Monday, June 24, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनकॉन्ग्रेस की 'बिकिनी गर्ल' ने बिग बॉस में की हाथापाई: शिव ठाकरे का गला...

कॉन्ग्रेस की ‘बिकिनी गर्ल’ ने बिग बॉस में की हाथापाई: शिव ठाकरे का गला पकड़कर बोलीं- ‘गाड़ दूँगी तुझे यहाँ’, घर से निकाले जाने पर गिड़गिड़ाईं

शिव ने पहले इनडारेक्टली अर्चना के राजनीतिक दल के नेता का नाम लेते हुए उसका मजाक उड़ाया। इससे अर्चना चिढ़ गई और उसने शिव की गर्दन पकड़ ली। निमृत को इस वक्त बीच बचाव करते हुए देखा गया। अर्चना शिव को धमकी देती रही। अर्चना ने शिव को फिर धमकाते हुए कहा, "गाड़ दूँगी तुझे यहाँ।"

रिएलिटी शो बिग बॉस 16 (Bigg Boss 16) में ‘वीकेंड का वार’ में शिव ठाकरे (Shiv Thakare) और अर्चना गौतम (Archana Gautam) ने लड़ाई की सारी हदें पार कर दीं। एक मामूली टिश्यू पेपर से शुरू हुआ विवाद देखते ही देखते हाथापाई में बदल गया। इस दौरान अर्चना ने शिव ठाकरे का गला पकड़ लिया। इसके बाद उन्हें शो से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया। सोशल मीडिया पर इस हाथापाई का वीडियो सामने आया है। वीडियो में आप देख सकते हैं कि कैसे अर्चना शिव के गले को पकड़कर उन्हें पीछे धकेल रही हैं, लेकिन शिव ने अपने आपको बचाने के लिए उन्हें छुआ भी नहीं।

दरअसल, शो में एक टास्क के बाद अर्चना घरवालों के लिए आने वाले टिश्यू पेपर बॉक्स और चीनी जैसी चीजें छिपाने लगीं। इस पर टीना दत्ता (Tina Datta), शालिन भनोट (Shalin Bhanot) व अन्य ने आपत्ति जताई। जब वे उससे टिश्यू बॉक्स रखने के लिए कह रहे थे, तभी अर्चना ने लड़कियों को अपमानजनक और अश्लील टिप्पणियाँ कीं। इस पर अर्चना के पास खड़े शिव ने उनसे सवाल किया और उसे दोहराने के लिए कहा। अर्चना ने उसे इससे दूर रहने को कहा।

बदले में शिव ने इनडारेक्टली उसके राजनीतिक दल के नेता का नाम लेते हुए उसका मजाक उड़ाया। इससे अर्चना चिढ़ गई और उसने शिव की गर्दन पकड़ ली। निमृत (Nimrit Kaur Ahluwalia) को इस वक्त बीच बचाव करते हुए देखा गया। अर्चना शिव को धमकी देती रही। अर्चना ने शिव को फिर धमकाते हुए कहा, “गाड़ दूँगी तुझे यहाँ।”

इसके बाद सभी घरवाले शिव ठाकरे के समर्थन में आ गए। कुछ देर बाद शिव ठाकरे को कमरे के अंदर बुलाया गया और बिग बॉस (Bigg Boss) ने शुरू में उन पर उनकी (अर्चना) राजनीतिक पार्टी का हवाला देकर अर्चना को प्रताड़ित करने का आरोप लगाया। इसके बाद उन्होंने शिव से अर्चना को लेकर फैसला करने के लिए कहा। बिग बॉस ने अर्चना को शिव से बात करने और माफी माँगने का मौका भी दिया।

हालाँकि अर्चना माफी माँगने की बजाए अपना बचाव करती रहीं और खुद को सही ठहराती रहीं। इसके बाद बिग बॉस ने उसे घर से बेघर करने का फैसला किया, जिसके बाद वह रोने लगती हैं और हाथ जोड़ती हैं। वह शिव से अपने फैसले पर फिर से विचार करने का अनुरोध करती हैं।

अर्चना शिव से कहती हैं, “मैं यहाँ से नहीं जाना चाहती हूँ। आपको चोट पहुँचाने का मेरा कोई इरादा नहीं था। बस मुझे एक मौका दें। मैं अपने माता-पिता की कसम खाती हूँ कि मैं भविष्य में इसे नहीं दोहराऊँगी। मैंने कभी भी इस तरह किसी के सामने हाथ नहीं जोड़े हैं। मेरे माँ-बाप के सपने मत तोड़ो।”

शिव ने कहा कि घर के सभी सदस्यों को लगता है कि वह अक्सर अपनी हदें पार करती हैं, लेकिन उन्होंने हमेशा उन्हें माफ कर दिया है। इसके बाद वह सभी को गले लगाती हैं और बिग बॉस के घर से बाहर निकल जाती हैं।

उल्लेखनीय है अर्चना गौतम बिग बॉस में अपनी आवाज और हर मुद्दे पर बोलने के लिए भले ही अब जानी जाती हैं लेकिन मीडिया में वो चर्चा में यूपी चुनावों के बाद से हैं। दरअसल, कॉन्ग्रेस ने चुनावों के दौरान जो ‘लड़की हूँ लड़ सकती हूँ’ मुहिम के तहत महिलाओं को टिकटें दी थीं। उसमें हस्तिनामपुर सीट से अर्चना ही कॉन्ग्रेस की प्रत्याशी थीं। उन्हें मीडिया में ‘बिकिनी गर्ल’ के नाम से जाना गया था और जब नतीजे आए थे तो उन्हें मात्र 1519 वोट मिले थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

चर्च में फायरिंग, यहूदियों के धर्मस्थल को जलाया, पादरी का काटा गला: आतंकी हमले में रूस के 15 पुलिसकर्मियों की मौत, 6 आतंकवादी भी...

रूस में हुए आतंकी हमले में 15 से ज्यादा पुलिसकर्मियों की मौत हो गई, पादरी का सिर कलम कर दिया गया और 25 से ज्यादा घायल बताए जा रहे हैं।

किसानों के आंदोलन से तंग आ गए स्थानीय लोग: शंभू बॉर्डर खुलवाने पहुँची भीड़, अब गीदड़-भभकी दे रहे प्रदर्शनकारी

किसान नेताओं ने अंबाला शहर अनाज मंडी में मीडिया बुलाई, जिसमें साफ शब्दों में कहा कि आंदोलन खराब नहीं होना चाहिए। आंदोलन खराब करने वाला खुद भुगतेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -