Friday, June 21, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनटैलेंट मैनेजमेंट कंपनियाँ देती हैं ऑफर, पार्टियों में ट्रे में लेकर घूमते हैं ड्रग्स:...

टैलेंट मैनेजमेंट कंपनियाँ देती हैं ऑफर, पार्टियों में ट्रे में लेकर घूमते हैं ड्रग्स: मुकेश खन्ना और शिल्पा शिंदे ने किए कई चौकाने वाले खुलासे

"मुझे लगता है कि ये 2-4 लोगों का खेल नहीं है, बॉलीवुड में ग्रुप बने हुए है, आज कल पार्टियों में खाना देना बड़ी बात नहीं है, बल्कि बड़ी बात है कौन सा ड्रग्स देते है। कभी-कभी पार्टियों में ट्रे लेकर घूमते है कि आपको कौन सा ड्रग्स चाहिए। ईमानदारी से जाँच हो, ये हमारे यूथ को इफेक्ट कर रहे हैं। इसे छिपाना नहीं जाना चाहिए। आर्टिस्ट को सोचना चाहिए, ये बहुत कड़वी दवाई है।"

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले में ड्रग्स एंगल की जाँच कर रही नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने जब से बॉलीवुड और ड्रग्स कनेक्शन का खुलासा किया है तभी से कई सेलेब्रेटी आमने-सामने आ गए हैं। इसी कड़ी में शक्तिमान फेम मुकेश खन्ना और बिगबॉस फेम शिल्पा सिंदे ने ड्रग्स माफियाओं पर खुलकर अपनी राय दी है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुकेश खन्ना ने युवाओं द्वारा ड्रग्स के इस्तेमाल को लेकर कहा, “न्यू जनरेशन कूल दिखने के लिए ‘ड्रग्स का सेवन’ करते हैं।” बॉलीवुड में ड्रग्स पार्टियों का जिक्र करते उन्होंने बताया, ”मैं कभी उन पार्टियों में गया तो नहीं हूँ लेकिन लोग कहते हैं कि ‘कभी-कभी पार्टियों में ट्रे लेकर घूमते है’ और पूछते हैं कि आपको कौन सा ड्रग्स चाहिए।”

ड्रग्स माफिया गैंग पर खुलासा करते हुए उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि ये 2-4 लोगों का खेल नहीं है, बॉलीवुड में ग्रुप बने हुए है, आज कल पार्टियों में खाना देना बड़ी बात नहीं है, बल्कि बड़ी बात है कौन सा ड्रग्स देते है। कभी-कभी पार्टियों में ट्रे लेकर घूमते है कि आपको कौन सा ड्रग्स चाहिए। ईमानदारी से जाँच हो, ये हमारे यूथ को इफेक्ट कर रहे हैं। इसे छिपाना नहीं जाना चाहिए। आर्टिस्ट को सोचना चाहिए, ये बहुत कड़वी दवाई है।”

मुकेश खन्ना ने आगे कहा, ”शाहरुख ने एक बार कहा था कि हम मसीहा नहीं है, मैं होता तो कहता कि शाहरुख आप मसीहा हो, आपको लोग मानते है फॉलो करते है, लोग गुलशन को नहीं लेकिन शक्तिमान को फॉलो करते है। लोगों को अपनी जिम्मेदारी समझनी चाहिए।”

वहीं इस मामले पर पॉपुलर टीवी एक्ट्रेस शिल्पा सिंदे ने टैलेंट मैनेजमेंट कंपनियों और ड्रग्स में उनके रोल को लेकर चौकाने वाली बात कही है। टाइम्स नाउ के साथ बातचीत में शिल्पा शिंदे ने बताया कि टैलंट मैनेजमेंट कम्पनियाँ जब किसी आर्टिस्ट को देश के बाहर ले जाती हैं तो उसकी हर जरूरत का ख्याल रखती हैं और क्लाइंट भी उन्हें जॉइन करने से पहले मिलने वाली ‘सुविधाओं’ के बारे में पूछते हैं। शिल्पा ने यह दावा भी किया कि अगर क्लाइंट की डिमांड पूरी न की जाए तो फिर वे किसी और मैनेजमेंट कंपनी के पास चले जाने की बात कहते हैं।

शिल्पा ने कहा, “टैलंट मैनेजमेंट कम्पनियाँ जब किसी आर्टिस्ट के पास जाती हैं तो आर्टिस्ट पूछता है कि आप मुझे क्या सुविधाएँ दोगे। लेकिन यह पर्सन टु पर्सन पर डिपेंड करता है। ऐसा नहीं है कि कंपनी बोलेगी कि आपको ये-ये चीजें मिलेंगी। वह एक पर्सन की डिमांड पर निर्भर करता है कि डिमांड क्या है। मैं मैनेजिंग कंपनियों को इसके लिए ब्लेम नहीं करना चाहती। अब क्वॉन वाला तो बाहर आ गया है। पर सिर्फ क्वॉन ही नहीं है ना और भी कई मैनेजमेंट कम्पनियाँ हैं जो आर्टिस्ट को अगर इंडिया के बाहर कहीं लेकर जाती हैं तो उन्हें आर्टिस्ट का ख्याल रखना होता।”

उन्होंने खुद इस बात को उजागर किया उन्होंने कई यंग एक्टर्स को गैरकानूनी काम करते हुए देखा है, बॉलीवुड में ऐसा माहौल ही होता है कि हो सकता है लोग वहाँ के लोगों के साथ में आकर वे ड्रग्स का सेवन करने लगते है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार का 65% आरक्षण खारिज लेकिन तमिलनाडु में 69% जारी: इस दक्षिणी राज्य में क्यों नहीं लागू होता सुप्रीम कोर्ट का 50% वाला फैसला

जहाँ बिहार के 65% आरक्षण को कोर्ट ने समाप्त कर दिया है, वहीं तमिलनाडु में पिछले तीन दशकों से लगातार 69% आरक्षण दिया जा रहा है।

हज के लिए सऊदी अरब गए 90+ भारतीयों की मौत, अब तक 1000+ लोगों की भीषण गर्मी ले चुकी है जान: मिस्र के सबसे...

मृतकों में ऐसे लोगों की संख्या अधिक है, जिन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था। इस साल मृतकों की संख्या बढ़कर 1081 तक पहुँच चुकी है, जो अभी बढ़ सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -