प्रदेश के पर्यटन और सांस्कृतिक मंत्रालय द्वारा किया जा रहा है।

अयोध्या पूरी तरह सज चुकी है, नवरात्र का वक्त है इसलिए रामलीला भी हो रही है। दूरदर्शन पर रामलीला का लाइव प्रसारण (स्ट्रीमिंग) हो रहा है। इस साल यह प्रसारण सीधे अयोध्या से किया जा रहा है। रामलीला का प्रसारण 17 अक्टूबर से शुरू हुआ जिसे उत्तर प्रदेश के पर्यटन और सांस्कृतिक मंत्रालय द्वारा किया जा रहा है। 

दूरदर्शन के यूट्यूब चैनल पर प्रसारित किए पहले वीडियो पर 1 मिलियन (लगभग 10 लाख) बार देखा जा चुका है। प्रसार भारती के सीईओ शशि एस वामपती ने ट्वीट करके बताया कि डिजिटल माध्यम से हो रहे इस प्रसारण (स्ट्रीमिंग) पर ‘मल्टी मिलियन डिजिटल व्यूज़’ हो चुके हैं।

लाइव स्ट्रीमिंग के कार्यक्रम का लॉन्च पर्यटन, संस्कृति और धार्मिक मामलों के मंत्री नीलकंठ तिवारी और भाजपा के ही सांसद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा ने किया था। इसे टीवी या यूट्यूब किसी पर भी देखा जा सकता है। रामलीला का आयोजन 10 दिनों के लिए होता है और इसका अंत मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान् श्रीराम द्वारा रावण वध के साथ होता है। रामलीला के पहले एपिसोड पर 1 मिलियन यानी लगभग 10 लाख से ज़्यादा व्यूज़ आ चुके हैं। जबकि दूसरे एपिसोड के वीडियो पर लगभग 7 लाख से अधिक व्यूज़ आ चुके हैं। 

रामलीला के हर एपिसोड की अवधि 2 घंटे 45 मिनट से ज़्यादा की है। 

अयोध्या में भव्य रामलीला

इस साल अयोध्या में सितारों से भरी रामलीला का आयोजन हो रहा है, सरयू नदी के तट पर स्थित लक्षमण किला में भव्य रामलीला। रामलीला में इस बार असरानी और बिन्दु दारा सिंह, नारद मुनि और हनुमान का किरदार निभा रहे हैं। इसके अलावा भोजपुरी सुपरस्टार और भाजपा संसद मनोज तिवारी और रवि किशन अंगद और भरत की भूमिका निभा रहे हैं। बॉलीवुड के मशहूर कलाकार रज़ा मुराद और शाहबाज़ खान भी अहम भूमिका में नज़र आने वाले हैं। 

हाल ही में रामायण की वापसी ने तोड़े थे कई रिकॉर्ड 

मार्च 2020 में जब कोरोना वायरस महामारी की शुरुआत के चलते पूरे देश में लॉकडाउन लगाया गया था। तब दूरदर्शन ने रामायण और महाभारत के पुनः प्रसारण का फैसला लिया था। रामानंद सागर कृत रामायण का प्रसारण पहली बार दूरदर्शन पर 1987 से 1988 के बीच किया गया था। रामायण के पुनः प्रसारण पर दर्शकों की प्रतिक्रिया अप्रत्याशित थी और 16 अप्रैल को इसे लगभग 7.7 करोड़ बार देखा गया। प्रसारण के दौरान पूरे सोशल मीडिया पर रामायण से जुड़े पोस्ट और मीम्स चर्चा में बने हुए थे। सबसे उल्लेखनीय बात है कि रामायण को हर आयु वर्ग के लोगों ने पसंद किया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,754FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe