Saturday, July 31, 2021
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतिUP के पाठ्यक्रम में सिख गुरुओं का इतिहास, हर स्कूल में मनेगा 'साहिबजादा दिवस':...

UP के पाठ्यक्रम में सिख गुरुओं का इतिहास, हर स्कूल में मनेगा ‘साहिबजादा दिवस’: CM योगी का ऐलान

"गुरु पुत्रों को विधर्मियों के हाथों जिस क्रूरता का सामना करना पड़ा, वैसी स्थिति आने वाले समय में किसी के साथ न हो... यह दिवस सदैव हम सबको एक नई प्रेरणा प्रदान करता है, करता रहेगा।"

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ऐलान किया है कि राज्य के पाठ्यक्रम में अब छात्रों को सिख गुरुओं के जीवन और बलिदान के बारे में पढ़ाया जाएगा। साथ ही अयोध्या भी विश्व स्तरीय शहर बनेगा। मुख्यमंत्री ने अपने लखनऊ स्थित सरकारी आवास पर आयोजित गुरु गोबिंद सिंह के चार साहिबजादों एवं माता गुजरी जी की शहादत को समर्पित ‘साहिबजादा दिवस’ के अवसर पर गुरुबाणी कीर्तन में हिस्सा लिया। उन्होंने कहा कि ये देश और धर्म के प्रति हमारे कर्तव्यों को याद कराने वाला दिवस है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम सबको एक बात का हमेशा स्मरण रखना होगा कि इतिहास को विस्मृत कर के कोई भी व्यक्ति, जाति या कौम कभी आगे नहीं बढ़ सकती है। उन्होंने कहा कि सिख इतिहास पढ़ने पर पता चलता है कि विदेशी आक्रांताओं ने जब भारत के धर्म और संस्कृति को भ्रष्ट करने, भारत के वैभव को पूरी तरह से समाप्त करने को अपना एकमात्र लक्ष्य बना लिया था, तब भक्ति के माध्यम से जो अभियान प्रारंभ हुआ था, कीर्तन उसका आधार बना था।

सीएम योगी ने कहा कि कुछ गलतियों के कारण गुरु पुत्रों को विधर्मियों के हाथों जिस क्रूरता का सामना करना पड़ा, वैसी स्थिति आने वाले समय में किसी के साथ न हो, यह दिवस सदैव हम सबको एक नई प्रेरणा प्रदान करता है। यूपी सरकार ने फैसला लिया है कि हर साल दिसंबर 27 को यूपी के हर स्कूल में ‘साहिबजादा दिवस’ मनाया जाएगा। गुरुओं के योगदानों पर केंद्रित वाद-विवाद प्रतियोगिताएँ होंगी और उनकी जीवनी पाठ्यक्रम का हिस्सा बनेगी।

सीएम योगी ने लोगों को याद दिलाया कि किस तरह औरंगजेब के आदेश पर सरहिंद के नवाब वजीर खान ने छोटे साहिबजादे अर्थात साहिबजादा जोरावर सिंह तथा साहिबजादा फतेह सिंह को इस्लाम स्वीकार न करने तथा अपने धर्म पर दृढ़ रहने की सजा के फलस्वरूप उन्हें जीवित ही दीवार में चुनवा दिया था। उन्होंने कहा कि हिंदू धर्म व संस्कृति की रक्षा करने और भारत को विदेशी आक्रांताओं के अत्याचार से मुक्त करने के लिए ही चार साहिबजादों का बलिदान हुआ।

उधर अयोध्या में भी अब मंदिर निर्माण का कार्य शुरू होने के साथ ही पर्यटकों और श्रद्धालुओं के लिए विश्व स्तरीय सुविधाओं के लिए काम चालू है। चौड़ी सड़कें और मल्टी लेवल पार्किंग पेयजल के साथ-साथ शौचालय और एल्क्ट्रिक कारों की सुविधा भी मिलेगी। रोजगार के अवसर भी मिलेंगे। गाइडों के प्रशिक्षण का काम शुरू हो रहा है। अयोध्या को सोलर सिटी के रूप में भी विकसित किया जाएगा। कई जगहों पर मल्टी लेवल पार्किंग होगी।

2020 के आखिरी ‘मन की बात’ में पीएम मोदी ने भी याद दिलाया था कि कैसे अत्याचारी चाहते थे कि साहिबजादे अपनी आस्था छोड़ दें। महान गुरु परंपरा की सीख छोड़ दें। लेकिन, हमारे साहिबजादों ने इतनी कम उम्र में भी गजब का साहस और इच्छाशक्ति दिखाई। उन्होंने याद किया कि दीवार में चुने जाते समय, पत्थर लगते रहे, दीवार ऊँची होती रही, मौत सामने मँडरा रही थी, लेकिन, फिर भी वो टस-से-मस नहीं हुए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ये नंगे, इनके हाथ अपराध में सने, फिर भी शर्म इन्हें आती नहीं… क्योंकि ये है बॉलीवुड

राज कुंद्रा या गहना वशिष्ठ तो बस नाम हैं। यहाँ किसिम किसिम के अपराध हैं। हिंदूफोबिया है। खुद के गुनाहों पर अजीब चुप्पी है।

‘द प्रिंट’ ने डाला वामपंथी सरकार की नाकामी पर पर्दा: यूपी-बिहार की तुलना में केरल-महाराष्ट्र को साबित किया कोविड प्रबंधन का ‘सुपर हीरो’

जॉन का दावा है कि केरल और महाराष्ट्र पर इसलिए सवाल उठाए जाते हैं, क्योंकि वे कोविड-19 मामलों का बेहतर तरीके से पता लगा रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,277FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe