Wednesday, May 25, 2022
Homeविविध विषयमनोरंजन'वाहियात सवाल पर भड़क जाता हूँ': जॉन अब्राहम ने बताया क्यों कश्मीर फाइल्स वाले...

‘वाहियात सवाल पर भड़क जाता हूँ’: जॉन अब्राहम ने बताया क्यों कश्मीर फाइल्स वाले प्रश्न पर गुस्साए, कहा – मैं बड़े पर्दे का हीरो

उन्होंने कहा कि हमें इन चीजों की ज़रूरत नहीं है और हम सब इंसान ही हैं, लेकिन जब उनसे 'वाहियात सवाल' किए जाते हैं तो वो सचमुच भड़क जाते हैं।

हाल ही में जब अभिनेता जॉन अब्राहम से ‘द कश्मीर फाइल्स’ को लेकर सवाल पूछा गया था, तब उन्होंने उलटा पत्रकार को ही डाँट डाला था। उन्होंने अब ‘अटैक’ के प्रमोशन के दौरान इस तरह आपा खोने के पीछे कारण बताया है। जॉन अब्राहम ने दावा किया कि जब कोई उनसे बेहूदे सवाल करता है तो उनका दिमाग खराब हो जाता है। उन्होंने दावा किया, “मैं आपको जर्नलाइज नहीं कर रहा हूँ लेकिन कई बार आप (प्रेस में कुछ लोग) लोग बहुत बेवकूफी भरे सवाल पूछते हैं।”

उन्होंने कहा कि हमें इन चीजों की ज़रूरत नहीं है और हम सब इंसान ही हैं, लेकिन जब उनसे ‘वाहियात सवाल’ किए जाते हैं तो वो सचमुच भड़क जाते हैं। उन्होंने कहा कि विज्ञापन और मार्केटिंग की जाती है, लेकिन फिल्म का असली प्रमोशन फिल्म ही होती है। उन्होंने कहा कि सामान्य तौर पर मीडिया काफी सहायक होती है, लेकिन उसे फिल्म को लेकर जागरूक करना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि फिल्म अच्छी होगी तो चलेगी, वरना काम नहीं करेगी।

जब जॉन अब्राहम से पूछा गया कि क्या वो OTT के लिए डेब्यू करने जा रहे हैं तो उन्होंने कहा कि 299 रुपए के लिए वो ऐसा कभी नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि ये काफी कठिन है। ‘अटैक’ अभिनेता ने कहा, “इसके साथ कुछ भी गलत नहीं है, लेकिन मैं इसके लिए अभी तैयार नहीं हूँ, शायद भविष्य में ये हो। मैं खुद को बड़े पर्दे पर ही देखना चाहता हूँ। क्या मैं बड़े पर्दे पर असफल हो जाऊँगा? मैं वहाँ असफल भी रहा तो मुझे इसका गम नहीं। लेकिन, अभी जॉन अब्राहम बिग स्क्रीन का हीरो है।”

याद हो कि जर्नलिस्ट ने जब निर्देशक विवेक अग्निहोत्री की फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ पर अभिनेता की राय माँगी थी, तो पहले उन्होंने उसे अनसुना कर दिया। फिर जॉन ने कहा था कि उन्होंने यह फिल्म नहीं देखी है और उनके पास इसके बारे में कहने के लिए कुछ नहीं है। बाद में उन्होंने इवेंट में मौजूद मीडियाकर्मियों से कहा था कि वह यहाँ ‘अटैक’ के बारे में बात करने आए थे और उनको फिल्म से जुड़े सवाल पूछने चाहिए। उन्होंने यह भी कहा था, “न्यूज डेस्क पर आपसे कंट्रोवर्सी लाने के लिए कहा जाता है, फिर आप यहाँ आकर कहते हैं – ‘हमें कश्मीर फाइल्स के बारे में कुछ बताएँ।’ मैं ऐसा क्यों करूँगा?”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

काशी के बाद अब मंगलुरु में मस्जिद के नीचे मिला हिन्दू मंदिर! हिन्दुओं ने किया पूजा-पाठ: ASI सर्वे की माँग, धारा-144 लागू

कर्नाटक के मंगलुरू में मंदिर जैसी संरचना मिली, जिसके बाद VHP और बजरंग दल ने इलाके में 'तंबुला प्रश्ने' अनुष्ठान किया। भाजपा MLA ने कहा कि...

‘मुस्लिम छात्रों के झूठे आरोपों पर अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी ने किया निलंबित’: हिन्दू छात्र का आरोप – मिली धर्म ने समझौता न करने की...

तिवारी और उनके दोस्तों को कॉलेज में सार्वजनिक रूप से संघी, भाजपा के प्रवक्ता और भाजपा आईटी सेल का सदस्य कहा जाता था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
188,790FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe