Monday, May 20, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनफिल्म 'कबीर सिंह' में काम करने पर आदिल हुसैन ने जताया अफसोस, बोले 'एनिमल'...

फिल्म ‘कबीर सिंह’ में काम करने पर आदिल हुसैन ने जताया अफसोस, बोले ‘एनिमल’ के डायरेक्टर रेड्डी वांगा- लालची, तुम्हारा चेहरा बदल दूँगा

संदीप वांगा ने अपने ऑफिशियल एक्स अकाउंट पर ट्वीट करके आदिल हुसैन के लिए लिखा है- "30 कला फिल्मों के विश्वास ने आपको इतनी पॉपुलैरिटी नहीं दिलाई होगी, जो एक ब्लॉकबस्टर के अफसोस (कबीर सिंह) ने आपको दिलाई है।"

हाल में फिल्म अभिनेता आदिल हुसैन ने एक इंटरव्यू में कहा था कि ‘कबीर सिंह’ करना उनके जीवन की सबसे बड़ी गलती थी और इसका उन्हें बहुत अफसोस है। उनके इस इंटरव्यू की वीडियो सार्वजिनक प्लेटफॉर्म्स पर वायरल होने के बाद अब फिल्म के डायरेक्टर संदीप रेड्डी वांगा ने इस पर प्रतिक्रिया दी है।

संदीप ने अपने ऑफिशियल एक्स अकाउंट पर ट्वीट कर लिखा है- “30 कला फिल्मों के विश्वास ने आपको इतनी पॉपुलैरिटी नहीं दिलाई होगी, जो एक ब्लॉकबस्टर के अफसोस ने आपको दिलाई है।” वांगा ने आगे तीखे शब्दों में आदिल की आलोचना करते हुए कहा, “मुझे तुम्हें कास्ट करने का अफसोस है, ये जानते हुए भी कि तुम्हारा लालच, जुनून से काफी हद तक बड़ा है। अब AI की सहायता से आपके फेस को फिल्म में बदलकर आपको शर्म से बचाऊँगा। मुझे लगता है अब आपके लिए सब ठीक होगा।”

बता दें कि कबीर सिंह फिल्म साल 2019 में आई थी। ये तेलुगु फिल्म अर्जुन रेड्डी की रीमेक है। इस मूवी ने बॉक्स ऑफिस पर अपार सफलता हासिल की थी और 278 करोड़ का बंपर कलेक्शन किया था। इस फिल्म में आदिल हुसैन ने कॉलेज डीन का रोल अदा किया था। अब पाँच साल बाद उन्होंने इस रोल पर एक इंटरव्यू में टिप्पणी की।

फिल्म करने पर अफसोस जताते हुए उन्होंने वीडियो में कहा कि शुरुआत में उन्होंने टाइम की कमी की वजह से फिल्म करने से मना कर दिया था। बाद में मेकर्स ने उन्हें सीन भेजा तो उन्होंने मेकर्स से पूरी स्क्रिप्ट माँगी लेकिन मेकर्स ने उन्हें तेलुगु फिल्म अर्जुन रेड्डी, जिसपर कबीर सिंह बेस्ड है उसकी स्क्रिप्ट भेजी। आदिल कहते हैं कि उन्हें स्क्रिप्ट देखने का टाइम नहीं मिला, इसलिए उन्होंने मैनेजर से फिल्म के लिए मेकर्स से ज्यादा पैसे माँगने के लिए कहा, जिससे वह खुद ही उन्हें कास्ट करने से मना कर दें, लेकिन उनका ऑफर एक्सेप्ट हो गया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

J&K के बारामुला में टूट गया पिछले 40 साल का रिकॉर्ड, पश्चिम बंगाल में सर्वाधिक 73% मतदान: 5वें चरण में भी महाराष्ट्र में फीका-फीका...

पश्चिम बंगाल 73% पोलिंग के साथ सबसे आगे है, वहीं इसके बाद 67.15% के साथ लद्दाख का स्थान रहा। झारखंड में 63%, ओडिशा में 60.72%, उत्तर प्रदेश में 57.79% और जम्मू कश्मीर में 54.67% मतदाताओं ने वोट डाले।

भारत पर हमले के लिए 44 ड्रोन, मुंबई के बगल में ISIS का अड्डा: गाँव को अल-शाम घोषित चला रहे थे शरिया, जिहाद की...

साकिब नाचन जिन भी युवाओं को अपनी टीम में भर्ती करता था उनको जिहाद की कसम दिलाई जाती थी। इस पूरी आतंकी टीम को विदेशी आकाओं से निर्देश मिला करते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -