Thursday, September 29, 2022
Homeविविध विषयमनोरंजनRSS पर फिल्म और वेब सीरीज बनाएँगे SS राजामौली के सांसद पिता, कहा -...

RSS पर फिल्म और वेब सीरीज बनाएँगे SS राजामौली के सांसद पिता, कहा – संघ न होता तो कश्मीर बन जाता Pak का हिस्सा, मारे जाते लाखों हिन्दू

"मुझे काफी पश्चाताप हुआ कि मैं इतने महान संगठन से अब तक परिचित नहीं था। अगर RSS नहीं होता तो आज कश्मीर भी नहीं होता। पाकिस्तान की वजह से लाखों हिन्दू मारे जाते।"

महशूर लेखक व राज्यसभा सांसद वी विजयेंद्र प्रसाद ने ‘राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS)’ पर वेब सीरीज बनाने की घोषणा की है। वो SS राजामौली के पिता हैं। उन्होंने बताया कि RSS पर वो फिल्म और वेब सीरीज, दोनों ही बनाने जा रहे हैं। विजयवाड़ा में मंगलवार (16 अगस्त, 2022) को आयोजित एक कार्यक्रम में उन्होंने ये ऐलान किया। इस पुस्तक लॉन्च कार्यक्रम में संघ नेता राम माधव भी मौजूद थे। विजयेंद्र प्रसाद ने कहा कि RSS को लेकर उनकी सोच पहले सकारात्मक नहीं थी, लेकिन अब वो इस संगठन के कायल हैं।

इससे पहले 2018 में खबर आई थी कि वी विजयेंद्र प्रसाद RSS पर एक फिल्म लिखने वाले हैं, जिसमें इनके संस्थापक केबी हेडगेवार के अलावा संगठन के अन्य नेताओं के जीवन को भी दिखाया जाएगा। अब उन्होंने राम माधव की पुस्तक ‘Partitioned Freedom’ के लॉन्च कार्यक्रम में विजयवाड़ा के KVSR सिद्धार्थ फर्मास्युटिकल साइंस कॉलेज में नया ऐलान किया। उन्होंने कहा कि 3-4 वर्ष पहले तक वो RSS के बारे में ज्यादा नहीं जानते थे और समझते थे कि महात्मा गाँधी की हत्या में इसका हाथ है।

उन्होंने कहा, “4 साल पहले मुझे RSS पर फिल्म लिखने को कहा गया। चूँकि इसके लिए मुझे रुपए मिले थे, इसीलिए मैंने नागपुर जाकर मोहन भागवत से मुलाकात भी की। मैं वहाँ 1 दिन रुका और पहली बार देखा-समझा कि RSS क्या है और कैसे काम करता है। मुझे काफी पश्चाताप हुआ कि मैं इतने महान संगठन से अब तक परिचित नहीं था। अगर RSS नहीं होता तो आज कश्मीर भी नहीं होता। पाकिस्तान की वजह से लाखों हिन्दू मारे जाते।”

SS राजामौली के 80 वर्षीय पिता ने बताया कि 2 महीने में उन्होंने कहानी लिख दी, जिससे मोहन भागवत खुश भी थे। ‘मगधीरा (2009)’, बाहुबली सीरीज (2015, 2017), राउडी राठौड़ (2012), ‘बजरंगी भाईजान (2015)’ ‘मणिकर्णिका (2019)’ और ‘RRR (2022)’ जैसी ब्लॉकबस्टर फिल्म लिख चुके वरिष्ठ लेखक ने कहा कि RSS ने सिर्फ एक गलती की और वो ये है कि लोगों को अपने काम के बारे में नहीं बताया। उन्होंने कहा कि उनके प्रयास के बाद लोग गर्व से इसकी महानता की चर्चा करेंगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘क्या कंडोम भी देना पड़ेगा मुफ्त’: IAS अफसर की विवादित टिप्पणी पर महिला आयोग ने 7 दिन में जवाब माँगा, बिहार छात्राओं के ‘सैनिटरी...

IAS हरजोत कौर ने कहा था, “बेवकूफी की भी हद होती है। मत दो वोट। चली जाओ पाकिस्तान। वोट तुम पैसों के लिए देती हो क्या।”

‘सरकारी अधिकारी से लेकर PHD होल्डर, लाइब्रेरियन से लेकर तकनीशियन तक’: PFI में शामिल थे कई नामी लोग; ट्विटर ने अकॉउंट बंद किया, वेबसाइट...

प्रतिबंधित PFI के शीर्ष पदों को पूर्व सरकारी कर्मचारी, लाइब्रेरियन और पीएचडी होल्डर संभाल रहे थे। अब इसके सोशल मीडिया अकॉउंट बंद हो गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
225,049FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe