Thursday, May 30, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'यदि मैं छत से लटकी मिली, तो याद रखें कि मैंने आत्महत्या नहीं की...

‘यदि मैं छत से लटकी मिली, तो याद रखें कि मैंने आत्महत्या नहीं की है’ – पायल घोष का डर इंस्टाग्राम पर

"...यदि मैं छत से लटकी हुई पाई जाती हूँ तो याद रखें कि मैंने आत्महत्या नहीं की है। हालाँकि उनके पास डिप्रेशन और ड्रग्स वाले नैरेटिव की कहानी तैयार है।"

पायल घोष ने एक बार फिर अपने आधिकारिक इंस्टाग्राम एकाउंट के जरिए बड़ा बयान दिया है। उन्होंने इनडायरेक्ट तरीके से सुशांत सिंह राजपूत मामले को खुद से जोड़ते हुए अपनी हत्या की आशंका जताई है। साथ ही उन्होंने एक न्यूज़ पोर्टल और अनुराग के कनेक्शन को लेकर भी खुलासा किया है।

पायल घोष ने अपनी तस्वीर को पोस्ट करते हुए लिखा

“मिस्टर अनुराग कश्यप के खिलाफ मैंने एक जाने-माने पोर्टल को इस घटना से जुड़ा एक इंटरव्यू दिया था और बाद में मुझे पता चला कि उन्हें इसके लिए खुद कश्यप से परमिशन चाहिए थी। मेरे देश के लोग, यदि मैं छत से लटकी हुई पाई जाती हूँ तो याद रखें कि मैंने आत्महत्या नहीं की है। हालाँकि उनके पास डिप्रेशन और ड्रग्स वाले नैरेटिव की कहानी तैयार है।”

इस पोस्ट के साथ ही पायल घोष ने दो हैशटैग भी यूज किया – #NotGoingDown #MeToo

बता दें कि अनुराग कश्यप के खिलाफ सेक्शुअल मिसकंडक्ट का आरोप लगाने वाली पायल घोष ने उनके ख‍िलाफ रेप की श‍िकायत दर्ज करवाई है। मंगलवार को वकील के साथ पुलिस स्टेशन पहुँची ऐक्‍ट्रेस ने लिख‍ित श‍िकायत में डायरेक्‍टर के ख‍िलाफ कई अन्‍य गंभीर आरोप लगाए हैं।

अनुराग कश्यप के खिलाफ शिकायत दर्ज होने की जानकारी पायल के वकील नितिन सतपुते ने दी। नितिन सतपुते ने कहा कि पायल घोष के साथ साल 2014 में छेड़छाड़ की गई और अनुराग कश्यप ने घर पर बुरा व्यवहार किया। ऐक्ट्रेस ने पहले शिकायत दर्ज करने की कोशिश की थी, लेकिन उन्हें धमकी दी गई थी। उन पर दबाव डाला गया था कि अगर शिकायत दर्ज करोगी तो बहिष्कार कर दिया जाएगा।

नितिन ने ट्वीट करके बताया था कि अनुराग कश्यप के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवा दी गई है। अब पुलिस द्वारा आगे की जाँच पड़ताल की जा रही है।

अभिनेत्री के वकील नितिन सतपुते ने ट्वीट में लिखा, “कश्यप के खिलाफ दुष्कर्म, गलत इरादे से रोकने और अन्य मामलों में भारतीय दंड संहिता की धारा 376 (I) बलात्कार, 354 (महिला के साथ मारपीट या शील भंग करने के इरादे से आपराधिक बल का प्रयोग), 341(किसी व्यक्ति को गलत तरीके से रोकना), 342 (किसी व्यक्ति को गलत तरीके से प्रतिबंधित करना) के तहत मामला दर्ज किया गया है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

200+ रैली और रोडशो, 80 इंटरव्यू… 74 की उम्र में भी देश भर में अंत तक पिच पर टिके रहे PM नरेंद्र मोदी, आधे...

चुनाव प्रचार अभियान की अगुवाई की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने। पूरे चुनाव में वो देश भर की यात्रा करते रहे, जनसभाओं को संबोधित करते रहे।

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -