Sunday, May 29, 2022
Homeविविध विषयमनोरंजनमुग़ल, ब्रिटिश और इटली का ग़ुलाम रहा है भारत, अब मिली असली आज़ादी: कंगना

मुग़ल, ब्रिटिश और इटली का ग़ुलाम रहा है भारत, अब मिली असली आज़ादी: कंगना

कंगना ने पिछली सरकारों पर देश को ग़रीब बनाए रखने का आरोप लगाते हुए 'भारत के लिए' मतदान करने का निवेदन किया।

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत देश से जुड़े मुद्दों पर अपनी बेबाक राय रखने के लिए जानी जाती हैं। मणिकर्णिका फ़िल्म से धमाल मचाने वाली कंगना राजनीतिक मुद्दों पर भी काफ़ी मुखर रही हैं। इसके लिए न जाने कितने ही फ़िल्मी सितारों के निशाने पर आ चुकी कंगना ने बॉलीवुड में वंशवाद के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाकर अपनी ही इंडस्ट्री के लोगों को नाराज़ कर दिया था। अब कंगना रनौत ने ताज़ा बयान दिया है, जिसके कारण सोशल मीडिया पर लोगों ने अलग-अलग रिएक्शन दिए। कंगना ने कहा कि भारत न सिर्फ़ मुग़लों और अंग्रेजों बल्कि इटली का भी ग़ुलाम रहा है। उन्होंने पिछली सरकारों पर देश को ग़रीब बनाए रखने का आरोप लगाते हुए ‘भारत के लिए’ मतदान करने का निवेदन किया।

कंगना ने साफ़-साफ़ कॉन्ग्रेस पार्टी पर आरोप लगाते हुए कहा कि जब तक वो लोग सत्ता में थे तब तक देश में ग़रीबी, भूखमरी और प्रदूषण का माहौल तो था ही, साथ-साथ बलात्कार की घटनाएँ भी बढ़ गई थीं। कंगना ने लोगों से बड़ी संख्या में देश के लिए वोट करने की अपील की। कंगना ने हाल ही में फ़िल्म इंडस्ट्री के लोगों पर राजनीतिक रूप से निष्क्रिय होने और सही चीज़ों के लिए आवाज़ न उठाने का आरोप लगाया था। कंगना इससे पहले भी कई बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का समर्थन कर चुकी हैं और भरोसा जता चुकी हैं कि उनके नेतृत्व में देश के प्रशासन में सुधार आया है, देश विकास के रास्ते पर जा रहा है।

कंगना के ताज़ा बयान पर विवादित फ़िल्म समीक्षक और अभिनेता कमाल आर खान (KRK) बिफ़र गए और पूछा कंगना नशे में थी क्या? केआरके ने गिनाते हुए कहा कि मनमोहन, मोदी और वाजपेयी में से कोई भी इटली के नागरिक नहीं थे। बता दें कि कंगना का इशारा यूपीए अध्यक्ष सोनिया गाँधी की तरफ था। अगर फ़िल्मों की बात करें तो कंगना रनौत की ‘मेन्टल है क्या’ इसी वर्ष रिलीज के लिए तैयार है और इसके बाद वो ‘पंगा’ में नज़र आने वाली हैं। इसके अलावा कंगना अपने करियर की सबसे बड़े फ़िल्मों में से एक में तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता के किरदार में दिखेंगी। कंगना ने कहा था कि वो जयललिता की और अपनी ज़िदगी के बीच कई समानताएँ देखती हैं। जयललिता की बायोपिक तमिल और हिंदी में बनेगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत के मंदिरों की महारानी: केदार से लेकर काशी तक बनवाए मंदिर-भोजनालय-धर्मशाला, मुगलों के किए नुकसान को पाटने वाली अहिल्याबाई होल्कर

बद्रीनाथ में भक्तों के लिए उन्होंने कई भवनों के निर्माण करवाए। 600 वर्षों तक अहिल्याबाई होल्कर का छत्र भगवान जगन्नाथ की शोभा बढ़ाता रहा।

‘8 साल में कोई ऐसा कार्य नहीं किया, जिससे देश का सिर झुके’: गुजरात में दुनिया का पहला ‘नैनो यूरिया प्लांट’, मल्टी स्पेशलिटी अस्पताल...

गुजरात में नरेंद्र मोदी ने कहा कि 8 सालों के पीएम कार्यकाल में उन्होंने गलती से भी ऐसा कोई कार्य नहीं किया, जिससे देश को नीचा देखना पड़े।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
189,679FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe