Saturday, April 13, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजननिजाम व अंग्रेजों से लड़ने वाले योद्धा कोमाराम भीम को फिल्म में पहनाई मुस्लिम...

निजाम व अंग्रेजों से लड़ने वाले योद्धा कोमाराम भीम को फिल्म में पहनाई मुस्लिम ‘स्कल कैप’, आदिवासियों ने किया विरोध

'ट्रू इंडोलॉजी' ने लिखा कि कोमाराम भीम की बेटी का ही निजाम के तालुकदार अब्दुल सत्तार ने अपहरण कर लिया था और जबरन इस्लामी धर्मान्तरण करा दिया था। उसने पूछा कि 400 करोड़ रुपए के भारी बजट में बनाई जा रही फिल्म में ऐसा झूठ क्यों दिखाया जा रहा है?

‘बाहुबली’ फिल्म सीरीज से लोकप्रियता बटोरने वाले निर्देशक एसएस राजामौली की अगली फिल्म ‘RRR’ को लेकर विवाद खड़ा हो गया है। भारत में ब्रिटिश शासन के दौर में आदिवासी योद्धाओं पे आधारित इस फिल्म में रामचरण तेजा और जूनियर एनटीआर प्रमुख भूमिकाओं में हैं। फिल्म में जूनियर एनटीआर कोमाराम भीम का किरदार निभा रहे हैं, जिन्होंने ‘जल, जंगल और जमीन’ का नारा देते हुए निजाम व उसकी फ़ौज से लोहा लिया है। उन्हें स्कल कैप पहले दिखाया गया है।

कोमाराम भीम ने हैदराबाद को निजाम की सत्ता से आज़ादी दिलाने के लिए लड़ाई लड़ी थी, लेकिन फिल्म में उन्हें ही इस्लामी ‘स्कल कैप’ पहने हुए दिखाया गया है। लोगों ने इस पर आपत्ति जताई है कि आदिवासी योद्धा कोमाराम भीम ने जिन इस्लामी आक्रांताओं के खिलाफ लड़ाई लड़ी, उन्हें इस्लामी स्कल कैप में कैसे दिखाया जा सकता है? गुरिल्ला युद्ध कला के धनी भीम ने निजाम राज के जमींदारों के अत्याचार के विरुद्ध हथियार उठाया था।

आदिवासी युवाओं ने शनिवार (अक्टूबर 24, 2020) को आदिलाबाद जिले के उदनूर में गोंड योद्धा कोमाराम भीम की प्रतिमा का अभिषेक किया। वे इस बात से नाराज हैं कि भीम के किरदार को निभाने वाले जूनियर एनटीआर को ‘RRR’ के टीज़र में स्कल कैप में दिखाया गया है। आदिवासी संगठनों का कहना है कि एसएस राजामौली को इतिहास की समझ के साथ फिल्म बनानी चाहिए। उन्होंने चेताया है कि अगर इस्लामी टोपी नहीं हटाई गई तो वो आंदोलन करेंगे।

इसी तरह से उनकी फिल्म ‘बाहुबली’ में भी आदिवासियों के अपमान को लेकर विरोध प्रदर्शन हुआ था। आदिलाबाद के आदिवासी संगठनों का कहना है कि कोमाराम भीम पर फिल्म बनने से उनकी कहानी ज्यादा लोगों तक पहुँचेगी, लेकिन इस तरह से छेड़छाड़ नहीं होनी चाहिए। 20 साल पहले भी उन पर फिल्म बन चुकी है। इस फिल्म में भीम के अलावा अल्लुरी सीताराम राजू की भी कहानी दिखाई गई है।

वहीं सोशल मीडिया पर इतिहास को लेकर ट्वीट करने वाले ‘ट्रू इंडोलॉजी’ ने लिखा कि कोमाराम भीम की बेटी का ही निजाम के तालुकदार अब्दुल सत्तार ने अपहरण कर लिया था और जबरन इस्लामी धर्मान्तरण करा दिया था। उसने पूछा कि 400 करोड़ रुपए के भारी बजट में बनाई जा रही फिल्म में ऐसा झूठ क्यों दिखाया जा रहा है? साथ ही कहा कि असलियत में ऐसा कभी नहीं हुआ है कि भीम ने इस्लाम का अनुसरण किया हो।

बता दें कि हैदराबाद सल्तनत ने सन 1799 में टीपू सुल्तान के ख़िलाफ़ लड़ाई में ईस्ट इंडिया कम्पनी की मदद की थी। इसके बदले में अंग्रेजों ने निज़ाम को टीपू के राज्य का एक टुकड़ा दिया। टीपू सुल्तान की अंग्रेजों के हाथों हार हुई और वह मारा गया। मराठों के ख़िलाफ़ युद्ध में भी हैदराबाद के निज़ाम ने अंग्रेजों का साथ दिया और बदले में सिंधिया के राज्य सहित कई मराठा जिले उसे इनाम के रूप में मिले। मीर अली उस्मान ख़ान बहादुर हैदराबाद का अंतिम निज़ाम था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसानों को MSP की कानूनी गारंटी देने का कॉन्ग्रेसी वादा हवा-हवाई! वायर के इंटरव्यू में खुली पार्टी की पोल: घोषणा पत्र में जगह मिली,...

कॉन्ग्रेस के पास एमएसपी की गारंटी को लेकर न कोई योजना है और न ही उसके पास कोई आँकड़ा है, जबकि राहुल गाँधी गारंटी देकर बैठे हैं।

जज की टिप्पणी ही नहीं, IMA की मंशा पर भी उठ रहे सवाल: पतंजलि पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, ईसाई बनाने वाले पादरियों के ‘इलाज’...

यूजर्स पूछ रहे हैं कि जैसी सख्ती पतंजलि पर दिखाई जा रही है, वैसी उन ईसाई पादरियों पर क्यों नहीं, जो दावा करते हैं कि तमाम बीमारी ठीक करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe