Tuesday, May 21, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'कुछ भी हो सकता है': दोनों बेटे CA-CS, फिर भी ऑटो चला कर अपनी...

‘कुछ भी हो सकता है’: दोनों बेटे CA-CS, फिर भी ऑटो चला कर अपनी कमाई से गीता बाँटते हैं भूपति देव दास, अनुपम खेर को सुनाया चंडी पाठ

उन्होंने कहा कि सिर्फ पढ़ना ही सब कुछ नहीं है, बल्कि उस पर अमल भी किया जाना चाहिए। ऑटो ड्राइवर भूपति देव दास का कहना है कि पढ़ना कठिन नहीं है, अमल करना कठिन है

मुंबई में बॉलीवुड अभिनेता अनुपम खेर को भूपति देव दास नाम के एक ऑटो ड्राइवर मिले, जो श्रीमद्भगवद्गीता का ज्ञान भी बाँटते हैं। योग क्लास के लिए जा रहे अभिनेता उनसे खासे प्रभावित हुए और उनका वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए इसे एक ‘असामान्य मुलाकात’ करार दिया। भूपति देवी दास इस वीडियो में बता रहे हैं कि उन्हें किसी संत ने श्रीमद्भगवद्गीता दान करने के लिए कहा था, लेकिन उनकी आमदनी इतनी नहीं है कि ये संभव हो पाए।

उन्होंने कहा कि वो ऑटो ड्राइवर हैं लेकिन अपनी आमदनी में से श्रीमद्भगवद्गीता बाँटने के लिए रुपए खर्च करते हैं। उन्होंने बताया कि उनके दो बेटे काफी पढ़े-लिखे हैं और उन्होंने भक्ति कर के ही उन दोनों को पढ़ाया है। जब अनुपम खेर ने पूछा कि क्या वो उन्हें पहचानते हैं, तो भूपति देव दास ने पीछे मुड़ कर देखा और ‘हरे कृष्णा’ कह कर उनका अभिनंदन किया। उन्होंने कहा, “ये तो मेरा नसीब है कि आप मेरे ऑटो में बैठ गए। परमात्मा की कृपा और आपलोगों के आशीर्वाद से उनके दोनों बेटे पहली बार में ही सीए-सीएस बन गए।”

उन्होंने कहा कि वो सभी से यही कहते हैं कि अगर वो मुस्लिम हैं तो कुरान पढ़ें और हिन्दू हैं तो श्रीमद्भगवद्गीता पढ़ें। उन्होंने कहा कि सिर्फ पढ़ना ही सब कुछ नहीं है, बल्कि उस पर अमल भी किया जाना चाहिए। ऑटो ड्राइवर भूपति देव दास का कहना है कि पढ़ना कठिन नहीं है, अमल करना कठिन है। उन्होंने कहा कि विद्वान भी कहते हैं कि जानता सब कोई है, मानता कोई नहीं। इसके बाद पूरे रास्ते वो चंडी पाठ करते रहे। योग सीखने जा रहे अनुपम खेर ने भी उन्हें धन्यवाद दिया।

500 से भी अधिक फिल्मों में काम कर चुके अनुपम खेर ने उनसे कहा, “मेरे अहोभाग्य हैं कि आपने मुझे चंडी पाठ सुनाया।” इसके बाद उन्होंने फिर से उनका नाम पूछा, जिसके जवाब में ऑटो ड्राइवर ने बताया कि पहले उनका नाम भूदेव था, लेकिन उनका नाम भी भूपति देव दास है और वो ‘हरे कृष्णा मंदिर’ से जुड़े हुए हैं। उन्होंने अपने माथे पर त्रिपुण्ड चंदन भी लगा रखा था। अनुपम खेर ने उनसे साथ तस्वीर भी क्लिक करवाई। अंत में दोनों एक-दूसरे को नमस्कार कर अपने-अपने रास्ते चल निकले।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ से लड़ रही लालू की बेटी, वहाँ यूँ ही नहीं हुई हिंसा: रामचरितमानस को गाली और ‘ठाकुर का कुआँ’ से ही शुरू हो...

रामचरितमानस विवाद और 'ठाकुर का कुआँ' विवाद से उपजी जातीय घृणा ने लालू यादव की बेटी के क्षेत्र में जंगलराज की यादों को ताज़ा कर दिया है।

निजी प्रतिशोध के लिए हो रहा SC/ST एक्ट का इस्तेमाल: जानिए इलाहाबाद हाई कोर्ट को क्यों करनी पड़ी ये टिप्पणी, रद्द किया केस

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए SC/ST Act के झूठे आरोपों पर चिंता जताई है और इसे कानून प्रक्रिया का दुरुपयोग माना है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -