Thursday, June 13, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनमुनव्वर फारुकी का मुंबई शो भी रद्द, VHP ने हिन्दू धर्म और देवी-देवताओं का...

मुनव्वर फारुकी का मुंबई शो भी रद्द, VHP ने हिन्दू धर्म और देवी-देवताओं का मजाक उड़ाने पर ‘कॉमेडियन’ को चेताया था

"विहिप/बजरंग दल सभी स्वघोषित स्टैंड अप कॉमेडियनों को सख्त चेतावनी देते हैं जो हमारे महान हिंदू धर्म, संतों या हमारे अतीत के गौरवशाली नायकों का उपहास, परिहास या मजाक उड़ाते हैं, हम उन्हें कानूनी तौर पर एक बड़ा सबक सिखाएँगे।"

कॉमेडी के नाम पर हिन्दू धर्म और देवी देवताओं का मजाक उड़ाने वाले मुनव्वर फारुकी का मुंबई में होने वाला कार्यक्रम भी रद्द हो गया है। विश्व हिंदू परिषद (विहिप) की चेतावनी के बाद, भारी विरोध को देखते हुए मुनव्वर फारूकी ने अक्टूबर, 2021 में होने वाले अपने शो को रद्द कर दिया है। हाल ही में गुजरात में शो के आयोजकों के पीछे हटने से रद्द हुए प्रोग्राम से सबक लेते हुए फारुकी ने इस बार ‘दर्शकों की सुरक्षा’ का हवाला देते हुए शो रद्द होने की सूचना खुद ही अपने इंस्टा पोस्ट में दी।

फारूकी ने अपने इंस्टाग्राम हैंडल पर एक पोस्ट करते हुए लिखा, “आगामी मुंबई शो 29, 30, 31 अक्टूबर 2021 रद्द कर दिए गए हैं। दर्शकों की सुरक्षा मेरे लिए सबसे ज्यादा मायने रखती है। मैं नहीं चाहता कि मेरे दर्शक मेरे अनुभव से गुजरें।”

वहीं ताजा घटनाक्रमों पर प्रतिक्रिया देते हुए, विहिप के प्रवक्ता शिरीष नायर ने स्टैंडअप कॉमेडियन को हिंदू धर्म और संतों के खिलाफ कोई भी अपमानजनक टिप्पणी न करने की चेतावनी दी।

नायर ने अपने ट्वीट में लिखा, “विहिप/बजरंग दल सभी स्वघोषित स्टैंड अप कॉमेडियनों को सख्त चेतावनी देते हैं जो हमारे महान हिंदू धर्म, संतों या हमारे अतीत के गौरवशाली नायकों का उपहास, परिहास या मजाक उड़ाते हैं, हम उन्हें कानूनी तौर पर एक बड़ा सबक सिखाएँगे।”

स्टैंडअप कॉमेडियन पर नायर के बयान का जवाब देते हुए, विहिप के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल ने भी कहा, “हिंदू समाज सिर्फ मूकदर्शक बन कर नहीं रह सकता।”

बता दें कि फारूकी के लगातार हिन्दू-देवी देवताओं का मजाक बनाने के कारण उसका व्यापक स्तर पर विरोध कई हिन्दू संगठनों द्वारा शुरू किया गया था जिन्होंने #GoBackMunawar को ट्रेंड कराना शुरू कर दिया था। उस समय कई वीडियो शेयर कर लोगों ने देश को बताया कि कॉमेडियन के सभी शो ‘हिंदू विरोधी’ थे और उसके शो का कंटेंट हिन्दुओं की धार्मिक भावनाओं को आहत करने वाली सामग्री से भरा है।

वहीं उत्तर गुजरात बजरंग दल के ज्वालित मेहता ने भी चेतावनी दी कि कैसे वे गुजरात में फारूकी के किसी भी शो को नहीं होने देंगे। उन्होंने कहा था, ‘मैं यह बात आयोजकों से कह रहा हूँ। उनके सारे शो रद्द कर दो। यदि आप नहीं करते हैं, तो- वित्तीय, शारीरिक और मानसिक तौर पर परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहें।”

गौरतलब है कि इससे पहले सूरत में मुनव्वर फारूकी के ‘कॉमेडी’ शो के आयोजन से कार्यक्रम के आयोजक 2जोकर्स एंटरटेनमेंट के हटने के बाद उसका पूरा गुजरात दौरा ही रद्द कर दिया गया था। फारुकी के शो सूरत, अहमदाबाद और वडोदरा में क्रमशः 1, 2 और 3 अक्टूबर को होने वाले थे।

बता दें कि मार्च 2020 में YouTube पर अपलोड किए गए एक वीडियो में मुनव्वर फारूकी ने 2002 के गोधरा नरसंहार का मज़ाक उड़ाया, जहाँ अयोध्या से लौट रहे 58 हिंदुओं को मुस्लिम भीड़ ने जिंदा जला दिया था। सोशल मीडिया पर वायरल हुई क्लिप में उसे कॉमेडी के नाम पर मजाक उड़ाते हुए देखा जा सकता है। उसपर अपने ‘कॉमेडी’ शो के नाम पर हिंदुओं की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचाने का भी आरोप है। जिसे मध्य प्रदेश के इंदौर में जनवरी 2021 में मुनरो कैफे में आयोजित किया गया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -