Sunday, May 26, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'जज RR खान पर भरोसा नहीं, किसी अन्य मजिस्ट्रेट को ट्रांसफर हो मामला': कंगना...

‘जज RR खान पर भरोसा नहीं, किसी अन्य मजिस्ट्रेट को ट्रांसफर हो मामला’: कंगना ने जावेद अख्तर पर ठोका काउंटर केस

कंगना के वकील रिजवान सिद्दीकी ने पूछा कि कंगना रनौत को मजिस्ट्रेट RR खान ने बार-बार कोर्ट में पेश होने को क्यों कहा और गिरफ़्तारी का वॉरंट जारी करने की धमकी क्यों दी?

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत ने गीतकार जावेद अख्तर के खिलाफ काउंटर केस दायर किया है, जिसके बाद इस मानहानि के मामले में नया ट्विस्ट आ गया है। अपनी शिकायत में कंगना रनौत न जावेद अख्तर को रंगदारी और आपराधिक धमकी देने का आरोपित बनाया है। साथ ही उन्होंने इस मामले को किसी अन्य मजिस्ट्रेट को ट्रांसफर करने का निवेदन किया है। उन्होंने चीफ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट के समक्ष ये मामला दर्ज कराया।

कंगना रनौत अँधेरी के मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट आरआर खान के समक्ष सोमवार (20 सितंबर, 2021) को पेश होते हुईं। इसी अदालत में जावेद अख्तर द्वारा उन पर दर्ज कराए गए मानहानि के मुक़दमे की सुनवाई चल रही है। अपने अधिवक्ता रिजवान सिद्दीकी के जरिए कंगना रनौत ने कहा कि उन्हें बार-बार बिना कोई कारण बताए अदालत से समन भेजा जा रहा था, ऐसे में उनसे पेशी की उम्मीद कैसे की जा सकती है?

रिजवान सिद्दीकी ने कहा कि कंगना रनौत की याचिका को उनकी उपस्थिति के बिना भी दाखिल किया जा सकता है, क्योंकि वो अपने मुवक्किल की जगह अदालत में आ रहे थे। उन्होंने कहा, “मैं एक स्पष्ट बयान दे रहा हूँ। अदालत पर से मेरा विश्वास उठ गया है।” इसीलिए, किसी अन्य मजिस्ट्रेट के समक्ष मामले को स्थानांतरित करने की गुहार लगाई गई है। इसके लिए CMM से तारीख़ की माँग भी की गई है, ताकि अपनी बात रखी जा सके।

कंगना रनौत ने जावेद अख्तर के खिलाफ ‘भारतीय दंड संहिता (IPC)’ की धाराओं (किसी व्यक्ति को क्षति पहुँचाने के आशय से भय में डालना), (जान से मार डालने की धमकी देकर जबरदस्ती वसूली), 503 (किसी के शरीर, लोकप्रियता या संपत्ति को नुकसान पहुँचाने की धमकी) और 506 (आपराधिक धमकी) के तहत FIR दर्ज कराई गई है। अदालत ने 15 नवंबर, 2021 तक सुनवाई स्थगित कर दी है, ताकि काउंटर केस में जावेद अख्तर प्रतिक्रिया दे सकें और उनकी तरफ से बहस की जा सके।

जावेद अख्तर ने कंगना रनौत के खिलाफ IPC की धारा 499 (किसी के मान-सम्मान को क्षति पहुँचाना) और 500 (मानहानि) के तहत मुकदमा दर्ज कराया था। आरोप है कि ‘रिपब्लिक टीवी’ के अर्णब गोस्वामी के साथ एक इंटरव्यू में कंगना रनौत ने जावेद अख्तर को बॉलीवुड के ‘सुसाइड गैंग’ का हिस्सा बताया था, जो कुछ भी कर के बच निकलता है। मजिस्ट्रेट ने कहा था कि अगली तारीख़ पर कंगना रनौत कोर्ट में पेश नहीं होती हैं तो उनके खिलाफ गिरफ़्तारी का वॉरंट जारी किया जाएगा।

जावेद अख्तर पर आरोप है कि उन्होंने कंगना रनौत को धमकी भरे फोन कॉल्स किए और कहा, “तुम आत्महत्या करने के लिए मजबूर हो जाओगी।” वकील रिजवान सिद्दीकी ने पूछा कि कंगना रनौत को मजिस्ट्रेट RR खान ने बार-बार कोर्ट में पेश होने को क्यों कहा और गिरफ़्तारी का वॉरंट जारी करने की धमकी क्यों दी? जावेद अख्तर पर आरोप है कि उन्होंने कंगना रनौत पर हृतिक रौशन से समझौते का भी दबाव बनाया।

कंगना ने पहले इंटरव्यू में कहा था, “जावेद अख्तर ने मुझे अपने घर बुलाया। इसके बाद उन्होंने कहा कि अगर मैं ऋतिक रोशन से माफ़ी नहीं माँगी तो मुझे आत्महत्या करनी पड़ेगी।” जिसके बाद साक्षात्कार ले रहे अर्नब गोस्वामी ने कंगना को जवाब दोहराने के लिए कहा। दूसरी बार भी कंगना ने ठीक वही बात कही। कंगना ने बताया था कि जावेद अख्तर ने उनसे क्या-क्या कहा था, “तुम्हें आत्महत्या करनी पड़ेगी क्योंकि वह तुम्हें जेल में बंद कर देंगे। उन्होंने (ऋतिक रोशन) तुम्हारे खिलाफ़ सारे सबूत इकट्ठा कर लिए हैं। वह समझ चुके हैं कि केस पूरी तरह उनके हाथों में है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सेलिब्रिटियों का ‘तलाक’ बिगाड़े न समाज के हालात… इन्फ्लुएंस होने से पहले भारतीयों को सोचने की क्यों है जरूरत

सेलिब्रिटियों के तलाकों पर होती चर्चा बताती है कि हमारे समाज पर ऐसी खबरों का असर हो रहा है और लोग इन फैसलों से इन्फ्लुएंस होकर अपनी जिंदगी भी उनसे जोड़ने लगे हैं।

35 साल बाद कश्मीर के अनंतनाग में टूटा वोटिंग का रिकॉर्ड: जानें कितने मतदाताओं ने आकर डाले वोट, 58 सीटों का भी ब्यौरा

छठे चरण में बंगाल में सबसे अधिक, जबकि जम्मू कश्मीर में सबसे कम मतदान का प्रतिशत रहा, लेकिन अनंतनाग में पिछले 35 साल का रिकॉर्ड टूटा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -