Sunday, October 17, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजन'ज़ायरा का अकाउंट हैक हो गया था, उसने नहीं कहा बॉलीवुड इस्लाम से दूर...

‘ज़ायरा का अकाउंट हैक हो गया था, उसने नहीं कहा बॉलीवुड इस्लाम से दूर कर देता है’

यह खबर लिखे जाने तक न ही ज़ायरा वसीम के परिवार ने मीडिया से बात कर इस दावे की पुष्टि या इसका खंडन किया है, और न ही पुलिस में अपने अकाउंट के हैक होने के बाबत कोई शिकायत उनके द्वारा दर्ज कराए जाने की बात पता चली है।

ज़ायरा वसीम का प्रकरण ‘फ़िल्मी’ होता जा रहा है। पहले तो महज़ 18 साल की उम्र में उन्होंने इस्लाम के लिए बॉलीवुड को अलविदा कह कर देश को कल चौंका दिया, और अब उनके मैनेजर के हवाले से खबर आ रही है कि उनके इंस्टाग्राम, फेसबुक आदि सोशल मीडिया अकाउंट किसी ने ‘हैक’ कर लिए और ऐसा लिख दिया कि वह इस्लाम का ठीक से पालन करने के लिए फ़िल्में छोड़ रहीं हैं।

मीडिया से कोई बात नहीं, न ही पुलिस शिकायत

लेकिन यह खबर लिखे जाने तक न ही ज़ायरा वसीम के परिवार ने मीडिया से बात कर इस दावे की पुष्टि या इसका खंडन किया है, और न ही पुलिस में अपने अकाउंट के हैक होने के बाबत कोई शिकायत उनके द्वारा दर्ज कराए जाने की बात पता चली है। वह पोस्ट्स भी जस-की-तस उनके इंस्टाग्राम और फेसबुक पर हैं ही।

इन पोस्ट्स में ज़ायरा वसीम ने लिखा था कि इतनी शोहरत और सफलता मिलने के बाद भी वह सच में खुश नहीं हैं। नई जीवनशैली से एडजस्ट करते हुए उन्हें यह अहसास हुआ कि उनके कैरियर ने उनके मज़हब के साथ उनके रिश्ते पर असर डाला है। अपनी दिक्कतों के बारे में बात करते हुए ज़ायरा ने लिखा कि उन्हें तसल्ली केवल अल्लाह और कुरान में मिली। उन्होंने कहा, “कुरान की महान और पाक समझ में मुझे पूर्णता और अमन मिला। दिलों को अमन तभी मिलता है जब वह अपने बनाने वाले, उसकी खासियतें, उसके रहम और उसके हुक्म का इल्म हो जाता है।”

कट्टरपंथियों के निशाने पर रहीं हैं

ज़ायरा के मुताबिक उन्होंने पहला कदम अपनी सच्ची राह के अहसास से उठाया और फिल्मों को अलविदा इसलिए कहा ताकि वह अपने मज़हब पर गौर फरमा सकें। 2017 में ज़ायरा कट्टरपंथी इस्लामियों के निशाने पर आ गईं थीं। उनके अनुसार वह एक ‘प्रदूषित’ माध्यम में काम करतीं थीं, और पूरे सम्प्रदाय के लिए शर्म और बदनामी का सबब थीं। उनके राज्य की तत्कालीन मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती से मिलने के बाद भी वह ट्रोलों के निशाने पर आ गईं थीं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,125FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe