Saturday, July 13, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनजो आपने देखा, वो तो दूसरा हिस्सा था... प्रीक्वल होगी 'कांतारा' सीरीज की अगली...

जो आपने देखा, वो तो दूसरा हिस्सा था… प्रीक्वल होगी ‘कांतारा’ सीरीज की अगली फिल्म, ऋषभ शेट्टी ने किया ऐलान: रहस्यों पर रिसर्च में लगी है टीम

उन्होंने जानकारी दी कि 'कांतारा' के प्रीक्वल को लेकर रिसर्च अभी शुरुआती चरण में ही है और इसीलिए इस संबंध में अधिक जानकारी देना संभव नहीं है।

दक्षिण भारतीय फिल्मों के दर्शकों के लिए एक अच्छी खबर है। सितंबर 2022 में आई कन्नड़ फिल्म ‘कांतारा’ के लेखक-निर्देशक-मुख्य अभिनेता ऋषभ शेट्टी ने इसके प्रीक्वल का ऐलान किया है। इसका मतलब है कि 2024 में रिलीज होने वाला ‘कांतारा’ के दूसरे भाग में असल में इससे पहले की कहानी दिखाई जाएगी। ‘कांतारा’ ने बॉक्स ऑफिस पर 100 दिन पूरे किए हैं। इसी अवसर पर ऋषभ शेट्टी ने इसके प्रीक्वल की घोषणा की।

बता दें कि ‘कांतारा’ ने दुनिया भर में 100 करोड़ रुपए से भी अधिक का कलेक्शन किया है। अब उन्होंने खुलासा किया है कि ये तो असल में कहानी का दूसरा हिस्सा था और पहला हिस्सा तो अब दिखाया जाएगा। उन्होंने कहा कि ‘कांतारा’ के कई रहस्य सामने आने बाकी हैं, ऐसे में इसकी शूटिंग के दौरान ही उन्हें प्रीक्वल का आईडिया आ गया था। हालाँकि, इस मामले में और विवरण जुटाए जा रहे हैं और आधा काम ही हो पाया है।

उन्होंने जानकारी दी कि ‘कांतारा’ के प्रीक्वल को लेकर रिसर्च अभी शुरुआती चरण में ही है और इसीलिए इस संबंध में अधिक जानकारी देना संभव नहीं है। इस फिल्म का निर्माण भी ‘Homable Films’ के बैनर तले ही होगा, जिसने ‘KGF 2’ और ‘कांतारा’ का निर्माण किया था। ये प्रोडक्शन हाउस प्रभास की ‘सालार’ का निर्माण भी कर रहा है। अगले कुछ वर्षों में कंपनी हजारों करोड़ रुपयों के कई फिल्मों का निर्माण करने वाली है।

‘कांतारा 2’ का बजट भी ‘कांतारा’ से ज़्यादा होगा, जो मात्र 16 करोड़ रुपए में बन गई थी। साथ ही फिल्म का प्रीक्वल और भव्य भी होने वाला है। ‘कांतारा’ के बारे में बता दें कि ‘KGF 2’ के बाद सबसे ज्यादा कमाई करने वाली कन्नड़ फिल्म है। ‘कांतारा’ में ‘शिवा’ के रहस्यमयी पिता के बारे में ज्यादा नहीं बताया गया था, कि उनकी कहानी क्या थी। इसीलिए, अगले हिस्से में इस फिल्म के कई किरदारों की पिछली कहानी दिखाई जाएगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

तिब्बत को संरक्षण देने के लिए अमेरिका ने बनाया कानून, चीन से दो टूक – दलाई लामा से बात करो: जानिए क्या है उस...

14वें दलाई लामा 1959 में तिब्बत से भागकर भारत आ गये, जहाँ उन्होंने हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में निर्वासित सरकार स्थापित की थी।

बिहार में निर्दलीय शंकर सिंह ने जदयू-राजद को हराया, बंगाल में 25 साल की मधुपूर्णा बनीं MLA, हिमाचल में CM सुक्खू की पत्नी जीतीं:...

उप-मुख्यमंत्री व भाजपा नेता विजय सिन्हा ने कहा कि शंकर सिंह भी हमलोग से ही जुड़े हुए उम्मीदवार थे। 'नॉर्थ बिहार लिबरेशन आर्मी' के थे मुखिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -